scorecardresearch
 

ओवैसी का सवाल- आशीष मिश्रा का घर क्यों नहीं गिरा रही BJP? योगी को बताया 'सुपर चीफ जस्टिस'

यूपी में हिंसा फैलाने वालों की संपत्तियों पर बुलडोजर चला तो इस पर सियासी हंगामा भी शुरू हो गया है. विपक्ष ने इसे कानून का उल्लंघन बताया और प्रशासन की कार्रवाई पर सवाल उठाया है.

X
AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)
AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ओवैसी ने सीएम योगी को बताया सुपर चीफ जस्टिस
  • भारतीय मुसलमानों को सता रही है बीजेपी: ओवैसी

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रदेश में हिंसक प्रदर्शन करने वालों पर कड़ा रुख अपना रही है. हाल ही में भड़की हिंसा के बाद यूपी में जहां ताबड़तोड़ गिरफ़्तारियां हुईं तो वहीं दूसरी तरफ प्रयागराज में रविवार को शहर में भड़की हिंसा के मास्टरमाइंड बताए जा रहे जावेद पंप के घर को जमीदोज कर दिया गया. यूपी में हिंसा फैलाने वालों की संपत्तियों पर बुलडोजर चला तो इस पर सियासी हंगामा भी शुरू हो गया है. 

विपक्ष ने इसे कानून का उल्लंघन बताया और प्रशासन की कार्रवाई पर सवाल उठाया है. वहीं बीजेपी नेता ऐसे एक्शन को सही ठहरा रहे हैं, कड़ी कार्रवाई को ही उपद्रवियों का जवाब बता रहे हैं. इसी बीच यूपी में बुलडोजर एक्शन पर AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी भड़क गए. उन्होंने कहा कि यूपी के सीएम 'सुपर चीफ जस्टिस' बन गए हैं. जो कि अपने कोर्ट में किसी को भी सजा दे सकते हैं.

ओवैसी ने बीते रविवार प्रयागराज में जावेद पंप के घर पर हुई 'बुलडोजर' कार्रवाई को लेकर कहा कि आफरीन फातिमा का घर उनकी मां के नाम था. इसके अलावा उन्होंने एक बार फिर लखीमपुर कांड की याद दिलाते हुए कहा कि बीजेपी 5 लोगों की हत्या के आरोपी और योगी सरकार में मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के घर को क्यों नहीं गिरा रही है? उन्होंने कहा कि बीजेपी भारतीय मुसलमानों को सामूहिक सजा दे रही है.

इससे पहले गुजरात में AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने हाल ही में हुए एक कार्यक्रम के दौरान जावेद पंप के घर पर चलाए गए बुलडोजर की कार्रवाई पर योगी सरकार को निशाने पर लिया. ओवैसी ने कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री अब उत्तर प्रदेश के चीफ जस्टिस बन चुके हैं. वो अब फैसला करेंगे कि किसका घर तोड़ना है. ओवैसी ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश में कोर्ट और अदालतों में ताला लगा देना चाहिए और जजों को कह देना चाहिए कि वो कोर्ट ना जाएं, क्योंकि अब अदालत की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि ये फैसला तो सीएम योगी करेंगे कि आखिरकार मुलजिम कौन है? 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें