scorecardresearch
 

IMD Rainfall Alert: इस राज्य में 3 दिनों तक भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

Odisha Heavy Rainfall: इन दिनों देश के कई राज्यों में बारिश की गतिविधियां देखने को मिल रही हैं. कई राज्य ऐसे हैं जहां बारिश से हाहाकार मचा है. वहीं, इस बीच मौसम विभाग ने ओडिशा के कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. यहां पढ़िए मौसम विभाग ने क्या दी जानकारी.

X
Heavy Rainfall (Representational Image)
Heavy Rainfall (Representational Image)

IMD Rainfall Alert, Odisha Heavy Rainfall: देश के कई राज्यों में भारी बारिश के कारण आम जन-जीवन अस्त-व्यस्त है. इस बीच भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने ओडिशा में 9 से 11 सितंबर तक अत्याधिक भारी बारिश होने की संभावना जताई है. साथ ही, मौसम विभाग ने 10 और 11 सितंबर के लिए दक्षिण ओडिशा (South Odisha) और उत्तर आंतरिक ओडिशा के कुछ जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. 

मौसम विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक,  पश्चिम-मध्य और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना है, जिसकी वजह से ओडिशा में बारिश की गतिविधियां देखने को मिलेंगी. भारी बारिश के मद्देनजर मौसम विभाग ने राज्य के पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन की चेतावनी भी दी है. आजतक से बातचीत में IMD के भुवनेश्वर के वरिष्ठ वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने कहा कि पश्चिम-मध्य और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में एक कम दवाब का क्षेत्र बना है, जिसके प्रभाव से ओडिशा में 9 से 11 सितंबर तक भारी बारिश की होगी. साथ ही दक्षिण ओडिशा (South Odisha) और उत्तर आंतरिक ओडिशा (North Interior Odisha) में 10 और 11 सितंबर को बिजली कड़कने के साथ अत्याधिक भारी बारिश होने की संभावना है.

दास ने बताया कि मौसम विभाग ने 10 सितंबर को दक्षिण ओडिशा के 11 जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. जिसके प्रभाव में मलकानगिरी, कोरापुट, नबरंगपुर, रायगढ़, कलाहांडी, कंधमाल, गजपति, गंजाम, खुर्दा, नयागढ़ और पुरी जिलों में बिजली कड़कने के साथ अत्याधिक भारी बारिश होने की संभावना है. उसी प्रकार से 11 सितंबर के लिए उत्तर आंतरिक ओडिशा के 10 जिलों में ऑरेंज अलर्ट की चेतावनी जारी की गई है. इस दौरान बरगढ़, संबलपुर, सोनपुर, बलांगीर, बौद्ध, अंगुल, ढेंकानाल, देवगढ़, झारसुगुड़ा और कटक जिलों में अत्याधिक बारिश होने के आसार हैं. दास ने कहा कि 10 और 11 सितंबर को भारी बारिश के कारण 7-20 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा सकती है. 

दास ने बताया कि भारी बारिश के कारण राज्य में कच्चे मकान और कच्ची सड़कें बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं. साथ ही साथ निचले क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है. भारी बारिश के मद्देनजर किसानों को खेतों में जलजमाव से बचने के जरुरी कदम उठाने की सलाह दी गई है. विभाव के अधिकारी दास ने कहा कि समुंद्र तट पर 45-55 किमी प्रतिघंटा की गति से हवा चलेगी. ऐसे में मछुआरों को 9 से 12 सितंबर तक समुद्र तट पर जाने का आदेश नहीं हैं. राजधानी भुवनेश्वर में अगले 3-4 दिनों तक आसमान में बादल छाये रहेंगें. इस दौरान कभी मूसलाधार बारिश तो कभी हल्की बारिश हो सकती है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें