scorecardresearch
 

केजरीवाल के सिंगापुर टूर पर विवाद: जब विपक्षी नेताओं को विदेश जाने की अनुमति नहीं मिली

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के सिंगापुर दौरे पर सियासी घमासान मचा हुआ है. केंद्र की ओर से अभी तक केजरीवाल को सिंगापुर जाने की मंजूरी नहीं मिली है. इससे पहले भी कई बार केंद्र सरकार विपक्षी नेताओं की विदेश जाने की अर्जी खारिज कर चुकी है.

X
सिंगापुर जाने की मंजूरी नहीं मिलने पर अरविंद केजरीवाल का कहना है कि वो मुख्यमंत्री हैं, कोई अपराधी नहीं. (फाइल फोटो-PTI)
सिंगापुर जाने की मंजूरी नहीं मिलने पर अरविंद केजरीवाल का कहना है कि वो मुख्यमंत्री हैं, कोई अपराधी नहीं. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ममता बनर्जी की 3 बार विदेश जाने की अर्जी खारिज हुई
  • केजरीवाल को डेनमार्क जाने की नहीं मिली थी इजाजत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सिंगापुर दौरे को लेकर बवाल मचा हुआ है. केंद्र की ओर से अभी तक सिंगापुर जाने की मंजूरी नहीं मिलने पर केजरीवाल ने अपनी नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने सवाल किया कि उन्हें सिंगापुर जाने की मंजूरी देने में इतना समय क्यों लिया जा रहा है?

सोमवार को अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'मैं एक चुना हुआ मुख्यमंत्री और देश का स्वतंत्र नागरिक हूं, कोई अपराधी नहीं हूं. मुझे क्यों रोका जा रहा है? मुझे सिंगापुर की सरकार ने दिल्ली मॉडल प्रेजेंट करने के लिए बुलाया है.'

इससे पहले उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चिट्ठी लिखकर सिंगापुर जाने की अनुमति देने की मांग की थी. पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी में केजरीवाल ने दावा किया था कि वो एक महीने से सिंगापुर जाने की इजाजत मिलने का इंतजार कर रहे हैं. 

अगस्त के पहले हफ्ते में सिंगापुर में 'वर्ल्ड सिटीज समिट' होनी है. इस समिट में अरविंद केजरीवाल को बुलाया गया है.

केजरीवाल को जवाब देते हुए बीजेपी के आईटी डिपार्टमेंट के प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट किया, 'अरविंद केजरीवाल सिंगापुर में उस समिट में जाने की अनुमति मांग रहे हैं, जो मेयरों के लिए है. कोई उन्हें याद दिलाए कि वो अभी भी दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं. उदाहरण के लिए सूरत की मेयर हेमाली बोघावाला को भी इस समिट का न्योता दिया गया है.'

3 साल पहले भी नहीं मिली थी मंजूरी

इससे पहले तीन साल पहले भी अरविंद केजरीवाल को विदेश जाने की मंजूरी नहीं मिली थी. अक्टूबर 2019 में डेनमार्क में C-40 क्लाइमेट समिट होनी थी, जिसमें केजरीवाल को बुलाया गया था, लेकिन केंद्र ने उन्हें वहां जाने की अनुमति नहीं दी थी. इसके बाद उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया था.

उस समय केंद्र ने इस पर सफाई देते हुए कहा था कि ये मेयर लेवल की कॉन्फ्रेंस है, जिस कारण केजरीवाल को मंजूरी नहीं दी गई. हालांकि, केजरीवाल ने उस समय सवाल उठाते हुए कहा था कि अगर मेयर लेवल की कॉन्फ्रेंस थी, तो आपकी पार्टी के 'मेयर' को क्यों नहीं बुलाया गया?

और किस विपक्षी नेता को नहीं मिली थी इजाजत

ममता बनर्जी को तीन बार नहीं मिली इजाजत

- दिसंबर 2021: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को विदेश मंत्रालय ने नेपाल जाने की इजाजत नहीं दी थी. ममता बनर्जी को नेपाली कांग्रेस ने अपने कन्वेंशन का न्योता दिया था. ये कन्वेंशन 10 से 12 दिसंबर तक होना था.

- सितंबर 2021: इटली में होने वाली 'वर्ल्ड पीस कॉन्फ्रेंस' में भी ममता बनर्जी को बुलाया गया था. लेकिन विदेश मंत्रालय ने उन्हें वहां जाने की अनुमति नहीं दी थी.
 
- सितंबर 2018: ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि उन्हें केंद्र ने शिकागो में होने वाली 'वर्ल्ड हिंदू कॉन्फ्रेंस' में जाने की मंजूरी नहीं दी. हालांकि, केंद्र का कहना था कि ममता बनर्जी ने सरकार से वहां जाने की मंजूरी ही नहीं मांगी.

अर्जुन मुंडा को बैंकॉक जाने की नहीं मिली थी मंजूरी

- जून 2011: तत्कालीन झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा को बैंकॉक जाने की मंजूरी नहीं मिली थी. मुंडा बीजेपी से जुड़े थे और केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी. उस समय 'इंडियन इंजीनियरिंग एक्जिबिशन' में मुंडा समेत राज्य के कई सीनियर अधिकारियों को बैंकॉक जाने की इजाजत नहीं मिली थी.

जब राज्यों के मंत्रियों को नहीं मिली थी मंजूरी

- दिल्ली सरकार में मंत्री मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन को भी विदेश जाने की इजाजत नहीं मिली थी. 2018 में दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को ऑस्ट्रिया जाने की मंजूरी नहीं मिली थी. उन्हें वहां शिक्षा के क्षेत्र में किए गए दिल्ली सरकार के काम के बारे में चर्चा के लिए बुलाया गया था. 

- वहीं, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की भी ऑस्ट्रेलिया जाने की अर्जी खारिज हो गई थी. उन्हें वहां यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न में दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक्स पर चर्चा करने के लिए बुलाया गया था.

- अक्टूबर 2018 में केंद्र सरकार ने केरल सरकार के मंत्रियों को 17 देशों की यात्रा पर जाने की मंजूरी नहीं दी थी. मंत्री केरल में आई बाढ़ के लिए देशों से राहत सामग्री के लिए रकम जुटाने के लिए यात्रा करने वाले थे. हालांकि, केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को विदेश जाने की इजाजत दे दी थी.

(रिपोर्टः आलोक रंजन)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें