scorecardresearch
 

FIR के बाद भी नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी क्यों नहीं? दिल्ली पुलिस पर सुप्रीम कोर्ट ने खड़े किए सवाल

नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) से जुड़ी अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. यहां सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े किये. पूछा गया कि कई FIR के बावजूद दिल्ली पुलिस ने अबतक नूपुर को छुआ तक नहीं.

X
नूपुर शर्मा पर अब गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है नूपुर शर्मा पर अब गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि थाने में नूपुर के लिए रेड कार्पेट होता होगा
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सत्ता की ताकत दिमाग पर हावी है

नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) को फटकार लगाते हुए आज सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस पर भी सवाल खड़े किये हैं. सुप्रीम कोर्ट ने यहां तक कह दिया कि कई FIR के बावजूद दिल्ली पुलिस नूपुर शर्मा को छू तक नहीं पाई. यह नूपुर का प्रभाव (राजनीतिक असर) बताता है.

नूपुर शर्मा के खिलाफ देश के अलग-अलग राज्यों में शिकायत दर्ज करवाई गई थी. इन सब याचिकाओं को नूपुर ने दिल्ली ट्रांसफर करने की गुजारिश की थी, जिसको सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया और कहा कि वह हाईकोर्ट का रुख करें. अब नूपुर पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है.

नूपुर शर्मा के मामले में दिल्ली पुलिस घिरी

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े किये. कोर्ट ने पूछा कि नूपुर शर्मा के खिलाफ शिकायत दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस ने क्या एक्शन लिया? कोर्ट ने कहा, 'उनकी (नूपुर) शिकायत के बाद एक शख्स को गिरफ्तार किया गया. लेकिन कई FIR के बावजूद दिल्ली पुलिस ने इनको हाथ तक नहीं लगाया.'

यह भी पढ़ें - 'उदयपुर की घटना के लिए नूपुर शर्मा की बयानबाजी जिम्मेदार...', SC की टिप्पणी की 10 बड़ी बातें

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि जब आप किसी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हैं तो उस शख्स को गिरफ्तार किया जाता है. लेकिन किसी ने आपको छूने की हिम्मत नहीं दिखाई जो कि आपके प्रभाव (ताकत) को दिखाता है.

उच्चतम न्यायालय ने यह भी कहा कि नूपुर शर्मा किसी पार्टी की प्रवक्ता हैं, इसलिए सत्ता का नशा उनके दिमाग तक पहुंच गया है.

नूपुर के वकील ने कोर्ट को जब यह बताना चाहा कि वह भाग नहीं रही हैं और जांच में सहयोग कर रही हैं. इसपर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 'वहां आपके (नूपुर) लिये जरूर रेड कारपेट बिछा होता होगा.' सुप्रीम कोर्ट ने आगे नूपुर शर्मा के वकील को सुझाव दिया कि वह हाईकोर्ट जाएं.

नूपुर पर बंगाल में 10 FIR

बता दें कि नूपुर के खिलाफ दिल्ली में ही मुकदमा दर्ज नहीं है, बल्कि देश के कई हिस्सों में इस बाबत मुकदमा दर्ज किया गया है, लेकिन ऐसी कौन सी मजबूरी है कि कोई भी पुलिस नुपुर तक नहीं पहुंच पाई है? इस बाबत दिल्ली पुलिस के डीसीपी के पी एस मल्होत्रा ने हाल ही में कहा था कि जल्द ही नूपुर को नोटिस जारी किया जाएगा.

भड़काऊ बयानबाजी के मामले में दिल्ली पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज किया था. जिन लोगों के खिलाफ दिल्ली में मामला दर्ज हुआ था उनमें नूपुर शर्मा, नवीन जिंदल, शादाब चौहान, सबा नकवी, मौलाना मुफ्ती नदीम, अब्दुल रहमान, गुलजार अंसारी, अनिल कुमार मीणा और पूजा शकुन शामिल हैं. 

दिल्ली की बात करें तो यहां पुलिस ने नूपुर शर्मा के खिलाफ आईपीसी की धारा 153, 295, 505 के तहत मामला दर्ज किया था. इसमें उनपर धार्मिक भावनाओं को आहत करने, द्वेषभाव फैलाने व दूसरे धर्म के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप हैं.

अभी तक नूपुर को नोटिस जारी नहीं किया गया है. दिल्ली पुलिस की FIR उन पर पहला केस नहीं है. महाराष्ट्र और कोलकत्ता में भी उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है. वहीं नूपुर के खिलाफ कोलकाता के 10 पुलिस थानों में शिकायत दर्ज कराई गई है. केस के दूसरे किसी आरोपी को भी अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नूपुर शर्मा को टीवी पर माफी मांगनी चाहिए थी

नूपुर शर्मा द्वारा पैगम्बर मोहम्मद को लेकर की गई टिप्पणी पर SC ने नाराजगी जाहिर की. नूपुर की ट्रांसफर अर्जी पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उसकी टिप्पणी ने देश भर में लोगो की भावनाओं को भड़का दिया है. आज जो कुछ देश में हो रहा है, उसके लिए वो जिम्मेदार है.

कोर्ट ने कहा कि हमने डिबेट को देखा है. उसको भड़काने की कोशिश की. लेकिन उसके बाद उसने जो कुछ कहा, वो और ज्यादा शर्मनाक है. उन्हें पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए.

SC ने कहा कि उन्होंने व उनकी हल्की जबान ने पूरे देश में आग लगा दी है. उनका यह गुस्सा इसी वजह से था. वो उदयपुर में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए जिम्मेदार है.

नूपुर के वकील ने जब उनकी क्षमायाचना और पैगंबर पर की गई टिप्पणियों को विनम्रता के साथ वापस लेने की दुहाई दी तो पीठ ने कहा कि वापस लेने में बहुत देर हो चुकी थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें