scorecardresearch
 

बंगाल: फ्लैट्स में अर्पिता से मिलने कौन-कौन आता था? पता लगाने के लिए ED की फिर रेड, खंगाले CCTV

ईडी के अधिकारी सोमवार की शाम बेलघोरिया इलाके के फ्लैट पर पहुंचे. उन्होंने सोसायटी के सीसीटीवी फुटेज की जांच की और अर्पिता के संबंध में जानकारी ली. उन्होंने विजिटर रजिस्टर बुक का भी निरीक्षण किया. ईडी के अफसर मुख्य रूप से जानना चाहते हैं कि यहां कौन-कौन लोग आते थे और किससे मिलते थे.

X
ईडी के अफसर अर्पिता मुखर्जी से पूछताछ कर रहे हैं.
ईडी के अफसर अर्पिता मुखर्जी से पूछताछ कर रहे हैं.

प्रवर्तन निदेशालय (ED) की रडार पर अब अर्पिता मुखर्जी के करीबी आ गए हैं. यही वजह है कि सोमवार को ईडी की टीम ने एक बार फिर अर्पिता के ठिकाने पर रेड मारी है. सोमवार को केंद्रीय जांच एजेंसी के अधिकारियों ने बेलघोरिया में 'क्लब टाउन हाइट्स' हाउसिंग कॉम्प्लेक्स में छापा मारा, यहां अर्पिता मुखर्जी के दो फ्लैट हैं.

ईडी के अधिकारी शाम को यहां पहुंचे थे. उन्होंने सोसायटी के सीसीटीवी फुटेज की जांच की और अर्पिता के संबंध में जानकारी ली. उन्होंने विजिटर रजिस्टर बुक को भी चेक किया. ईडी के अफसर मुख्य रूप से जानना चाहते हैं कि यहां कौन-कौन लोग आते थे और किससे मिलते थे.

बताते चलें कि ईडी ने 27 जुलाई को इन दो फ्लैटों पर छापेमारी की थी. इनमें से एक फ्लैट से 27.90 करोड़ रुपये का कैश बरामद हुआ था. इसके अलावा, सोने के जेवर, जमीन की डीड, हार्ड डिस्क समेत अन्य चीजें भी बरामद हुई थीं. इससे पहले, ईडी ने अर्पिता के एक अन्य फ्लैट से 21 करोड़ रुपए कैश बरामद किया था.

आज शाम ईडी की तीन सदस्यीय टीम क्लब टाउन हाइट्स स्थित फ्लैट्स पर सीसीटीवी फुटेज लेने पहुंची थी. टीम ने यहां सोसायटी के सचिव अमित चौरसिया से बात की. इसके बाद मेंटेनेंस रूम में पहुंची. वहां लगे सीसीटीवी फुटेज को सुरक्षित रखने के लिए कहा. इसकी जांच भी की और आने-जाने वाले लोगों के बारे में पूरी जानकारी ली. विजिस्टर रजिस्टर को भी खंगाला गया. इससे पहले ईडी के अधिकारी बीते शनिवार को फ्लैट पर आए थे.

बता दें कि ईडी की टीम अर्पिता के अलग-अलग ठिकानों से 50 करोड़ का कैश और कई किलो सोना समेत महत्वपूर्ण कागजात बरामद कर चुकी है. इसमें अर्पिता और पार्थ के बीच खास कनेक्शन भी होने का दावा किया जा रहा है. अर्पिता और पार्थ के संयुक्त के तौर पर एक बंगला खरीदने की रजिस्ट्री भी शामिल है. फिलहाल, ईडी ने अर्पिता और पार्थ को मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार कर लिया है. दोनों से रिमांड पर पूछताछ की जा रही है. 

वहीं, ममता सरकार ने पार्थ को मंत्रिमंडल से हटा दिया है. इसके साथ ही पार्टी से भी सस्पेंड कर दिया है. पार्थ करीब 10 साल से टीएमसी के महासचिव थे और ममता सरकार में पहले शिक्षा मंत्री थे. आरोप है कि उनके कार्यकाल में एसएससी भर्ती में बड़े पैमाने पर घोटाला हुआ. इसके तार मंत्री से जुड़े होने के आरोप लगते रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें