scorecardresearch
 

Assembly Elections: 5 राज्यों के चुनाव में बीजेपी ने किया सबसे ज्यादा खर्च, कांग्रेस दूसरे नंबर पर 

निर्वाचन आयोग के हिसाब के मुताबिक, इस साल 5 राज्यों यूपी, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में हुए चुनाव में भाजपा ने 344 करोड़ रुपए खर्च किए तो कांग्रेस ने भी 195 करोड़ के लगभग खर्च कर दिए. यानी पिछले चुनाव की अपेक्षा दोनों दलों ने अपना खर्च बढ़ाया है.

X
सांकेतिक फोटो सांकेतिक फोटो

देश में इस साल हुए पांच राज्यों के चुनाव में बीजेपी ने सबसे ज्यादा रुपये खर्च किए तो वहीं कांग्रेस चुनाव प्रचार में खर्च करने वाली दूसरी सबसे बड़ी पार्टी रही. निर्वाचन आयोग के मुताबिक, इन राज्यों के चुनाव में जहां बीजेपी ने 344 करोड़ खर्च किए तो वहीं कांग्रेस 195 करोड़ खर्च करके दूसरे नंबर की पार्टी रही. 

निर्वाचन आयोग की नियमावली के मुताबिक, राजनीतिक दलों को विधानसभा चुनाव खत्म होने के ढाई महीने यानी 75 दिनों में और लोकसभा चुनाव होने के बाद तीन महीने यानी 90 दिनों में चुनाव में हुए आमदनी खर्चे का हिसाब-किताब देना जरूरी होता है.  

निर्वाचन आयोग के हिसाब के मुताबिक, इस साल 5 राज्यों यूपी, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में हुए चुनाव में भाजपा ने 344 करोड़ रुपए खर्च किए तो कांग्रेस ने भी 195 करोड़ के लगभग खर्च कर दिए. जिसकी जितनी कमाई रही उसी अनुपात में खर्च भी किया. निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, इन्हीं राज्यों में 2017 में हुए चुनावों में कांग्रेस ने 108 करोड़ रुपये ही खर्च किए थे. यानी पांच साल में चुनावी खर्च में करीब 80 फीसद का इजाफा हुआ है. वहीं बीजेपी ने पिछले चुनाव में 218 करोड़ रुपए खर्चे थे. यानी लगभग 58 फीसदी कम खर्च किया था.  

यूपी में बीजेपी ने खोला था खजाना 

चुनाव खर्च को लेकर आयोग का विश्लेषण बताता है कि बीजेपी ने सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के चुनावों को लेकर खजाना खोल दिया और दिल खोल कर खर्च किया. उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में सबसे ज्यादा 221 करोड़ 32 लाख रुपए खर्च का हिसाब किताब दिया गया है, जबकि 2017 में 26 फीसद कम रकम खर्च हुई यानी 175 करोड़ 10 लाख रुपये खर्च किए थे. अब ये सब तो हिसाब-किताब वाला खर्च है. जाहिर है कि लगभग इतना ही गैर हिसाब वाला खर्चा भी हुआ होगा.  

गोवा में खर्च किए गए करीब साढ़े चार करोड़  

आंकड़ों के मुताबिक, सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में 221.32 करोड़ फिर उत्तराखंड 43.67 करोड़, पंजाब में 36.70, मणिपुर में 23.52 और सबसे कम सबसे छोटे राज्य गोवा में 19.07 करोड़ रुपये खर्च हुए. पांच साल पहले 2017 के चुनाव में यूपी में 175 करोड़, उत्तराखंड में साढ़े 23 करोड़, मणिपुर में 7.86 करोड़, पंजाब में मणिपुर से भी कम 7.43 करोड़ और गोवा में 4.37 करोड़ रुपये खर्च हुए थे.  

वर्चुअल कैंपेन पर कांग्रेस ने खर्च किए 15 करोड़ 

विश्लेषण के मुताबिक, खर्चे का बड़ा हिस्सा स्टार प्रचारकों और नेताओं के हेलीकॉप्टर और सड़क मार्ग यात्रा, रहने के खर्च, चुनावी रैलियों के आयोजन, ऑनलाइन प्रचार आदि पर ही हुआ है. वर्चुअल कैंपेन पर बीजेपी ने पांचों राज्यों में 12 करोड़ रुपये खर्च का हिसाब दिया है. कांग्रेस इसमें बीजेपी से 21 निकली. कांग्रेस ने बीजेपी के 12 करोड़ के मुकाबले वर्चुअल कैंपेन पर 15 करोड़ 67 लाख रुपये खर्च किए. इसमें सोशल मीडिया, ऐप्स और अन्य वर्चुअल माध्यमों से प्रचार किया गया. चुनाव घोषित होने से लेकर नतीजे आने के 63 दिनों की अवधि के बीच बीजेपी को 914 करोड़ रुपये का चंदा मिला जबकि कांग्रेस को करीब 240.10 करोड़ रुपये सहयोग राशि यानी चंदे के रूप मे मिले. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें