scorecardresearch
 

Indian Railways: भारतीय रेलवे ने किया कमाल, इस साल अगस्त अंत तक इतना बढ़ गया रेवेन्यू

Railway revenue: रेलवे ने कहा कि लंबी दूरी की आरक्षित मेल एक्सप्रेस ट्रेनों की वृद्धि यात्री और उपनगरीय ट्रेनों की तुलना में तेज रही है. अन्य राजस्व 2,437.42 करोड़ रुपये रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 811.82 करोड़ रुपये (50 प्रतिशत) अधिक है. 

X
Indian Railways
Indian Railways

Indian railways revenue: भारतीय रेलवे की मदद से रोजाना लाखों यात्री सफर करते हैं. पिछले कुछ साल कोरोना वायरस महामारी की वजह से रेलवे को काफी नुकसान हुआ, लेकिन इस साल रेलवे ने पिछले साल के मुकाबले ज्यादा कमाई की है. रेलवे के रेवेन्यू में 38 फीसदी का इजाफा दर्ज किया गया है. एक आधिकारिक बयान में गया कि अगस्त 2022 के अंत में भारतीय रेलवे का कुल राजस्व 95,486.58 करोड़ रुपये था, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 26,271.29 करोड़ रुपये था. यहां इसमें 38 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. 

यात्री यातायात से राजस्व 25,276.54 करोड़ रुपये है, जो सालाना आधार पर 13,574.44 करोड़ रुपये (116 प्रतिशत) की वृद्धि है. आरक्षित और अनारक्षित दोनों सेग्मेंट्स में पिछले साल की तुलना में यात्री यातायात में भी वृद्धि हुई है.

रेलवे ने कहा कि लंबी दूरी की आरक्षित मेल एक्सप्रेस ट्रेनों की वृद्धि यात्री और उपनगरीय ट्रेनों की तुलना में तेज रही है. अन्य कोचिंग राजस्व 2,437.42 करोड़ रुपये रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 811.82 करोड़ रुपये (50 प्रतिशत) अधिक है. 

बयान में आगे कहा गया है कि भारतीय रेलवे के पार्सल सेग्मेंट में भी वृद्धि हुई है. इस साल अगस्त के अंत तक माल राजस्व 10,780.03 करोड़ रुपये (या 20 प्रतिशत) बढ़कर 65,505.02 करोड़ रुपये हो गया. इस वृद्धि में कोयला परिवहन के अलावा खाद्यान, उर्वरक, सीमेंट, खनिज तेल, कंटेनर यातायात और शेष अन्य सामान सेग्मेंट का महत्वपूर्ण योगदान रहा है. इसमें कहा गया है कि विविध राजस्व 2,267.60 करोड़ रुपये था, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1105 करोड़ रुपये या 95 प्रतिशत की वृद्धि को दिखाता है. पूरे पिछले वित्त वर्ष (2021-22) के दौरान रेलवे का कुल राजस्व 1,91,278.29 करोड़ रुपये रहा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें