scorecardresearch
 
भारत

नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें

नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 1/10
आज नोटबंदी को एक साल पूरा हो रहा है. पिछले साल प्रधानमंत्री द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी का ऐलान करने के बाद कई तरह के सच और झूठ का दौर चला था. इसके साथ ही नेता मंत्रियों के कई ऐसे बयान भी आए जिनमें से कुछ सच तो कुछ झूठे साबित हुए. aajtak.in आज आपको 9 ऐसे सच और झूठ बता रहा है जो नोटबंदी के बाद चर्चा में रहे.  

नोटबंदी के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि नोटबंदी के कदम से कालाधन भारत में वापस आएगा और आतंकवाद भी खत्म होगा. लेकिन सच तो यह है कि नोटबंदी के बावजूद कोई कालाधन वापस नहीं आया और ना ही नकली नोटों का चलन बंद हुआ. सबसे बड़ी बात तो यह कि आरबीआई के पास उसका पूरा पैसा वापस आ गया, काले धन की दूर- दूर तक बात नहीं हुई.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 2/10
जनधन खातों का राग अलापने वाली मोदी सरकार के लिए नोटबंदी के बाद खातों का कम होना बड़ा सवाल खड़ा करता है. वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 2014 में जीरो बैलेंस अकाउंट 76.81% थे. उस वक्त सरकार को अनुमान था कि नोटबंदी के बाद इन खातों में पैसे आयेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. बल्कि अगस्त 2017 में जनधन खाते 21.41% हो गए और इसका प्रतिशत घटते ही जा रहा है.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 3/10
नोटबंदी के वक्त वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि अर्थव्यवस्था में सुधार दिखेगा. सरकार यह अनुमान लगा रही थी कि इस कदम से जीडीपी ग्रोथ रेट बढ़ेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. 7.1% जीडीपी ग्रोथ रेट का सरकार को अनुमान था जो फिसलकर 5.7% हो गया. यही नहीं, आरबीआई भी ग्रोथ रेट आने वाले समय में और कम होने की बात कह रही है.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 4/10
नोटबंदी के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि 500 और 1000 के नोट कागज़ के टुकड़े हो जायेंगे. इसे बारे में अटॉर्नी जानकर मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि 15 लाख करोड़ में से 10 से 11 लाख करोड़ रूपए सरकार के पास वापस लौटेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. सच तो यह है कि आरबीआई के पास 99 प्रतिशत नोट वापस आ गए.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 5/10
बैंक में जमा हो रहे 500 और 1000 रूपए के नोटों को लेकर यह अफवाह उड़ी थी कि आरबीआई के पास इतने नोट आ रहे हैं कि उन्हें गिनती करने में मशीनें खराब हो रही हैं. जबकि एक आरटीआई में यह खुलासा हुआ था कि नोट गिनने के लिए मशीनों का इस्तेमाल हुआ ही नहीं. बाद में आरबीआई ने बताया कि वो 66 करंसी वेरिफिकेशन मशीनें इस्तेमाल कर रही है.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 6/10
नोट में नैनो चिप्स को लेकर भी जमकर अफवाह उड़ी थी. कई न्यूज चैनल में भी यह खबर आई थी कि नोटों में नैनो चिप्स लगे हैं जो पैसे छिपाने वालों को पकड़ सकेगी. लेकिन सच तो यह है कि किसी तरह की नैनो चिप्स ना तो नोटों में लगी है और ही सरकार ने इस तरह की कोई बात कही है.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 7/10
यह भी अफवाह नोटबंदी के वक्त उड़ी थी कि सोने को सरकार लोहा घोषित करने वाली है और इन्हें जब्त कर लेगी. इस अफवाह से हालात तो यह बने कि सरकार को यह विज्ञप्ति जारी करनी पड़ी की सरकार सोना जब्त नहीं करेगी और ना ही किसी तरह की घोषणा की जायेगी.


नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 8/10
5 और 10 के सिक्कों को लेकर भी अफवाह नोटबंदी के समय जोरों पर थी कि सिक्के बंद हो जाएंगे. हालात यह बन गए थे कि बाजारों में सिक्के चलने बंद हो गए थे. लेकिन सरकार ने ऐसा कोई नियम जारी नहीं किया.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 9/10
2000 रूपए के नोटों के रंग उतरने की खबर भी सोशल मीडिया पर छाई रही. इस पर कई वीडियो भी बने, लेकिन रंग छोड़ने की खबर झूठी निकली. नोटों ने किसी तरह का रंग नहीं छोड़ा.
नोटबंदी से जुड़े 10 सच और झूठ, हैरान कर देंगी ये बातें
  • 10/10
प्लास्टिक के नोटों की अफवाह भी उड़ी थी. इसके साथ यह भी मैसेज शेयर किया गया था कि नोटों में आग नहीं लगेगी. इस अफवाह में कई लोगों ने तो लोगों को आग तक लगा दी. हालांकि, यह बात झूठी निकली कि नोटों में आग नहीं लगेगी.