scorecardresearch
 

दमघोंटू हवा ने बढ़ा दी Air purifiers की बिक्री, खरीदने वाले 70% लोग दिल्ली-NCR से

दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद में हवा की गुणवत्ता लगातार 'बहुत खराब' बनी हुई है. इन शहरों में प्रदूषण बढ़ने के पीछे मुख्य वजह पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाना, पटाखे, पावर प्लांट और वाहनों से निकलने वाले धुएं को बताया जा रहा है.

X
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का कहर जारी
  • प्रदूषण के चलते दिल्ली-NCR में बढ़ी Air purifiers की डिमांड

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का कहर जारी है. केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं. हालांकि, इन सबके बावजूद हालात सुधरते नजर नहीं आ रहे हैं. धुंध और हवा की गुणवत्ता खराब होने के चलते लोग बीमार पड़ रहे हैं. कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत, कफ, आंखों में जलन की भी शिकायत देखने को मिल रही है. दिल्ली-एनसीआर में तेजी से बढ़ रहे प्रदूषण के चलते इलेक्ट्रॉनिक दुकानों पर एयर प्यूरीफायर ( Air purifiers) एक अहम विकल्प बनकर उभरा है. 

दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद में हवा की गुणवत्ता लगातार 'बहुत खराब' बनी हुई है. इन शहरों में प्रदूषण बढ़ने के पीछे मुख्य वजह पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाना, पटाखे, पावर प्लांट और वाहनों से निकलने वाले धुएं को बताया जा रहा है. 
 
दिल्ली-NCR में बढ़ी  Air purifiers की डिमांड

प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में Air purifiers की डिमांड काफी बढ़ गई है. उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, देश में कुल बिक्री में से 70% डिमांड दिल्ली-NCR से आ रही है. हालांकि, कंपनियों का कहना है कि देश के अन्य हिस्सों से भी एयर प्यूरीफायर की मांग बढ़ी है. देश में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए कंपनियों का मानना है कि आने वाले समय में प्यूरीफायर की मांग और बढ़ेगी. 

फिलिप्स डोमेस्टिक के मार्केटिंग डायरेक्टर दीपांजन चक्रवर्ती ने बताया कि 2020 से उत्तर भारत में खासकर दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण बढ़ने के साथ साथ अक्टूबर और नवंबर में एयर प्यूरीफायर की मांग बढ़ी है. खासकर कोरोना के समय में मुंबई, बेंगलुरु और कोलकाता में भी प्यूरीफायर की खरीद में वृद्धि देखी गई थी. 
 
2027 तक प्यूरीफायर की सेल 569 मिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद

रिसर्च एंड मार्केट के मुताबिक, भारत में वित्तीय वर्ष 2021 में एयर प्यूरीफायर का मार्केट 85 मिलियन डॉलर पर है. इसके 2027 तक 569 मिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है. Panasonic  के मुताबिक, त्योहारों के सीजन में एयर प्यूरीफायर टॉप सेलिंग प्रॉडक्ट में शामिल था. 

भारत में एयर प्यूरीफायर का 450-500 करोड़ रुपए का मार्केट  

भारत में एयर प्यूरीफायर का सालाना मार्केट 450-500 करोड़ रुपए है. दिवाली सीजन में एयर प्यूरीफायर की 70-80% बिक्री हुई. देश में कुल प्यूरीफायर की बिक्री में से 70-80% दिल्ली एनसीआर में हुई. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें