scorecardresearch
 

Indian Railways: महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह की यादें होंगी ताजा, रेलवे की ये है तैयारी

Indian Railway: समस्तीपुर रेलमंडल के मोतिहारी स्टेशन से महात्मा गांधी जी के द्वारा चंपारण सत्याग्रह शुरू किया गया था. अब समस्तीपुर रेल मंडल ने फैसला लिया है कि गांधी जी की याद में एक स्पेशल ट्रेन चलाएंगे.

X
Indian railway to run special train in memory of Mahatma Gandhi
Indian railway to run special train in memory of Mahatma Gandhi
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आजादी की लड़ाई में चंपारण का महत्वपूर्ण स्थान
  • बापू की याद में चलाई जाएगी स्पेशल ट्रेन

Indian Railway News: आज़ादी की 75वें वर्षगांठ पर देशभर में अमृत महोत्सव का आयोजन हो रहा है. इसी कड़ी में समस्तीपुर रेलमंडल ने चंपारण सत्याग्रह से जुड़ी झांकियों के माध्यम से रेल यात्रियों को स्वतंत्रता संग्राम की कहानियों से अवगत कराने एक बड़ा निर्णय लिया है. महात्मा गांधी जिस ट्रेन से चंपारण आए थे, ठीक उसी तरह की एक स्पेशल ट्रेन चलाकर यादें ताजा की जाएंगी.

बता दें कि समस्तीपुर रेलमंडल आज़ादी के अमृत महोत्सव के तहत 23 जुलाई को यह ट्रेन चंपारण के मोतिहारी स्टेशन तक चलाएगी. डीआरएम आलोक अग्रवाल ने बताया कि समस्तीपुर रेलमंडल 18 जुलाई से लेकर 23 जुलाई तक आइकॉनिक वीक मनाया जा रहा है.

इस कड़ी में 'आज़ादी और रेलगाड़ी' के शीर्षक पर एक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. समस्तीपुर रेलमंडल के मोतिहारी स्टेशन से महात्मा गांधीजी द्वारा चंपारण सत्याग्रह शुरू किया गया था. जिस तरह की ट्रेन से गांधी आए थे, ठीक उसी तरह की स्पेशल ट्रेन चलाने की तैयारी की जा रही है.

किए जाएंगे कई कार्यक्रम

इसकी ट्रेन की खासियत ये रहेगी कि इसमें स्वतंत्रता सेनानी, उनके परिवार के सदस्य और जनप्रतिनिधि सवार हो सकेंगे. इसके साथ ही पूरे सप्ताह नुक्कड़ नाटक के साथ अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से आज़ादी की लड़ाई के बारे में लोगों के बीच जन जागरूकता लाने का प्रयास किया जाएगा. स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी का चंपारण सत्याग्रह एक महत्वपूर्ण स्थान था. महात्मा गांधी 10 अप्रैल 1917 को बिहार आए थे. पटना से बापू अगले दिन मुजफ्फपुर पहुंचे थे.

यहीं हुई थी राजेंद्र प्रसाद से मुलाकात

बता दें कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद से गांधीजी की पहली मुलाकात यहीं पर हुई थी. महात्मा गांधी ने कमिश्नर से इजाजत ना मिलने के बावजूद ट्रेन से चंपारण की धरती पर 15 अप्रैल 1917 को कदम रखा था. यहां उन्हें किसानों का भरपूर सहयोग मिला और अहिंसक तरीके से लड़ाई लड़ी गई. इसलिए आज़ादी के अमृत महोत्सव में चंपारण के मोतिहारी स्टेशन का काफी महत्व है. इसे देखते हुए समस्तीपुर रेलमंडल ने इस स्टेशन पर एक सप्ताह तक कार्यक्रम की योजना बनाई है. इसका उद्घाटन रेलमंडल के मंथन सभागार में किया गया.

मनाया जा रहा है आइकॉनिक वीक

इस अवसर पर समस्तीपुर रेलमंडल में कई कार्यक्रमों का आयोजन हुआ है. इस कड़ी में 18 जुलाई से लेकर 23 जुलाई तक आइकॉनिक वीक मनाया जा रहा है. हमारे आज़ादी और रेलगाड़ी के शीर्षक पर एक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. समस्तीपुर रेलमंडल के मोतिहारी स्टेशन से महात्मा गांधी जी के द्वारा चंपारण सत्याग्रह शुरू किया गया था. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें