scorecardresearch
 

देवघर एयरपोर्ट विवाद: ट्विटर वॉर से FIR तक... BJP सांसद निशिकांत दुबे और इस अधिकारी में पुरानी अदावत

गोड्डा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे और डीसी मंजूनाथ भजंत्री की पुरानी अदावतें सामने आ रही हैं. पहले इन दोनों के बीच ट्विटर वॉर हुआ और अब मुकदमों का दौर शुरू हो गया है. पहले डीएसपी की ओर से निशिकांत दुबे समेत बीजेपी के 9 नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया. अब निशिकांत की ओर से देवघर के डीसी मंजूनाथ भजंत्री के खिलाफ दिल्ली में देशद्रोह समेत कई धाराओं में FIR दर्ज कराई गई है. 

X
निशिकांत दुबे और डीसी मंजूनाथ भजंत्री (फाइल फोटो)
निशिकांत दुबे और डीसी मंजूनाथ भजंत्री (फाइल फोटो)

झारखंड के देवघर एयरपोर्ट में सुरक्षा चूक का विवाद बढ़ता जा रहा है. गोड्डा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे और डीसी मंजूनाथ भजंत्री की पुरानी अदावतें सामने आ रही हैं. पहले इन दोनों के बीच ट्विटर वॉर हुआ और अब मुकदमों का दौर शुरू हो गया है. पहले एयरपोर्ट के सुरक्षा इंचार्ज डीएसपी सुमन आनंद की ओर से निशिकांत दुबे समेत बीजेपी के 9 नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया. अब निशिकांत की ओर से देवघर के डीसी मंजूनाथ भजंत्री के खिलाफ दिल्ली में देशद्रोह समेत कई धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई गई है. 

निशिकांत दुबे ने इसके पहले एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने बताया था कि डीसी मंजूनाथ भजंत्री ने उनके खिलाफ 8 झूठे मुकदमे दर्ज कराए थे और उसके बाद चुनाव आयोग ने झारखंड सरकार को देवघर डीसी पद से हटाने का आदेश दिया था. बीजेपी सांसद ने पूछा कि झारखंड सरकार ने मंजूनाथ भजंत्री के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की? 

निशिकांत और डीसी के बीच ट्विटर वॉर 

बीते 3 सितंबर को डीसी मंजूनाथ और निशिकांत दुबे के बीच ट्विटर वॉर भी हुआ. दरअसल निशिकांत ने पहले डीसी देवघर के ट्वीट के स्क्रीनशॉट शेयर किया, इस ट्वीट को बाद में डिलीट कर दिया गया था. इसमें लिखा था कि "एयरपोर्ट संचालन के सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करते हुए यात्रियों द्वारा ATC में प्रवेश किया गया. नाइट ऑपरेशन की सुविधा न रहने के बावजूद, यात्रियों की सुरक्षा को नजरअंदाज करते हुए क्लीयरेंस के लिए दबाव बनाया गया." 

इसको शेयर करते हुए निशिकांत दुबे ने डीसी से पूछा कि आप एयरपोर्ट के अंदर किस हैसियत से गए? उन्होंने लिखा, "यह एक अपराधी का अंदाज है जो जबरदस्ती बिना अनुमति के सुरक्षा घेरा तोड़कर घुसता है. आप एयरपोर्ट के अंदर किस हैसियत से गए? आपको CCTV देखने की इजाज़त किसने दी? आप फरषटाईया गए हैं, मुख्यमंत्री की चमचागिरी करिए व मस्त रहिए." 

 

इसका जवाब देते हुए डीसी ने बताया कि सांसद जी, मैंने एंट्री पास लेकर एयरपोर्ट टर्मिनल में एंट्री की थी और डीसी देवघर हवाई अड्डे के निदेशक मंडल का सदस्य भी होता है. इसके बाद डीसी ने लिखा कि इस घटना को सक्षम अधिकारियों द्वारा जांच के लिए छोड़ दिया जाना बेहतर है. 

डीसी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा से छेड़छाड़ का आरोप

इसके बाद निशिकांत दुबे ने डीसी के ऊपर नेशनल सिक्योरिटी से छेड़छाड़ का आरोप लगाया. इसके जवाब में डीसी ने एमपी से तीन सवाल पूछे. डीसी ने पूछा कि आपको एटीसी रूम में आने की अनुमति किसने दी? आपके दोनों बच्चों को एटीसी रूम में आने की इजाजत किसने दी और आपके समर्थक एटीसी बिल्डिंग में क्यों आए? इसके बाद निशिकांत ने बताया कि उन्हें देवघर एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी का चेयरमैन होने के नाते वहां जाने का अधिकार है. इसके जवाब में डीसी ने बताया कि मुझे आपकी नियुक्ति के बारे में कोई जानकारी नहीं है. लेकिन क्या आपके बच्चे भी एटीसी रूम में जा सकते हैं? 

IAS ने एमपी को लिखा- थैंक यू

इसके बाद बीजेपी सांसद ने आईएएस अधिकारी को विमानन नियमों के अध्ययन करने की सलाह दी और कहा कि आगे कोई भी टिप्पणी नियम पढ़ने के बाद ही करें. इसके जवाब में डीसी ने सांसद को  सलाह के लिए धन्यवाद दिया और लिखा कि एयरपोर्ट के सबसे संवेदनशील और हाई सिक्योरिटी एरिया एटीसी में बच्चों को ले जाया जा सकता है, ऐसा कभी सोचा नहीं था. 

निशिकांत ने हेमंत सरकार पर लगाया आरोप 

देवघर एयरपोर्ट सिक्योरिटी मामले में निशिकांत दुबे ने आजतक से बात करते हुए कहा कि यह FIR एयरपोर्ट अथॉरिटी को करानी चाहिए थी. यदि एयरपोर्ट के अंदर किसी प्रकार का कोई इंसिडेंट होता है, चाहे वो CISF हो या फिर स्टेट पुलिस उसकी जानकारी एयरपोर्ट अथॉरिटी को दी जाती है और एयरपोर्ट अथॉरिटी उस पर FIR करती है.  

एयरपोर्ट अथॉरिटीज में चार अलग-अलग एजेंसी काम करती हैं. किसी ने मेरे खिलाफ FIR नहीं की. कॉल लॉग बुक के मुताबिक, हमने सही समय पर उड़ान भरी. निशिकांत दुबे ने हेमंत सोरेन पर हमला बोलते हुए कहा कि हम लोग दुमका गए तो लोगों का बीजेपी के प्रति विश्वास बन रहा है, इसलिए सोरेन फैमिली परेशान है. इसीलिए उन्होंने देवघर एयरपोर्ट में सुरक्षा का मामला उठाया.  

डीसी की कार्रवाई से नाराज हैं निशिकांत

बीजेपी सांसद ने कहा कि जिसने मेरे खिलाफ FIR दर्ज की है उसने 2022 में मेरे खिलाफ 18 FIR की थी. डीसी कौन हैं, जिसने इस तरीके एयरपोर्ट अथॉरिटी के डायरेक्टर के खिलाफ FIR की. निशिकांत ने दावा किया कि अगर किसी भी CCTV फुटेज में अगर मैं अथॉरिटी के किसी व्यक्ति से बात करते नजर आया तो राजनीति से संयास ले लूंगा. इस पूरे मामले में डीसी देवघर डरा रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने झारखंड सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि यह इस्लामीकरण का दौर है, इसीलिए इस पूरे मामले को हेमंत सोरेन ने एक मौका दिया. 

DRDO का है देवघर एयरपोर्ट 

डीसी देवघर के खिलाफ FIR को लेकर बीजेपी सांसद ने का कहा कि यह एयरपोर्ट DRDO का है. ऐसे में डीसी इस फुटेज को लीकआउट कर रहे हैं, जोकि सुरक्षा में एक बड़ी चूक है. जिसको लेकर हमने दिल्ली में भी देवघर डीसी और सुमंत आनंद के खिलाफ FIR दर्ज कराई है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें