scorecardresearch
 

अब SpiceJet की दुबई-मदुरै फ्लाइट में तकनीकी खराबी, 24 दिन में सामने आई 9वीं घटना

DGCA के अधिकारियों ने बताया कि स्पाइसजेट के फ्लाइट नंबर VT-SZK वाले बोइंग B737 मैक्स विमान ने मंगलुरु से दुबई के लिए उड़ान भरी थी. फ्लाइट लैंड करने के बाद एक इंजीनियर ने उसका निरीक्षण किया तो नोज व्हील स्ट्रेट (सामने वाला पहिया) पर सामान्य के मुकाबले ज्यादा दबाब में नजर आया.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यात्रियों के लिए मुंबई से दूसरा विमान भेजा गया
  • नोज व्हील में सामने आई तकनीकी खराबी
  • इंजीनियर ने निरीक्षण के दौरान पकड़ी खामी

स्पाइसजेट (SpiceJet) की फ्लाइट्स में तकनीकी खराबी का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है. पिछले 24 दिनों में SpiceJet के 9 विमानों में इस तरह की समस्याएं सामने आ चुकी हैं. इनमें से कुछ की इमरजेंसी लैंडिंग तक करवानी पड़ी है. ताजी घटना कंपनी की दुबई-मदुरै फ्लाइट में सामने आई. एयरक्राफ्ट के नोज व्हील (Nose Wheel) या सामने वाले पहिए में खराबी आने के बाद यात्रियों को दूसरे प्लेन में भेजना पड़ा. इस परेशानी के कारण फ्लाइट में देरी भी हो गई.

नागरिक उड्डयन (Civil Aviation) महानिदेशालय के अधिकारियों के मुताबिक, 'स्पाइसजेट की बोइंग B737 मैक्स फ्लाइट में सोमवार को दिक्कत सामने आई. DGCA के अधिकारियों ने बताया कि फ्लाइट नंबर VT-SZK वाले बोइंग B737 मैक्स विमान ने मंगलुरु से दुबई के लिए उड़ान भरी थी. फ्लाइट लैंड करने के बाद एक इंजीनियर ने उसका निरीक्षण किया.

जांच में पाया गया कि नोज व्हील स्ट्रेट (सामने वाला पहिया) पर सामान्य के मुकाबले ज्यादा दबाब था. इंजीनियर ने विमान से फिलहाल आगे उड़ाए न भरने की सलाह दी. खराबी सामने आने के बाद एयरलाइन ने दुबई-मदुरै उड़ान के यात्रियों के लिए मुंबई से दुबई के लिए एक और विमान भेजा.

इस मामले में स्पाइसजेट ने भी बयान जारी किया. एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा, 'दुबई से मदुरै के लिए चलने वाली स्पाइसजेट की फ्लाइट SG23 अंतिम समय में तकनीकी समस्या के कारण देरी से चल रही थी. इसलिए वैकल्पिक विमान की व्यवस्था की गई, जिससे यात्री वापस भारत आए'.

प्रवक्ता ने आगे कहा कि उड़ान में देरी किसी भी एयरलाइन में हो सकती है. बताया जा रहा है कि व्हील स्ट्रट में नाइट्रोजन की कमी या अंदरूनी सील में नुकसान के कारण तकनीकी समस्या हो सकती है. लैंडिंग गियर की जांच के बाद ही सही कारण पता लगाया जा सकेगा.

स्पाइसजेट को मिल चुका है नोटिस

बता दें कि इससे पहले कंपनी के प्लेन में तकनीकी खराबी की 8वीं शिकायत सामने आने के बाद DGCA ने 6 जुलाई को स्पाइसजेट को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. नोटिस में कहा गया था कि बजट एयरलाइन सुरक्षित, कुशल और विश्वसनीय हवाई सेवा स्थापित करने में विफल रही है. इससे पहले 2 जुलाई को जबलपुर जाने वाली स्पाइसजेट की एक फ्लाइट के क्रू मेंबर्स के केबिन में धुंआ देखा गया था. तब फ्लाइट करीब 5,000 फीट की ऊंचाई पर थी. किसी अनहोनी की आशंका के चलते फ्लाइट वापस दिल्ली लौट आई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें