scorecardresearch
 

मूसेवाला की सिक्योरिटी वापस होते ही एक्टिव हो गए थे शूटर्स, अगले ही दिन मर्डर, चार्जशीट में कई दावे

Sidhu Musewala Case Charge Sheet: सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस में मानसा पुलिस ने अदालत में चार्जशीट फाइल कर दी है. चार्जशीट के मुताबिक, गोल्डी बराड़ ने 28 मई को शूटर को जानकारी दी थी कि सिद्धू की सिक्योरिटी वापस ले ली गई है और 29 मई को शूटर्स को कत्ल करने के लिए जल्दी जाने के लिए कहा था.

X
सिद्धू मूसेवाला (फाइल फोटो)
सिद्धू मूसेवाला (फाइल फोटो)

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस में मानसा पुलिस ने अदालत में चार्जशीट फाइल कर दी है. चार्जशीट में लिखा गया है कि आरोपियों ने वारदात के बाद हथियार मानसा से 1 किलोमीटर के घेरे में दबाकर रखे हुए थे. इसके साथ ही बताया गया है कि गिरफ्तार आरोपी कनाडा में मौजूद आरोपी गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई से सिगनल ऐप के माध्यम से बातचीत करते थे.  

चार्जशीट के मुताबिक, जिस फोन से गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई से बातचीत हुई वह फोन एक भट्ठे में जलाने की बात आरोपियों ने कबूल की है. सिद्धू की कोठी के बाहर से रेकी करने वाले आरोपी मनमोहन सिंह मोहना ने इन्वेस्टिगेशन में बताया कि उसने रेकी भी की थी और शार्प शूटरों को पनाह भी दी थी. मनमोहन मानसा की जेल से जग्गू भगवानपुरिया और लॉरेंस बिश्नोई से बातचीत करता था. 

चार्जशीट में सबसे चौंकाने वाली बात है कि पुलिस को दीपक मुंडी के पिता का नाम और उसका पता मालूम नहीं है. ये स्पष्ट लिखा है कि दीपक मुंडी के पिता और उसका एड्रेस नहीं मालूम है. 

गोल्डी बराड़ ने दी थी सिक्योरिटी हटाने की जानकारी

चार्जशीट के मुताबिक, गोल्डी बराड़ ने 28 मई को शूटर को जानकारी दी थी कि सिद्धू की सिक्योरिटी वापस ले ली गई है और 29 मई को शूटर्स को कत्ल करने के लिए जल्दी जाने के लिए कहा था. इसके बाद शूटर प्रियव्रत फौजी, केशव कुमार, अंकित सिरसा, दीपक मुंडी और कशिश उर्फ कुलदीप फतेहाबाद साइड से बुलरो और अल्टो गाड़ी और मनप्रीत सिर्फ उर्फ मनी और जगरूप सिंह उर्फ रूपा करोला गाड़ी में हथियारों समेत मानसा आए थे.  

29 मई को हुई सिद्धू मूसेवाला की हत्या 

29 मई, 2022 को पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री के सिंगर मूसेवाला का 28 साल की उम्र में मर्डर कर दिया गया था. सिंगर पर हमले की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ ने ली थी. सिद्धू मूसेवाला के मर्डर की प्लानिंग काफी समय पहले की गई थी. जिसे 29 मई को अंजाम दिया गया. दिनदहाड़े हुई इस वारदात ने सभी को चौंका दिया. अस्पताल जाते जाते सिद्धू मूसेवाला की सांसें रूक गई थीं.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें