scorecardresearch
 

PFI पर शिकंजा, 15 राज्य, 93 ठिकाने, 106 गिरफ्तारियां... जानें दिनभर की कार्रवाई में क्या-क्या हुआ?

एनआईए, ईडी और राज्यों की पुलिस ने कुल 15 राज्यों में रेड मारी और पीएफआई से जुड़े 106 लोगों को अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया है. PFI के 106 नेताओं और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारियां हुई हैं. इनमें से एनआईए ने 45 लोगों को गिरफ्तार किया है. NIA के 300 अधिकारी ऑपरेशन का हिस्सा थे. हेड क्वार्टर पर डीजी दिनकर गुप्ता ने रातभर छापेमारी की मॉनिटरिंग की.

X
हुबली में NIA की छापेमारी के विरोध में PFI और SDPI के कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया. (फोटो- PTI)
हुबली में NIA की छापेमारी के विरोध में PFI और SDPI के कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया. (फोटो- PTI)

PFI Raids Update: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गुरुवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उससे जुड़े ठिकानों पर देशभर में छापेमारी की. टेरर फंडिंग और कैंप चलाने के मामले में जांच एजेंसी की कार्रवाई हुई है. ईडी, एनआईए और राज्यों की पुलिस ने कुल 15 राज्यों में रेड मारी और पीएफआई से जुड़े 106 लोगों को अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया है. दिल्ली में एनआईए ने पीएफआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओएमएस सलाम और दिल्ली अध्यक्ष परवेज अहमद को गिरफ्तार कर किया है. यहां 18 लोगों को विशेष एनआईए कोर्ट में पेश किया गया और 26 सितंबर तक रिमांड पर भेजा गया है. जानिए पूरे दिन का घटनाक्रम...

अब तक कहां कितनी गिरफ्तारियां...

PFI के 106 नेताओं और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारियां हुई हैं. इनमें से एनआईए ने 45 लोगों को गिरफ्तार किया है. केरल में 19, तमिलनाडु में 11, कर्नाटक में 7, आंध्र प्रदेश में 4, राजस्थान में 2 और यूपी और तेलंगाना में एक-एक की गिरफ्तारी की है. बाकी ईडी और राज्यों की पुलिस ने 61 लोगों को गिरफ्तार किया है. NIA ने जो 5 FIR दर्ज की हैं, उसमें Unlawful Activities (Prevention) Act यानी UAPA लगाया गया है. छापेमारी के दौरान आपत्तिजनक दस्तावेज, नकदी, धारदार हथियार और बड़ी संख्या में डिजिटल उपकरण जब्त किए गए हैं.

15 राज्य, 93 जगहों पर रेड

आज NIA के 300 अधिकारी ऑपरेशन का हिस्सा थे. हेड क्वार्टर पर डीजी दिनकर गुप्ता ने रातभर छापेमारी की मॉनिटरिंग की. NIA अब तक PFI मामले में 12 केस दर्ज कर चुकी है. 2010-11 से पहले PFI से जुड़े 46 लोगों को पूर्व में दोषी ठहराया जा चुका है. ऐसे 355 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है.  

दिल्ली में 26 सितंबर तक रिमांड

NIA ने 18 लोगों को दिल्ली की कोर्ट में पेश किया, जहां से सभी को 26 सितंबर तक रिमांड पर भेजा गया है. PFI महासचिव मोहम्मद अली जिन्ना भी NIA कोर्ट में लाए गए आरोपियों में से एक है. मुंबई और उसके आसपास गिरफ्तार पीएफआई के आरोपियों को भी एनआईए की विशेष अदालत में लाया गया. PFI के अन्य आरोपियों को उनके राज्यों में पेश किया जाएगा. NIA के केस में 2010-11 से अब तक 46 लोग PFI के convict हो चुके हैं. 355 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है. 

इन 15 राज्यों में छापे

15 राज्यों में केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, असम, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गोवा, पश्चिम बंगाल, बिहार और मणिपुर में PFI के 93 ठिकानों पर तलाशी ली. 

कुल 106 गिरफ्तारियां...

केरल 39, तमिलनाडु 16, कर्नाटक 12, आंध्र प्रदेश 7, राजस्थान और महाराष्ट्र 4-4, दिल्ली और यूपी 2- 2, तेलंगाना, असम, एमपी, गोवा, पश्चिम बंगाल, बिहार और मणिपुर में एक-एक अरेस्ट किया गया.

NIA ने ये बताया...

आज (22 सितंबर) ईडी, एनआईए और राज्य की पुलिस टीमों ने संयुक्त रूप से तलाशी अभियान चलाया. ये तलाशी NIA के शीर्ष नेताओं और सदस्यों के घरों और कार्यालयों पर दर्ज 5 केसों के सिलसिले में की गई है. जांच टीम को लगातार इनपुट और सबूत मिले थे कि PFI के नेता और कैडर आतंकवाद और आतंकवादी गतिविधियों के लिए प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने में शामिल हैं. सशस्त्र प्रशिक्षण देना और लोगों को प्रतिबंधित संगठनों में शामिल होने के लिए कट्टरपंथी बनाने का काम शामिल है. 

4 जुलाई को तेलंगाना में केस दर्ज

शुरू में 25 से ज्यादा PFI कैडरों के खिलाफ तेलंगाना के निजामाबाद थाने में 4 जुलाई 2022 को FIR दर्ज की गई थी. तेलंगाना पुलिस ने पाया कि आरोपी प्रशिक्षण देने के लिए शिविर आयोजित कर रहे थे. धर्म के आधार पर समाज में वैमनुष्यता को बढ़ावा दे रहे थे और हिंसक- आतंकवादी कार्यों में संलिप्त थे.

हिंसक घटनाओं में PFI के नाम आया...

बताते चलें कि पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न राज्यों द्वारा PFI और उसके नेताओं और सदस्यों के खिलाफ कई हिंसक गतिविधियों में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में आपराधिक केस दर्ज किए गए हैं. PFI द्वारा किए गए आपराधिक हिंसक कृत्यों में कॉलेज के प्रोफेसर का हाथ काटना, अन्य धर्मों को मानने वाले संगठनों से जुड़े व्यक्तियों की निर्मम हत्याएं, प्रमुख लोगों और स्थानों को टारगेट करने के लिए विस्फोटकों को जमा करना, इस्लामिक स्टेट को समर्थन और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना शामिल रहा है, जिससे लोगों के अंदर भय का वातावरण पैदा हुआ है.

यहां भी PFI कनेक्शन सामने आया था

पटना के फुलवारी शरीफ में गजवा-ए-हिंद स्थापित करने की साजिश हो रही थी. इस मामले में NIA ने हाल ही में रेड मारी थी. तेलंगाना के निजामाबाद में भी कराटे ट्रेनिंग के नाम पर PFI हथियार चलाने की ट्रेनिंग दे रहा था. इस मामले में भी NIA ने छापा मारा था. इसके अलावा कर्नाटक का हिजाब विवाद और कर्नाटक में ही प्रवीण नेत्तरू की हत्या के मामले में भी PFI कनेक्शन सामने आया था.

ये आरोप लगाए गए हैं...

ये गिरफ्तार पीएफआई नेता और कैडर टेरर फंडिंग, ट्रेनिंग कैंप और लोगों को संगठन में शामिल करने के लिए उकसाने का आरोप है. ये लोग सशस्त्र ट्रेनिंग भी देते थे.

केरल में कल हड़ताल
वहीं, केरल में पीएफआई ने शुक्रवार को सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक हड़ताल का आह्वान किया है. पीएफआई नेतृत्व का कहना है कि राज्य में उनके नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में हड़ताल बुलाई गई है.

अगर केंद्र प्रतिबंध लगाता है तो PFI के पास PLAN B

पीएफआई ने अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए पहले ही कई संगठन शुरू किए हैं. पीएफआई का रोडमैप सामने आया है. पीएफआई पहले ही एजेंसियों से बचने के लिए कई विंग लॉन्च कर चुका है. इन संगठनों को सरकारी एजेंसी पर प्रतिबंध से बचने और आतंक एजेंडा फैलाने के लिए तैयार किया गया है. इनमें...
- सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया
-कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया
-राष्ट्रीय महिला मोर्चा
-अखिल भारतीय इमाम परिषद
-अखिल भारतीय कानूनी परिषद
-रिहैब इंडिया फाउंडेशन
-नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ ह्यूमर राइट ऑर्गनाइजेशन
- सोशल डेमोक्रेटिक ट्रेड यूनियन
- एचआरडीएफ

कोलकाता में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद

एनआईए ने पीएफआई से जुड़े कई दस्तावेज बरामद किए हैं. सूत्रों ने बताया कि कोलकाता के तिलजला इलाके के एक फ्लैट से पीएफआई और कुछ इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के पर्चे बरामद किए गए हैं. एनआईए सूत्र बता रहे हैं कि एसके मोख्तार ने ये जगह पीएफआई को ऑफिस बनाने के लिए किराए पर दी थी. उनका पीएफआई से सीधा संबंध नहीं है. वे बिल्डिंग के मालिक हैं. उन्होंने ये जगह किराए पर दी थी. जैसे ही छापेमारी हुई, पीएफआई के झंडे पकड़े लोगों ने उस जगह के दरवाजे पर विरोध प्रदर्शन किया. 

मोहम्मद नजरुल इस्लाम मुल्ला का दावा है कि वह पीएफआई का सदस्य है. उसने बताया कि उसका भाई पीएफआई के कार्यालय में रुका था, जहां एनआईए ने छापा मारा था. दावा है कि ये जगह पीएफआई से संबंधित नहीं थी. सूत्रों ने बताया कि इस जगह पर पहले भी दिसंबर, 2020 में ईडी ने छापेमारी की थी. 

नासिक: पांचों आरोपी 3 अक्टूबर तक पुलिस कस्टडी में

एनआईए ने छापे के बाद 5 लोगों को अरेस्ट किया है. इन सभी आरोपियों को अपर जिला सत्र कोर्ट में पेश किया गया, जहां से 3 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेजा गया है. जो आरोपी पकड़े गए हैं, उनमें मालेगांव, कोल्हापुर और बीड से एक-एक आरोपी पकड़ा गया है. जबकि दो आरोपी कोंढवा-पुणे के हैं. 

नासिक में ये पांच लोग पकड़े गए

मौलाना सैफ रहमानी, हुडको, मालेगांव, नासिक, अब्दुल कय्यूम शेख कोंधवा पुणे, रजी अहमद खान कोंढवा पुणे, वसीम शेख (मुन्ना) बीड,  नसीब मुल्ला (रबी साहब मुल्ला) कोल्हापुर.

मथुरा: कथित पत्रकार समेत 4 लोग गिरफ्तार

NIA ने कुछ दिन पहले UPSTF से हाथरस केस की फाइल भी ली है. NIA ने UPSTF के जांच अधिकारियों से मुलाकात की थी और पूरे केस को समझा, उसके बाद तमाम सबूत और दस्तावेज लिए. हाथरस जाते वक्त मथुरा में PFI से जुड़े कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन (Sidheeq Kappan) समेत कुछ 4 लोगों को गिरफ्तार किया था.

PFI के 19 केसों की जांच कर रही NIA 

NIA आज की तारीख में PFI से संबंधित कुल 19 केसों की जांच कर रही है. जिनमें ये 5 केस भी शामिल हैं. 5 केसों में आज गिरफ्तार किए गए आरोपियों के बारे में...

RC 14/2022/NIA/DLI (19 गिरफ्तारियां)

केरल (8)
1. ओएमए सलाम @ ओएम अब्दुल सलाम
2. जसीर केपी
3. वीपी नजरुद्दीन एलमारम @ नजरुद्दीन एलमारम
4. मोहम्मद बशीर
5. शफीर केपी
6. ई अबूबैकर
7. प्रो. पी. कोया @ कलीम कोया
8. ईएम अब्दुल रहिमन @ ईएम

कर्नाटक (7)
9. अनीस अहमद
10. अफसर पाशा
11. अब्दुल वाहिद सैती
12. यासर अराफात हसन
13. मोहम्मद शाकिब @ शाकिफ
14. मोहम्मद फारूक उर रहमान
15. शाहिद नसीर

तमिलनाडु (3)
16. एम. मोहम्मद अली जिन्ना
17. मोहम्मद युसूफ
18. एएस इस्माइल @ अप्पम्मा इस्माइल

उत्तर प्रदेश (1)
19. वसीम अहमद

RC 41/2022/NIA/DLI (2 गिरफ्तारियां)

राजस्थान
20. मोहम्मद आसिफ @ आसिफ
21. सादिक सर्राफ तालाबपाड़ा

RC 42/2022/NIA/DLI (8 गिरफ्तारियां)
 
तमिलनाडु

22. सैयद इशाक
23. एडवोकेट खालिद मोहम्मद
24. पूर्वाह्न इदरीस @ अहमद इदरीस
25. मोहम्मद अबुथाहिर
26. एस खाजा मैदान
27. यासर अराफात
28. बाराकतुल्लाह
29. फयाज अहमद

RC 2/2022/NIA/KOC (11 गिरफ्तारियां)

केरल
30. नजुमुद्दीन पुत्र मुहम्मद,
31. सैनुद्दीन टी सो
32. याहिया कोया थंगल
33. के मुहम्मदली @ Kunhappo
34. सी टी सुलेमानी
35. पी के उस्मान @ पल्लीकरंजलिल कुंजिप्पु उस्मान @ उस्मान पेरुम्पिलवु
36. करमना अशरफ मौलवीक
37. सादिक अहमद
38. शिहास, पुत्र हसन
39. अंसारी पी
40. एमएम मुजीब पुत्र मुहम्मद

RC 3/2022/NIA/HYD (5 गिरफ्तारियां)

आंध्र प्रदेश (4)
41. अब्दुल रहीमी
42. अब्दुल वाहिद अली
43. शेख जफरुल्ला
44. रियाज अहमद

तेलंगाना (1)
45. अब्दुल वारिस

इन मामलों में आगे की जांच जारी है.

एनआईए ने 5 केसों में 106 में से 45 लोगों को गिरफ्तार किया

1. RC 3/22/हैदराबाद- 5 गिरफ्तारियां. 
चार आंध्र प्रदेश से और एक तेलंगाना से. इनमें अब्दुल रहीम, अब्दुल वाहिद अली, अब्दुल वारिस, रियाज अहमद का नाम शामिल.

2. RC-14/2022 NIA दिल्ली- 19 गिरफ्तारियां.
आठ केरल से, सात कर्नाटक से, तीन तमिलनाडु से और एक यूपी से है. ओएमए सलाम गिरफ्तार.

3. RC 41/22 NIA दिल्ली-
राजस्थान से 2 गिरफ्तारी.

4. RC 42/22 NIA दिल्ली-
तमिलनाडु से 8 गिरफ्तारी.

5. RC 2/22 NIA कोच्चि-
केरल से 11 गिरफ्तारियां. नजुमुद्दीन, सैनुद्दीन, याहिया कोया थुमबल, के. मोद अली, सीटी सुलेमान, पीके उस्मान, सादिक अहमद, शिहास, पी अंसारी, एमएम मुजीब, करमाना असरफ मोलवी.

सांप्रदायिकता के संबंध में जीरो टॉलरेंस होना चाहिए: राहुल गांधी
इधर, पीएफआई पर छापे के संबंध में कांग्रेस नेता राहुल गांधी का बयान आया है. राहुल ने कहा- 'सांप्रदायिकता और हिंसा के सभी रूप, चाहे वे कहीं से भी आए हों, समान हैं और उनका मुकाबला किया जाना चाहिए. सांप्रदायिकता के संबंध में जीरो टॉलरेंस होना चाहिए.

सुरक्षा के लिए कानूनी कदम उठाया: बीजेपी
बीजेपी नेता और पूर्व कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए कानूनी कदम उठाया गया है और किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा, जिसके खिलाफ सबूत हैं.

क्या है PFI? 
पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया 22 नवंबर 2006 को तीन मुस्लिम संगठनों के मिलने से बना था. इनमें केरल का नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट, कर्नाटक फोरम फॉर डिग्निटी और तमिलनाडु का मनिता नीति पसरई साथ आए. PFI खुद को गैर-लाभकारी संगठन बताता है. PFI में कितने सदस्य हैं, इसकी जानकारी संगठन नहीं देता है. हालांकि, दावा करता है कि 20 राज्यों में उसकी यूनिट है. शुरुआत में PFI का हेडक्वार्टर केरल के कोझिकोड में था, लेकिन बाद में इसे दिल्ली शिफ्ट कर लिया गया. ओएमए सलाम इसके अध्यक्ष हैं और ईएम अब्दुल रहीमान उपाध्यक्ष. PFI की अपनी यूनिफॉर्म भी है. हर साल 15 अगस्त को PFI फ्रीडम परेड का आयोजन करता है. 2013 में केरल सरकार ने इस परेड पर रोक लगा दी थी. वो इसलिए क्योंकि PFI की यूनिफॉर्म में पुलिस की वर्दी की तरह ही सितारे और एम्बलम लगे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें