scorecardresearch
 

अवैध मजारों पर एक्शन, मदरसों पर रोक... बीजेपी CMs ने RSS के कार्यक्रम में गिनाईं अपनी प्राथमिकताएं

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) से जुड़े एक कार्यक्रम में बीजेपी शासित राज्यों के सीएम शामिल हुए. यहां उन्होंने अपने कामकाज और प्राथमिकताओं पर बात की.

X
सीएम योगी आदित्यनाथ और सीएम पुष्कर धामी (फाइल फोटो)
सीएम योगी आदित्यनाथ और सीएम पुष्कर धामी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पांचजन्य और आर्गनाइजर ने करवाया था इवेंट
  • बीजेपी शासित 8 राज्यों के सीएम कार्यक्रम में शामिल हुए

लाउडस्पीकर, अवैध मजारों पर एक्शन, टूटे मंदिरों का फिर से निर्माण... ये वे कुछ मुख्य बातें हैं जिनका जिक्र बीजेपी शासित मुख्यमंत्रियों ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) से जुड़े एक कार्यक्रम में किया. कार्यक्रम में योगी आदित्यनाथ, पुष्कर सिंह धामी, प्रमोद सावंत और हिमंत बिस्वा सरमा भी शामिल हुए थे.

पांचजन्य और आर्गनाइजर (RSS के मुखपत्र) के 75 साल पूरा होने पर दिल्ली में एक कॉन्क्लेव हुआ था. इसमें बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया. कार्यक्रम में 8 राज्यों के सीएम शामिल हुए थे. इसमें मनोहर लाल खट्टर (हरियाणा), बीरेन सिंह (मणिपुर), जयराम ठाकुर (हिमाचल प्रदेश), भूपेंद्र पटेल (गुजरात) भी थे.

राज्य के लिए काम करने के दौरान उनकी क्या प्राथमिकताएं हैं इसके बारे में बीजेपी शासित राज्यों के इन मुख्यमंत्रियों ने बताया. जानिए किसने क्या-क्या कहा

सीएम योगी बोले - मस्जिदों से उतरे लाउडस्पीकर 

सीएम योगी ने बताया कि बीते कुछ वक्त में यूपी में मस्जिदों में लगे लाउडस्पीकर पर एक्शन लिया गया है. वह बोले कि यूपी में मस्जिदों से लाउडस्पीकर या तो उतार दिये गए हैं, या फिर उनकी आवाज कम करा दी गई है.

यह भी पढ़ें - नागपुर: RSS मुख्यालय की रेकी कर रहा था जैश ए मोहम्मद का आतंकी, ATS ने किया गिरफ्तार

योगी ने आगे कहा कि उतारे गए लाउडस्पीकर स्कूलों या फिर हॉस्पिटलों को दान किये जा रहे हैं. कार्यक्रम में योगी ने कहा कि इस बार आपने देखा होगा कि इस बार ईद की नमाज सड़क पर नहीं पढ़ी गई.

पुष्कर सिंह धामी बोले- अवैध मजारों पर होगा एक्शन

संघ की पत्रिका के कार्यक्रम में उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी भी शामिल हुए. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में कॉमन सिविल कोड जल्द लागू होगा.

खबरों के मुताबिक, पुष्कर सिंह धामी ने यह भी कहा कि उत्तराखंड में अवैध निर्माण-अतिक्रमण पर सख्त कार्रवाई होगी. उन्होंने अवैध मजारों पर भी चिंता जताई और कहा कि उनपर भी कार्रवाई होगी. धामी बोले कि राज्य में अवैध घुसपैठियों और रोहिंग्याओं की पहचान करने के लिए सत्यापन अभियान चल रहा है. 

लोगों को बीच से मंदिर तक लाना है- प्रमोद सावंत

कार्यक्रम में दूसरी बार गोवा के सीएम बने प्रमोद सावंत भी शामिल हुए थे. वह बोले कि इतिहास में जिन भी मंदिरों को तोड़ा गया है उनको फिर से बनवाया जाना चाहिए. वह बोले कि गोवा के बजट में इस बात का ख्याल रखा गया है और पुर्तगालियों के वक्त में तोड़े गए मंदिरों को पुन: स्थापित करने का काम जारी है.

यह भी पढ़ें - ज्ञानवापी मस्जिद, ताजमहल, कृष्ण जन्मभूमि का सच सामने आना चाहिए: RSS नेता

सावंत ने कहा कि गोवा के हर गांव में लगभग दो मंदिर हैं. लोगों को बीच (beach) से मंदिर की तरफ लेकर जाना है. वह बोले कि गोवा में पहले से यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू है और हर राज्य में इसे होना चाहिए.

हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा- मदरसे बंद होने चाहिए

Panchjanya के कार्यक्रम में असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) भी शामिल हुए थे. हिमंत बिस्वा सरमा ने मदरसों को निशाने पर लिया. वह बोले कि मदरसे का अस्तित्व समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि जबतक मरदसा दिमाग में रहेगा बच्चे डॉक्टर, इंजीनियर नहीं बन सकते.

सरमा ने कहा, 'अगर बच्चे को बताया जाए कि वह मदरसे में जाकर डॉक्टर-इंजीनियर नहीं बन सकेगा तो वह बिल्कुल वहां नहीं जाएगा. मदरसे में भेजकर उनके मानवाधिकार का उल्लंघन किया जा रहा है.' असम के सीएम बोले कि अगर किसी को कुरान पढ़नी है तो वह इसे घर पर पढ़ें, वहीं स्कूल में मैथ और साइंस पढ़नी चाहिए. 

यहां उन्होंने राहुल गांधी पर निशाना साधा था. वह बोले कि राहुल गांधी भारत को राज्यों का संघ कहकर अलगाववादी तत्वों को प्रोत्साहित कर रहे हैं. ऐसे में उनमें और विद्रोही समूह ULFA में कोई फर्क नहीं है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें