scorecardresearch
 

द्रौपदी मुर्मू ने सोनिया गांधी-शरद पवार और ममता बनर्जी से की बात, मांगा राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन

एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन भरा. इसके बाद उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार से फोन पर बात की और राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन देने की अपील की.

X
द्रौपदी मुर्मू ने सोनिया गांधी और ममता बनर्जी से मांगा समर्थन
द्रौपदी मुर्मू ने सोनिया गांधी और ममता बनर्जी से मांगा समर्थन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को भरा पर्चा
  • पीएम मोदी, राजनाथ सिंह समेत तमाम नेता रहे मौजूद

एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन भरा. इसके बाद उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार से फोन पर बात की और राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन देने की अपील की. बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी ने द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव के लिए शुभकामनाएं दी. साथ ही कहा कि वे अपनी पार्टी में उन्हें समर्थन देने के लिए चर्चा करेंगी. 

इससे पहले द्रौपदी मुर्मू शुक्रवार को संसद भवन पहुंचीं. यहां उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन भरा. इस दौरान पीएम मोदी उनके प्रस्तावक बने. उन्होंने 4 सेट में नामांकन भरा. पीएम मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद मौजूद रहे. 

एनडीए की एकजुटता भी आई नजर

द्रौपदी मुर्मू के नामांकन में बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हुए. इस दौरान एनडीए की एकजुटता भी नजर आई. नामांकन के दौरान जदयू, बीजद के नेता मौजूद रहे. इसके अलावा जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वाईएस आर कांग्रेस के नेता भी नामांकन में पहुंचे. 

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू?

द्रौपदी मुर्मू का जन्म ओडिशा आदिवासी जिले मयूरभंज के रायरंगपुर गांव में हुआ. द्रौपदी मुर्मू झारखंड की पहली महिला राज्यपाल भी रह चुकी हैं. 18 मई 2015 से 12 जुलाई 2021 तक झारखंड के राज्यपाल पद पर रहीं. 

द्रौपदी मुर्मू ओडिशा की पहली महिला और आदिवासी नेता हैं, जिन्हें राज्यपाल नियुक्त किया गया था. मुर्मू 2013 में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में एसटी मोर्चे की सदस्य रहीं. 10 अप्रैल 2015 तक उन्होंने यह पद संभाला था. वह 2013 में ओडिशा के मयूरभंज की जिला अध्यक्ष निर्वाचित हुईं थी. वह 2010 में भी जिला अध्यक्ष निर्वाचित हुई थीं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें