scorecardresearch
 

कोयला संकट के बाद अब यूरिया की कमी कई राज्यों के लिए नई चुनौती, पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

किसानों के लिए संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. पहले बिजली संकट और अब यूरिया संकट ने उनकी स्थिति खराब कर दी है. कई राज्यों को खाद की कमी का सामना करना पड़ रहा है और किसानों ने आंदोलन की धमकी दी है.

कई राज्यों में यूरिया की कमी से किसान परेशान (सांकेतिक-पीटीआई) कई राज्यों में यूरिया की कमी से किसान परेशान (सांकेतिक-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोयला संकट के बीच कई राज्यों में यूरिया की कमी बनी समस्या
  • एमपी में हफ्ते में किसानों ने 2 बार नेशनल हाईवे को अवरुद्ध किया
  • यूरिया की कमी दूर नहीं हुई तो राजस्थान में किसान करेंगे आंदोलन

तेल की कीमतों में वृद्धि के बीच एक ओर देश में कोयला संकट मंडरा रहा है तो दूसरी ओर यूरिया की कमी कई राज्यों के लिए अगली बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रही है. अब, रबी (सर्दियों) की फसलों की बुवाई जल्द शुरू होने के साथ, यूरिया की कमी किसानों के लिए एक बड़ी समस्या बन सकती है.

कोयले की आपूर्ति की कमी ने पहले ही भारत में संभावित भारी बिजली कटौती की संभावना बना दी है. कई राज्यों ने कमी की जानकारी दी है और आने वाले दिनों में संभावित बिजली आउटेज की शिकायत भी की है, जबकि केंद्र सरकार ने आश्वासन दिया है कि कोयले की कोई कमी नहीं है.

मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों के किसान संकट से नाराज हैं, कुछ ने विरोध प्रदर्शन किया और राष्ट्रीय राजमार्गों को अवरुद्ध कर दिया. केंद्र ने हाल ही में रबी या सर्दी के मौसम के लिए 28,655 करोड़ रुपये की अतिरिक्त उर्वरक सब्सिडी को मंजूरी दी है. आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने मंगलवार को फॉस्फेटिक और पोटाश उर्वरकों के लिए नई पोषक तत्व आधारित सब्सिडी दरों को मंजूरी दी है.

उर्वरक कंपनियों को किसानों को उनके उत्पाद बाजार मूल्य से कम कीमत पर बेचने पर मुआवजे के रूप में सब्सिडी का भुगतान किया जाता है.

इसे भी क्लिक करें --- पराली को खाद में बदलने वाले बायो डिकम्पोजर की बढ़ी डिमांड

मध्य प्रदेशः खाद नहीं मिलने पर कर रहे प्रदर्शन

मध्य प्रदेश की बात करें तो राज्य के भिंड-मुरैना क्षेत्र में किसान बेहद परेशान हैं क्योंकि उन्हें रबी फसल की कटाई से पहले ही उर्वरक संकट का सामना करना पड़ रहा है. भिंड में, किसानों ने अपनी दुर्दशा को उजागर करने के लिए पिछले एक हफ्ते में दो बार नेशनल हाईवे को अवरुद्ध कर दिया.

मुरैना में स्थानीय गल्ला मंडी में आपूर्ति से अधिक मांग होने पर किसानों ने जबरन खाद की बोरियां छीन लीं. मुरैना की कैलारस गल्ला मंडी में मंगलवार को पुलिस को उन किसानों को नियंत्रित करने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा, जो प्रशासन द्वारा उन्हें उर्वरक उपलब्ध कराने में विफल रहने के बाद प्रदर्शन कर रहे थे. वहीं, श्योपुर में पुलिस संरक्षण में किसानों को खाद उपलब्ध कराई जा रही है.

हालांकि, राज्य के कृषि मंत्री कमल पटेल ने दावा किया है कि राज्य में उर्वरकों की कोई कमी नहीं है और कांग्रेस अशांति फैलाने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि उर्वरक की कोई कमी नहीं है. हमारे पास 5,000 मीट्रिक टन डाई-अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी) है, लेकिन कांग्रेस ने अफवाह फैलाकर परेशानी पैदा कर दी. हमारे पास तीन और रैक होंगे जिससे कोई कमी नहीं होगी लेकिन जो लोग अफवाहों के कारण अधिक खरीदना चाहते हैं, और उन्हें यह नहीं मिलेगा.

यूरिया के बाद सबसे लोकप्रिय उर्वरक डाई-अमोनियम फॉस्फेट है, जिसे डीएपी के नाम से जाना जाता है.

राजस्थानः खाद की कमी से उग्र हो रहे किसान
 

राज्य में सिर्फ बिजली की कमी नहीं है जिससे यहां के किसान जूझ रहे हैं. बल्कि यूरिया और उर्वरकों की कमी ने भी रेगिस्तानी राज्य के किसानों पर खासा प्रतिकूल प्रभाव डाला है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी केंद्र सरकार से अपील की है कि प्रधानमंत्री से पर्याप्त मात्रा में उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए. उन्होंने कहा कि पूरे देश में डाई-अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी) उर्वरक की कमी है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतों में वृद्धि के कारण उत्पादक कंपनियों ने पर्याप्त मात्रा में डीएपी का आयात नहीं किया है. इससे सरसों और अन्य फसलों की कटाई प्रभावित हुई है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से खाद्य दाताओं से संबंधित संवेदनशील मामले में शीघ्र हस्तक्षेप करने की अपील की गई है, जिससे राज्यों में किसानों को पर्याप्त मात्रा में डीएपी मिल सके.

भरतपुर और अलवर सहित राजस्थान के कई हिस्सों में, किसान यूरिया और उर्वरकों की भारी कमी से जूझ रहे हैं. भरतपुर के किसानों ने बुधवार को धमकी दी कि अगर सरकार राज्य में किसानों की उर्वरकों की जरूरतों को पूरा करने में विफल रहती है तो वे तीन दिन बाद आंदोलन शुरू करेंगे.

किसान नेता गोवर्धन ने कहा, 'आज पूरे राजस्थान में उर्वरकों की कमी है जबकि किसानों को रबी फसल की बुआई करनी है और इस कारण, किसानों ने फैसला किया है कि अगर सरकार तीन दिनों के भीतर किसानों को उर्वरक उपलब्ध नहीं कराती है तो वे सरकारी ऑफिसों में ताला लगाकर आंदोलन करेंगे. तीन दिन के बाद भरतपुर के रूपवास अनुमंडल से इसकी शुरुआत की जाएगी.'

एक अन्य किसान सुनील सिंह ने बुधवार को कहा, 'आज किसानों को खाद नहीं मिल रही है, इस वजह से हमने तय किया है कि उर्वरक के लिए सरकारी ऑफिसों में ताला लगा दिया जाएगा और तीन दिन बाद रूपवास से इसकी शुरुआत की जाएगी.'

मणिपुरः सरकार के दावे के उलट खाद की कमी

मणिपुर के कुछ हिस्सों के किसानों को कथित तौर पर अभी तक पर्याप्त यूरिया उर्वरक प्राप्त नहीं हुए हैं और उन्होंने राज्य सरकार से इसे दिलाने की मांग की है. जबकि मणिपुर सरकार ने दावा किया है कि यूरिया की कोई कमी नहीं है और राज्य में पर्याप्त यूरिया उर्वरक उपलब्ध हैं.

हालांकि राज्य में पहाड़ी और घाटी क्षेत्र के कई हिस्सों के किसानों को अभी भी खेती के लिए पर्याप्त यूरिया उर्वरक नहीं मिल रहे हैं. राज्य के कृषि विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उखरूल, कामजोंग, थौबल, काकचिंग और जिरीबाम जिलों के कई किसानों को अभी तक यूरिया उर्वरक नहीं मिले हैं और वे कई समस्याओं का सामना कर रहे हैं.

लेकिन मणिपुर सरकार ने सभी आरोपों का खंडन किया है और दावा किया है कि राज्य के पास यूरिया उर्वरकों का पर्याप्त भंडार है. मणिपुर के कृषि मंत्री ओइनम लुखोई सिंह ने कहा कि राज्य के कृषि विभाग ने पहले ही थौबल और काकचिंग जिलों के लिए आवश्यक 65,100 बोरी में से 64,500 बोरी यूरिया उपलब्ध करा दी है और केंद्र ने पहाड़ी और घाटी दोनों किसानों के लिए यूरिया उपलब्ध कराया है.

इस साल अगस्त में डीएमके सांसद और रसायन तथा उर्वरक पर 15 सदस्यीय संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष कनिमोझी के अगुवाई में समिति ने राज्य में यूरिया की कमी की रिपोर्ट की जांच के लिए मणिपुर का दौरा किया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें