scorecardresearch
 

इलेक्ट्रिक गाड़ियों का बढ़ रहा है बाजार, 120-140 किलोमीटर तक हो सकती है रफ्तार.. बोले गडकरी

Electric Revolution India: इंडिया टुडे कॉन्क्लेव (India Today Conclave 2021) के 19वें संस्करण का शुक्रवार को आगाज हुआ.इस कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि वर्तमान में देश, पॉल्यूशन और अर्थव्यस्था की वजह से परेशानियों से गुजर रहा है. हमारा इंपोर्ट बिल फिलहाल आठ लाख करोड़ है. पांच सालों में यह 25 लाख करोड़ तक चली जाएगी. पेट्रोल और डीजल की वजह से हमलोग देश में पॉल्यूशन बढ़ा रहे हैं. आज हमें अपने देश को एयर पॉल्यूशन, वाटर पॉल्यूशन और साउंड पॉल्यूशन से बचाना होगा. 

India today conclave 2021 India today conclave 2021
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लीथियम आयन बैटरी के मामले में आत्मनिर्भर होगा भारत
  • दूसरे देशों को भी बेच सकेंगे लीथियम बैटरी
  • इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बढ़ी है बिक्री

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव (India Today Conclave 2021) के 19वें संस्करण का शुक्रवार को आगाज हुआ.इस कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि वर्तमान में देश, पॉल्यूशन और अर्थव्यस्था की वजह से परेशानियों से गुजर रहा है. हमारा इंपोर्ट बिल फिलहाल आठ लाख करोड़ है. पांच सालों में यह 25 लाख करोड़ तक चली जाएगी. पेट्रोल और डीजल की वजह से हमलोग देश में पॉल्यूशन बढ़ा रहे हैं. आज हमें अपने देश को एयर पॉल्यूशन, वाटर पॉल्यूशन और साउंड पॉल्यूशन से बचाना होगा. 

उन्होंने कहा कि हमलोग पेट्रोल और डीजल गाड़ियों का इस्तेमाल कर देश में प्रदूषण फैला रहे हैं. हमें इस देश को तीनों प्रकार के प्रदूषण से बचाने की जरूरत है. हमारे लिए ऑटो मोबाइल सेक्टर बेहद महत्वपूर्ण है. वर्तमान में इस सेक्टर का टर्न ओवर 7.5 लाख करोड़ है. जीडीपी में इसका योगदान 7.1 प्रतिशत है. यह देश का नंबर वन सेक्टर है जो 5 करोड़ लोगों को रोजगार उपलब्ध करवा रहा है. हमारी टीम इस सेक्टर को पूरे विश्व में नंबर वन बनाने के लिए काम कर रही है. सभी प्रतिष्ठित कंपनिया भारत में मौजूद हैं. मुझे विश्वास है कि अगले पांच सालों में हमलोग ऑटो सेक्टर में नंबर वन हो जाएंगे. 

इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बिक्री 140 प्रतिशत बढ़ी

उन्होंने आगे बताया कि इलेक्ट्रिक गाड़ियों की सबसे बड़ी बात यह है कि पिछले साल की तुलना में वैश्विक स्तर पर इसकी बिक्री 140 प्रतिशत बढ़ी है. पूरी दुनिया में इलेक्ट्रिक गाड़ियों को सपोर्ट दी जा रही है. यहां भारत के लिए भी कई सारी संभावनाए हैं.   

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब पेट्रोल से एक किलोमीटर की दूरी तय करने पर दस रुपये का खर्च आ रहा है. वहीं डीजल गाड़ी से एक किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए आठ रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं. लेकिन इलेक्ट्रिक गाड़ी से एक किलोमीटर जाने पर एक रुपये खर्च हो रहा है. मैं अपने विभाग की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में एक एफिड डेबिट कर रहा हूं. पेट्रोल का भाव 110 रुपये 115 रुपये हुआ है. अब मर्सिडीज, बीएमडब्लू, टोयोटा, होंडा ये सभी गाड़ियां ब्राजील में फ्लैक्स इंजन पर चलती हैं. फ्लैक्स इंजन से कॉस्ट में  कोई फर्क नहीं पड़ता. मैं इसे अनिवार्य कर रहा हूं, स्कूटर और ऑटो रिक्शा को भी. इसका मतलब आपके पास विकल्प होगा 100 प्रतिशत पेट्रोल और 100 प्रतिशत इथेनॉल. इथेनॉल का रेट 65 रुपये प्रति लीटर होगा और पेट्रोल का भाव 110 रुपये होगा. इथेनॉल वाली गाड़ियों में भी 20-25 रुपये प्रति लीटर की बचत होगी. आने वाले समय में इथेनॉल के पंप देश में शुरू होंगे. पीएम ने पुणे में तीन इथेनॉल पंप का उद्घाटन कर दिया है. हमारे देश के किसान इथेनॉल तैयार कर रहे हैं. पहले गन्ने से होता था अब मक्के से, चावल से बनेगा. इससे आपकी बचत भी होगी और प्रदूषण भी कम होगा.  

और पढ़ें- India Today Conclave 2021: गाड़ियों की स्पीड लिमिट 140 KM तक करने के पक्ष में गडकरी, संसद में लाएंगे बिल

लीथियम आयन की नहीं है शॉर्टेज

गडकरी ने कहा कि पेट्रोल का रेट अभी 110 रुपये हैं. केंद्र सरकार ऑटो सेक्टर के लिए ईंधन को लचीला रखना चाहती है. हमारे यहां लीथियम आयन की शॉर्टेज नहीं है. भारत खुद ही लीथियम आयन बैटरी बना रहा है. इस मामले में भारत आने वाले समय में आत्म निर्भर भारत बनने वाला है. इलेक्ट्रीक गाड़ियों के लिए लीथियम बैटरी की फैक्टर है. 

उन्होंने आगे कहा कि लीथियम आयन बैटरी भारत में बनती है. इसका पहले के मुकाबले दाम भी 35-50 प्रतिशत कम हुआ है. दूसरा कार स्क्रैपिंग पॉलिसी जो हम लेकर आए हैं. इससे लीथियम और एल्यूमीनियम भी मिलेगा. दुनिया का भंगाड़ हम अपने देश में लाएंगे और इससे कॉपर, एल्यूमीनियम इंपोर्ट करने के बजाए स्क्रैपिंग से निकालेंगे तो इसका कॉस्ट कम होगा. पूरी दुनिया में चर्चा होती है कि लीथियम आयन की सारी माइंस चीन ने ली है. अब लीथियम आयन पूरी दुनिया में कहीं है ही नहीं. तो बता दूं कि लीथियम आयन की कोई शॉर्टेज नहीं है. उसकी कॉस्ट कम हो रही है. आने वाले दिनों में हमलोग इलेक्ट्रिक बैटरी में हमलोग आत्मनिर्भर बनेंगे और दूसरे देशों को भी एक्सपोर्ट करेंगे.  

भारत दूसरे देशों को भी बेचेगा इलेक्ट्रिक बैटरी

उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में भारत दूसरे देशों को भी इलेक्ट्रिक बैटरीज बेच सकता है. जल्द ही ग्रीन हाइड्रोजन भी होगा. इलेक्ट्रिक गाड़ियों को लेकर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पहली बात तो सभी गाड़ियों के लिए चार्जर मिलेगा. अगर कोई भी व्यक्ति रात में गाड़ी चार्ज पर लगाता है तो वह सुबह चलने के लिए तैयार मिलेगी. इलेक्ट्रिक गाड़ियां 400 किलोमीटर की रफ्तार से चल सकती हैं. ऐसा मेरा मानना है कि सड़क पर गाड़ियों की रफ्तार 120-140 तक हो सकती हैं. इसको लेकर मैं संसद में बिला भी लाऊंगा. 

उन्होंने कहा कि कंपनी अब खुद ही गाड़ी के साथ चार्जर दे रही है. मैं भी नागपुर में इसका इस्तेमाल कर रहा हूं. इस मामले में और भी रिसर्च जारी है. मेरा सुझाव है कि इलेक्ट्रिक गाड़ियों को लेकर मार्केट बहुत तेजी से बदल रहा है. जानकार इसको लेकर कई जरूरी रिसर्च भी कर रहे हैं. अभी बड़ी गाड़ियां 400 किलोमीटर तक चार्ज हो रही है. एक आदमी दिन में ज्यादा से ज्यादा 100 से 200 किलोमीटर तक चलता है. 

सड़कें अच्छी बनाई जा रही हैं

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि NHAI की तरफ से मैं मुंबई-दिल्ली हाईवे पर 350 पेट्रोल पंप बना रहा हूं. उसपर इलेक्ट्रिक चार्जेज स्टेशन बी बना रहे हैं. अगर हाईवे पर दिल्ली से चंडीगढ़ जा रहे हैं तो सड़क भी इतनी अच्छी है कि सिर्फ दो घंटे ही लगेंगे.

गडकरी ने कहा कि स्पीड पैरामीटर हमारे लिए बड़ा चैलेंज है. मैं इस मुद्दे को संसद में उठाऊंगा. उन्होंने आगे कहा कि टेस्ला की गाड़ियां 35 लाख रुपये में बेची जाएंगी. इस कंपनी के पास बढ़िया तकनीक है और यह सड़क पर बड़े आराम से चलती है. टेस्ला कंपनी भारत को आत्मनिर्भर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी.

HOP इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के सीईओ केतन मेहता ने कहा कि यह साल ऑटो इंडस्ट्री के लिए ट्रांसफॉर्मिंग वाला रहा है. इलेक्ट्रिक गाड़ियों में लोगों की जबरदस्त रुची देखने को मिली है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें