scorecardresearch
 

Dellhi AIIMS Director: रणदीप गुलेरिया के बाद कौन बन सकते हैं एम्स के नए डायरेक्टर?

AIIMS डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया इस साल मार्च में रिटायर होने जा रहे हैं. उनके बाद अब कौन निदेशक बनेगा, इसको लेकर चर्चा शुरू हो चुकी है. कई नामों पर विचार किया जा रहा है, लेकिन रेस में सबसे आगे बलराम भार्गव चल रहे हैं.

X
रणदीप गुलेरिया
रणदीप गुलेरिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 23 मार्च को रिटायर होंगे रणदीप गुलेरिया
  • नए डायरेक्टर के लिए नामों पर विचार जारी

AIIMS के वर्तमान डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया रिटायर होने जा रहे हैं. 23 मार्च को वे इस पद को छोड़ देंगे. ऐसे में दिल्ली AIIMS को जल्द ही एक नया निदेशक मिल जाएगा. इसकी प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है और कई नामों पर चर्चा जारी है.

इस बार एम्स के निदेशक पद के लिए जो आवेदन आए हैं, उसमें एम्स के बाहर के डॉक्टर्स ने भी अप्लाई किया है. यहां ये जानना जरूरी है कि केवल एम्स के ही नही बल्कि किसी भी अस्पताल के डायरेक्टर जिनके पास डॉक्टरी का 25 साल का अनुभव, 10 साल का रिसर्च के साथ ही टीचिंग का भी अनुभव हो, वे इस पद के लिए आवेदन कर सकते हैं.

अभी के लिए इस पोस्ट के लिए  बाहरी आवेदन ज्यादा आते दिख रहे हैं. ऐसे में अटकलें लग रही हैं कि लंबे समय बाद AIIMS के बजाय किसी दूसरे अस्पताल के डॉक्टर को भी नियुक्त किया जा सकता है. इस रेस में सबसे आगे माने जा रहे हैं बलराम भार्गव.

बलराम भार्गव वर्तमान में आईसीएमआर के डीजी हैं. कहते हैं कि 14 साल की उम्र में पिता को हार्ट अटैक आने के बाद भार्गव ने इलाज करने को ही अपना पेशा बना लिया. यही वजह है कि आज भी बिजी शेड्यूल में वे लोगों के इलाज के लिए समय निकाल लेते हैं.

बलराम भार्गव के नाम बड़े कारनामे

बलराम भार्गव ने अपने करियर में कई ऐसी रिसर्च भी की हैं जिस वजह से उनकी अहमियत काफी ज्यादा रही है. उन्होंने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के दौरान पता लगाया था कि गाड़ी ड्राइव करने वाले ड्राइवरों के दिल पर प्रदूषण का काफी असर पड़ता है. वही उन्होंने तंबाकू चबाने से दिल के बढ़ते खतरे के बारे में भी अपनी रिसर्च से लोगों को चौंकाया था.

उन्हें दवा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया है. भार्गव ने देश में बने कम लागत वाले कार्डियोलॉजिकल स्टेंट (कोरोनरी स्टंट ) को भी खुद बनाया है. वैसे रणदीप गुलेरिया की बात करें तो उनका करियर भी काफी शानदार रहा है.

वे AIIMS के डायरेक्टर बनने से पहले एम्स में फेफड़े से संबंधित रोगों के HOD रहे हैं. उन्होंने खुद पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और पूर्व विदेश मंत्री सुष्मा स्वराज का इलाज भी कर रखा है. इस सब के अलावा गुलेरिया देश के पहले ऐसे डॉक्टर हैं जिनके पास प्लमनरी मेडिसिन और क्रिटिकल केयर में डॉक्टरेट ऑफ मेडिसिन की डिग्री है.       

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें