scorecardresearch
 

Gyanvapi masjid row: SC ने टाली सुनवाई, वाराणसी कोर्ट की कार्यवाही पर भी रोक

Gyanvapi masjid row: ज्ञानवापी मस्जिद से जुड़े मामले पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई को टाल दिया गया. सुप्रीम कोर्ट ने वाराणसी ट्रायल कोर्ट की सुनवाई पर भी रोक लगाई.

X
ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट ट्रायल कोर्ट में जमा हुई (फाइल फोटो) ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट ट्रायल कोर्ट में जमा हुई (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट ट्रायल कोर्ट में आज पेश की गई
  • सर्वे रिपोर्ट में 12 पन्ने हैं, वहीं 3 बक्सों में फोटो, वीडियो आदि हैं

Gyanvapi masjid row: ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टल गई. इसके साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट ने वाराणसी कोर्ट की आज की कार्यवाही पर भी रोक लगा दी. अब मामले पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने जिस वक्त वाराणसी कोर्ट में सुनवाई पर रोक लगाई तब वहां सुनवाई जारी ही थी. वाराणसी कोर्ट में तब ज्ञानवापी मस्जिद से जुड़े सर्वे रिपोर्ट पेश की जा रही थी.

अब सुप्रीम कोर्ट कल शुक्रवार को इस मामले पर दोपहर 3 बजे सुनवाई करेगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ज्ञानवापी के मसले पर कल तीन जजों की बेंच सुनवाई होगी. कोर्ट ने हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन से कहा कि वह अपने स्थानीय वकील से कहें कि वह ट्रायल कोर्ट में आगे कार्यवाही ना करें.

यह भी पढ़ें - ज्ञानवापी में शिवलिंग या फव्वारे की उलझी गुत्थी, जानिए 25x25 वजूखाने की सारी डिटेल

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में विष्णु जैन ने सुनवाई टालने की मांग की थी. उन्होंने अपना जवाब दाखिल करने के लिए कल शुक्रवार तक का ही वक्त मांगा था. वहीं मुस्लिम पक्ष ने कहा है कि इस मामले पर तुरंत सुनवाई की जाए.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 17 मई को सुनवाई करते हुए वाराणसी के जिला मजिस्ट्रेट को ऑर्डर दिया था कि ज्ञानवापी मस्जिद में जिस आकृति को शिवलिंग बताया जा रहा है उसको सुरक्षित किया जाए. साथ ही मुस्लिमों को मस्जिद में नमाज पढ़ने की छूट दी थी. हालांकि, वजूखाने को सील किया गया था.

ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट पेश

श्रृंगार गौरी-ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे से जुड़ी रिपोर्ट वाराणसी कोर्ट के पास जमा की गई. यह रिपोर्ट कोर्ट द्वारा गठित स्पेशल असिस्टेंट कमिश्नर द्वार पेश की गई है. इसे स्पेशल एडवोकेट कमिश्नर विशाल सिंह ने तैयार किया है. इसे वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिविजन रवि कुमार दिवाकर की अदालत में आज जमा किया गया. यह रिपोर्ट 12 पन्नों की है. 

वाराणसी कोर्ट की बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष मुन्ना लाल यादव ने इस मामले पर आजतक से बात की. उन्होंने कहा कि पूर्व एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्रा ने दो पन्नों की रिपोर्ट दी है. वहीं स्पेशल एडवोकेट कमिश्नर विशाल सिंह और असिस्टेंट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने 12 पन्नों की रिपोर्ट दी है.

इसके साथ 70 पन्नों का अनुलग्नक (annexure) दिया गया है. इसके साथ-साथ 3 बक्सों में सबूत भी हैं. इसमें सर्वे की फोटोग्राफ और वीडियो क्लिप मौजूद हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें