scorecardresearch
 

Indian Railways: डीडीयू-धनबाद समेत ये रेलवे स्टेशन बनेंगे वर्ल्ड क्लास, एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं, जानें डिटेल्स

रेलवे स्टेशन पुनर्विकास योजना (Railway Station Redevelopment Program) के तहत रेलवे अब पूर्व मध्य रेल (East central Railway) के अंतर्गत आने वाले सीतामढ़ी, दरभंगा, बरौनी, धनबाद और पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन को वर्ल्ड क्लास स्टेशन (World Class Station) बनाने जा रहा है.

ECR World Class Railway Station Plan ECR World Class Railway Station Plan
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पूर्व मध्य रेलवे के कई स्टेशन बनेंगे वर्ल्ड क्लास
  • रेल यात्रियों को एयरपोर्ट जैसी मिलेंगी सुविधाएं

Railway Station Redevelopment Program: भारतीय रेलवे यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए मिशन मोड में काम कर रहा है. इसी क्रम में रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास (Railway Station Redevelopment) भी किया जा रहा है. स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत रेलवे अब पूर्व मध्य रेल (East central Railway) के अंतर्गत आने वाले सीतामढ़ी, दरभंगा, बरौनी, धनबाद और पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन को वर्ल्ड क्लास स्टेशन (World Class Station) बनाने जा रहा है.

रेलवे स्टेशनों पर मिलेंगी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं
रेलवे के मुताबिक इन स्टेशनों का पुनर्विकास (Redevelopment) करके विश्वस्तरीय सुविधाओं ( World Class Facilities) से युक्त किया जाएगा. जिसके बाद इन प्रस्तावित स्टेशनों पर यात्रियों को एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं प्रदान की जाएंगी. बता दें कि इससे पहले बिहार के गया, राजेंद्र नगर टर्मिनल, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय और मध्य प्रदेश के सिंगरौली स्टेशन को वर्ल्ड क्लास के रूप में विकसित करने की पहल की जा चुकी है. 

पूर्व मध्य रेलवे के कुल 10 स्टेशनों का पुनर्विकास प्रस्तावित
पांच और स्टेशनों के चयन के बाद पूर्व मध्य रेल (East central Railway) में अब कुल 10 स्टेशनों का पुनर्विकास (Station Redevelopment) करके अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त किया जाएगा. स्टेशनों के पुनर्विकास का कार्य रेल भूमि विकास प्राधिकरण (Rail Land Development Authority) यानी RLDA द्वारा किया जाना है.

Railway Station Redevelopment Plan

यात्रियों को मिलेंगी वर्ल्ड क्लास सुविधाएं
दरअसल, स्टेशन पुनर्विकास (Station Redevelopment) का मुख्य उद्देश्य यात्रियों को संरक्षा, बेहतर एवं सुखद यात्रा अनुभव तथा विश्वस्तरीय यात्री सुविधाएं ( World Class Facilities) प्रदान करना है. स्टेशन को विश्वस्तरीय एवं अत्याधुनिक सुविधा से सुसज्जित करते हुए स्टेशन को ग्रीन बिल्डिंग का रूप दिया जाएगा. जहां वेंटिलेशन आदि की पर्याप्त व्यवस्था होगी. रेलवे के जमीन पर मॉल और मल्टीपर्पस बिल्डिंग बनाई जाएगी. 

रेल यात्रियों के स्टेशन पर आगमन एवं प्रस्थान के लिए प्रवेश और निकास द्वार ऐसे होंगे, जिससे यात्रियों को भीड़-भाड़ का सामना नहीं करना पड़ेगा. स्टेशन पर एक्सेस कंट्रोल गेट एवं प्रत्येक प्लेटफार्म पर लिफ्ट एवं एस्केलेटर लगाए जाएंगे. जिससे यात्रियों को एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर आने-जाने में सुविधा हो. यात्रियों को प्रदान की जाने वाली आवश्यक सुविधाओं में खान-पान, वॉशरूम, पीने का पानी, एटीएम, इंटरनेट आदि शामिल  होंगे. इससे आम यात्रियों के साथ वरिष्ठ नागरिक विशेष रूप से लाभान्वित होंगे.

इस बारे में जानकारी देते हुए पूर्व मध्य रेल (East Central Railway) के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि इन 5 स्टेशनों समेत कुल 10 प्रस्तावित स्टेशनों को वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन की तरह विकसित किया जाएगा. उन्होंने बताया कि पुनर्विकास के क्रम में दिव्यांगजनों के लिए भी सभी सुविधाएं जैसे रैम्प, ब्रेल लिपि इत्यादि प्रदान की जाएंगी. जिससे वे स्वयं रेल यात्रा करने में सक्षम हो सकें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें