scorecardresearch
 

Coronavirus Second Wave: दूसरी लहर में काल बन गया कोरोना, 2 लाख से ज्यादा लोगों की चली गई जान; दुनिया में सिर्फ ब्राजील ही भारत से आगे

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश में काफी तबाही मचाई है. पिछले तीन महीनों में कोरोना के लाखों नए मामले सामने आए, जबकि दो लाख से ज्यादा लोगों की जान चली गई. कोरोना के काल बनने की वजह से बड़ी संख्या में लोगों ने अपने परिचितों को खो दिया. कई लोगों को अस्पताल में बिस्तर नहीं मिला तो कइयों ने ऑक्सीजन का इंतजार करते हुए दम तोड़ दिया.

Covid-19 India Update Covid-19 India Update
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना की दूसरी लहर ने लाखों लोगों को संक्रमित कर दिया
  • मार्च के बाद देश में दो लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई
  • पिछले कुछ दिनों में देश में कम हुए हैं कोविड-19 के नए केस

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने अप्रैल-मई में लंबे समय तक आतंक मचाया. दुनिया में पहली बार किसी देश में रोजाना मिलने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा चार लाख के पार तक पहुंच गया. वहीं, समय बीतने के साथ-साथ मरने वालों की संख्या भी बढ़ती चली गई.

हालांकि, बीते कुछ दिनों से मिल रहे मामलों में कमी आई है, लेकिन मृतकों का आंकड़ा अब भी चिंता का सबब बना हुआ है. आंकड़ों की मानें तो कोरोना की दूसरी लहर में एक मार्च के बाद दो लाख से ज्यादा लोगों की महामारी की वजह से जान चली गई. इस तरह से पिछले साल शुरू हुई महामारी से मरने वाले पांच में से तीन लोगों की जान दूसरी लहर में ही गई. वहीं, दूसरी लहर के दौरान, भारत से ज्यादा मौतें सिर्फ ब्राजील में ही हुई हैं, जबकि तीसरे नंबर पर अमेरिका है.

भारत से सिर्फ यह देश है आगे
दूसरी लहर में 102 दिनों में जान गंवाने वाले देशों में भारत के आगे सिर्फ ब्राजील ही है. यहां पर इस अवधि के दौरान सवा दो लाख लोगों की कोरोना महामारी की वजह से मौतें हुई हैं, जबकि अमेरिका में 82,738 लोगों की जान गई. हालांकि, अमेरिका में कम मौतों के पीछे बड़ी आबादी को कोविड का टीका लग चुका होना बताया जा रहा है. वहीं, रोजाना जारी होने वाले कोरोना मृतकों का आंकड़े में बाद में सुधार किया गया है. मई के पहले हफ्ते से तकरीबन 16,300 मौतों को स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों में जोड़ा गया है. महाराष्ट्र ने 11,583 मौतों को जोड़ा, जबकि बिहार ने 3,951 और उत्तराखंड में 779 मौतें जोड़ी गईं. पिछले सिर्फ दो दिनों में ही 5,873 मौतों को जोड़ा गया है. इसमें से बिहार ने जहां 3951 मौतों को ऐड किया है, वहीं, अन्य संख्या महाराष्ट्र की है.

औसतन दो हजार की रोज मौत
कोरोना की दूसरी लहर में लोगों ने बड़ी संख्या में अपने को खोया. शायद ही कोई परिवार बचा होगा, जिन्होंने अपने किसी जानने वाले व्यक्ति को संक्रमित होते या फिर जान गंवाते हुए नहीं सुना होगा. सेकंड वेव की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक मार्च के बाद औसतन रोजाना दो हजार लोगों की जानें गई हैं. यह संख्या कोरोना महामारी से मरने वालों की है. देश में कोरोना से अब तक हुईं कुल मौतों का यह 57 फीसदी है. अभी तक भारत में 3,63,029 लोग कोरोना महामारी से जान गंवा चुके हैं.

देश में आज कोरोना के कितने मामले?
भारत में लगातार चौथे दिन कोरोना वायरस के एक लाख से कम मामले सामने आए हैं. शुक्रवार सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटों में  91,702 नए मामले मिले, जिसके बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 2,92,74,823 हो गया है. पॉजिटिविटी रेट भी घटकर अब 4.49 रह गई है. वहीं, 3,403 और लोगों की वायरस से मौत होने के बाद मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 3,63,079 हो गया है. अभी एक्टिव केसों की संख्या 11,21,671  है, जिनका होम आइसोलेशन या फिर अस्पतालों में इलाज चल रहा है. बीते एक दिन में देश में एक्टिव केसों में  46,281 की कमी देखी गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें