scorecardresearch
 

'तुम्हें भी ऊपर भेज देंगे', कन्हैया लाल का समर्थन करने पर भागलपुर में ABVP नेता को धमकी

मामला बिहार के भागलपुर जिले का है. यहां अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के भागलपुर और बांका विभाग सह संयोजक कुणाल पांडे को जान से मारने की धमकी मिली है.

X
बिहार की भागलपुर पुलिस मामले की जांच कर रही है. बिहार की भागलपुर पुलिस मामले की जांच कर रही है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार के भागलपुर जिले का मामला
  • पत्र के बारे में जानकारी जुटा रही पुलिस

बिहार में भी कन्हैया लाल हत्याकांड जैसी घटना को अंजाम दिए जाने की धमकी देने का मामला सामने आया है. यहां ABVP के नेता को जान से मारने की धमकी मिली है. इस संबंध में एक पत्र भेजा गया है. मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है. पत्र में गजवा ए हिंद नाम के इस्लामिक संगठन का जिक्र है. आरोपी की तलाश की जा रही है. 

मामला बिहार के भागलपुर जिले का है. यहां अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के भागलपुर और बांका विभाग सह संयोजक कुणाल पांडे को जान से मारने की धमकी मिली है. उन्होंने उदयपुर में कन्हैयालाल हत्याकांड का विरोध किया था और ज्ञानवापी मामले में टिप्पणी की थी. कुणाल को एक पत्र भेजा गया है. इस पत्र में लिखा है कि जिस तरीके से उदयपुर में कन्हैया लाल की मौत हुई थी, उसी तरीके से तुम्हें भी अल्लाह के पास पहुंचा दिया जाएगा. 

कुणाल पांडे ने कहा कि दो पन्ने का पत्र मुझे मिला है. जिसमें जान से मारने की धमकी मिली है. गजवा ए हिंद इस्लामिक संगठन का ये पत्र बताया गया है. धमकी भरे पत्र में लिखा है- आपने कन्हैयालाल की हत्या के विरोध में प्रदर्शन में शामिल हुए थे. इसी वजह से उसका भी सर तन से अलग कर दिया जाएगा. इस पूरे मामले की जानकारी मैंने पुलिस के आला अधिकारी को दे दी है. धमकी भरा पत्र देने वाले व्यक्ति का नाम इफरान खान बताया है. खान ने पत्र में अपने नाम के साथ भागलपुर का पता भी दिया है, जिसमें लिखा है कि वह भागलपुर के मादीपुर, गोराडीह का रहने वाला है.

फिलहाल, भागलपुर पुलिस ने कहा है कि मामले में शिकायत की गई है. पूरे मामले की जांच की जा रही है. जल्द ही आरोपियों को ट्रेस कर लिया जाएगा. भागलपुर सिटी एसपी सुप्रभात ने कहा है कि वह इस पूरे मामले की जांच करवा रहे हैं और उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

राजस्थान में 27 जून को हुई थी कन्हैयालाल की हत्या

बता दें कि जून के आखिरी सप्ताह में राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल की बेरहमी से गला काटकर हत्या कर दी गई थी. आरोप है कि कन्हैयालाल ने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था. इसी बात से आरोपी खुन्नस खाए थे और घटना को अंजाम दिया. 27 जून को आरोपी कपड़े सिलवाने के बहाने कन्हैयालाल की दुकान पर आए. यहां जब कन्हैया लाल नाप लेने लगे तो आरोपियों ने छुरा से हमला कर दिया. कन्हैयालाल की बॉडी पर 21 वार हमले के निशान मिले थे. वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी रियाज और गौस मोहम्मद को पुलिस ने गिरफ्तार जेल भेज दिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें