scorecardresearch
 

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को घर छोड़ने गईं द्रौपदी मुर्मू, जानिए क्या है परंपरा?

द्रौपदी मुर्मू (64 साल) अब तक की सबसे युवा राष्ट्रपति हैं. वे ऐसी पहली राष्ट्रपति हैं, जिनका जन्म आजाद भारत में हुआ. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमणा ने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई. सेना के गार्ड ऑफ ऑनर से इस कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी.

X
राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू और पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू और पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
स्टोरी हाइलाइट्स
  • द्रौपदी मुर्मू ने सोमवार को ली राष्ट्रपति पद की शपथ
  • द्रौपदी मुर्मू परंपरा के मुताबिक, पूर्व राष्ट्रपति कोविंद को छोड़ने उनके घर गईं

द्रौपदी मुर्मू ने सोमवार को देश के 15वें राष्ट्रपति पद की शपथ ली. वे राष्ट्रपति बनने वालीं पहली आदिवासी महिला हैं. शपथ लेने के बाद राष्ट्रपति मुर्मू और पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन पहुंचे. यहां राष्ट्रपति मुर्मू ने पदभार संभाला. इस दौरान रामनाथ कोविंद भी मौजूद रहे. इसके बाद द्रौपदी मुर्मू परंपरा के मुताबिक, पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को उनके नए आवास 12 जनपथ छोड़ने गईं. 

राष्ट्रपति के शपथ के दौरान होती हैं ये औपचारिकताएं

- शपथ लेने से पहले पूर्व राष्ट्रपति के साथ नए राष्ट्रपति संसद भवन पहुंचते हैं. इस दौरान सेना की टुकड़ी गार्ड ऑफ ऑनर देती है. पूर्व राष्ट्रपति (रामनाथ कोविंद) ने सेना की टुकड़ी को सलामी दी. 

-  शपथ लेने से पहले रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठे थे. लेकिन शपथ ग्रहण के तुरंत बाद उन्होंने ये कुर्सी द्रौपदी मुर्मू को सौंप दी. इसके बाद वे उस कुर्सी पर बैठ गए, जिस पर शपथ से पहले द्रौपदी मुर्मू बैठी थीं.  

- शपथ लेने के बाद द्रौपदी मुर्मू को सेना की टुकड़ी ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया. इस दौरान पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी मौजूद रहे. लेकिन इस बार सेना की टुकड़ी को सलामी द्रौपदी मुर्मू ने दी. 

15वें राष्ट्रपति के तौर पर ली शपथ

द्रौपदी मुर्मू (64 साल) अब तक की सबसे युवा राष्ट्रपति हैं. वे भारत की ऐसी पहली राष्ट्रपति हैं, जिनका जन्म आजाद भारत में हुआ. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमणा ने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई. सेना के गार्ड ऑफ ऑनर से इस कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी. 

राष्ट्रपति की शपथ लेने के बाद सेना की टुकड़ी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को गार्ड ऑफ ऑनर दिया. इस दौरान पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी मौजूद रहे. इसके बाद रामनाथ कोविंद और द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति भवन के लिए रवाना हुए. राष्ट्रपति भवन में द्रौपदी मुर्मू ने पदभार संभाला. इस दौरान पूर्व राष्ट्रपति कोविंद भी मौजूद रहे. भारत में परंपरा है कि नए राष्ट्रपति पूर्व राष्ट्रपति को उनके घर छोड़ने जाते हैं. इस परंपरा का पालन करते हुए राष्ट्रपति मुर्मू रामनाथ कोविंद को उनके नए आवास पर छोड़ने गईं. 

 

जेपी नड्डा ने किया रिसीव 

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने नए निवास स्थान पर अपने काफिले के साथ जैसे ही पहुंचे, वहां बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा उन्हें रिसीव करने के लिए मौजूद थे. इसके बाद उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी अपने काफिले के साथ रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने पहुंचे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें