scorecardresearch
 

LAC विवाद: भारत और चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता जल्द!

पिछले महीने विदेश मंत्रालय (MEA) ने भी कहा था कि दोनों पक्ष LAC के साथ सभी विवादित क्षेत्रों से कंप्लीट डिसइंगेजमेंट के लिए 12वें दौर की सैन्य वार्ता जल्द से जल्द आयोजित करने पर सहमत हो गए हैं. 

चीन के साथ लंबे समय से चल रहा सीमा विवाद (सांकेतिक-Getty) चीन के साथ लंबे समय से चल रहा सीमा विवाद (सांकेतिक-Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दोनों देश बातचीत से विवादित मुद्दे सुलझाने पर राजी
  • दोनों पक्ष बातचीत के लिए नई तारीखों पर काम कर रहे
  • गोगरा, गर्म हॉट स्प्रिंग्स जैसे विवादित क्षेत्रों पर चर्चा संभव

पिछले साल सीमा पर भारत और चीन के बीच बने तनावपूर्ण माहौल को खत्म करने की कोशिश जारी है. इसके लिए अब तक 11 दौर की वार्ता भी हो चुकी है. अब भारतीय सेना के सूत्र का कहना है कि भारत और चीन के बीच बहुत जल्द 12वें दौर की सैन्य स्तर वार्ता होने की संभावना है.

विवाद को खत्म करने को लेकर चीन ने सुझाव दिया था कि वार्ता 26 जुलाई को आयोजित की जाए, लेकिन भारत ने नई तारीखों पर काम करने के लिए कहा क्योंकि सेना इस दिन करगिल विजय दिवस मनाएगी. अब दोनों पक्षों की ओर से बीच नई तारीखों पर काम किया जा रहा है.

दोनों पक्षों की ओर से विवादित डेपसांग प्लेंस, गोगरा और गर्म हॉट स्प्रिंग्स में मौजूदा तनाव को खत्म करने के लिए चर्चा किए जाने की उम्मीद है. हालांकि भारतीय पक्ष ने स्पष्ट कर दिया है कि वह कंप्लीट डिसइंगेजमेंट के लिए तभी सहमत होगा जब एक साथ और एक समान वापसी पर सहमति बनेगी.

इसे भी क्लिक करें --- 2022 तक भारत बना लेगा थिएटर कमांड, भारतीय सेनाओं की बढ़ जाएगी ताकत: जनरल बिपिन रावत

कंप्लीट डिसइंगेजमेंट के लिए होगी वार्ताः MEA

इस मसले पर पिछले महीने विदेश मंत्रालय (MEA) ने भी कहा था कि दोनों पक्ष LAC के साथ सभी विवादित क्षेत्रों से कंप्लीट डिसइंगेजमेंट के लिए 12वें दौर की सैन्य वार्ता जल्द से जल्द आयोजित करने पर सहमत हो गए हैं.

विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने पूर्वी लद्दाख में LAC के साथ स्थिति पर विचारों का खुलकर आदान-प्रदान किया. दोनों पक्षों ने सितंबर 2020 में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच हुए समझौते को ध्यान में रखते हुए पूर्वी लद्दाख में LAC के साथ अन्य मुद्दों का शीघ्र समाधान खोजने की आवश्यकता पर सहमति व्यक्त की थी. 

विदेश मंत्रालय की ओर से यह भी कहा गया कि इस बात पर भी सहमति बनी है कि दोनों पक्ष जमीन पर स्थिरता सुनिश्चित करना और किसी भी अप्रिय घटना को रोकना जारी रखेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें