scorecardresearch
 

Aaj Ki Taza Khabar: पढ़ें 14 जुलाई 2022 की सुबह की टॉप खबरें और अन्य समाचार

आज सुबह की ताजा खबर (Aaj Ki Taza Khabar), 14 जुलाई 2022 की खबरें और समाचार: कांग्रेस के सीनियर नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है. भारतीय मूल के ब्रिटिश नेता ऋषि सुनक पीएम पद के दावेदार के तौर पर कंजरवेटिव पार्टी में सबसे आगे चल रहे हैं.

X
कांग्रेस के सीनियर नेता प्रमोद कृष्णम ने द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है. -फाइल फोटो
कांग्रेस के सीनियर नेता प्रमोद कृष्णम ने द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है. -फाइल फोटो

आज सुबह की ताजा खबरों की बात करें तो कांग्रेस के सीनियर नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है. भारतीय मूल के ब्रिटिश नेता ऋषि सुनक पीएम पद के दावेदार के तौर पर कंजरवेटिव पार्टी में सबसे आगे चल रहे हैं. पटना के फुलवारी शरीफ इलाके में पुलिस ने संभावित आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है.  जानिए गुरुवार सुबह की 5 बड़ी खबरें...

कांग्रेस के इस नेता ने किया द्रौपदी मुर्मू का समर्थन, पार्टी को ये नसीहत भी दी

कांग्रेस के सीनियर नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है. साथ ही उन्होंने कांग्रेस हाईकमान को नसीहत भी दी है. इस संबंध में प्रमोद कृष्णम ने एक ट्वीट किया है. बता दें कि आज ही 10 जनपथ पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस के सीनियर नेताओं की एक मीटिंग बुलाई है. बताया जा रहा है कि बैठक में 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के अलावा कई अन्य मुद्दो पर चर्चा होगी. कांग्रेस की इस मीटिंग से पहले प्रमोद कृष्णम का ये ट्वीट चर्चा में रह सकता है. प्रमोद कृष्णम ने बुधवार रात को ट्वीट कर लिखा कि पंडित मोतीलाल नेहरु से लेकर आज तक कांग्रेस हमेशा शोषित, वंचित और आदिवासियों के साथ खड़ी रही है. राष्ट्रपति चुनाव में एक आदिवासी महिला उम्मीदवार द्रोपदी मुर्मू का विरोध करना मेरे विचार से बिलकुल उचित नहीं है,पार्टी हाई कमान को इस पर पुनर्विचार करना चाहिये. 

Rishi Sunak: पहले राउंड में सबसे आगे... ब्रिटेन का PM बनने के और करीब पहुंचे ऋषि सुनक

भारतीय मूल के ब्रिटिश नेता ऋषि सुनक पीएम पद के दावेदार के तौर पर कंजरवेटिव पार्टी में सबसे आगे चल रहे हैं. ब्रिटेन में पीएम पद की रेस में ऋषि सुनक ने शानदार बढ़त बनाई है. लेकिन उनके सामने ब्रिटिश सांसदों का समर्थन जुटाने की चुनौती है. ऋषि सुनक के सामने सबसे बड़ी चुनौती कंजरवेटिव पार्टी में अपना नेतृत्व स्थापित करने की है. उनकी टक्कर एक और भारतीय राजनेता सुएला ब्रेवरमैन से है. कंजरवेटिव पार्टी में नेता चुनने की प्रक्रिया में एक कमेटी शामिल होती है. ये पार्टी के सांसद होते हैं. नेता चुनने के लिए तीन स्तर की प्रक्रिया होती है. इसमें नॉमिनेशन, एलिमिनेशन और फाइनल सेलेक्शन है. नॉमिनेशन हो चुका है अब एलिमिनेशन राउंड चल रहा है. ऋषि सुनक फिलहाल इस रेस में आगे चल रहे हैं.

सिर्फ खाना और जनसंख्या बढ़ाना, ये काम तो जानवर भी करते हैं- मोहन भागवत

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने श्री सत्य साईं यूनिवर्सिटी फॉर ह्यूमन एक्सीलेंस के पहले दीक्षांत समारोह में शिरकत की थी. वहां पर अपने संबोधन में उन्होंने कई मुद्दों पर विस्तार से बात की. धर्म परिवर्तन का भी जिक्र हुआ और जनसंख्या पर भी बड़ा बयान दिया गया. मोहन भागत ने साफ कहा कि सिर्फ जिंदा रहना ही जिंदगी का उदेश्य नहीं होना चाहिए. मनुष्य के कई कर्तव्य होते हैं, जिनका निर्वाहन उन्हें समय-समय पर करते रहना चाहिए. इस बारे में वे कहते हैं कि सिर्फ खाना और आबादी बढ़ाना, ये काम तो जानवर भी कर सकते हैं. शक्तिशाली ही जिंदा रहेगा, ये जंगल का नियम है. वहीं शक्तिशाली जब दूसरों की रक्षा करने लगे, ये मनुष्य की निशानी है.

बिहार: आतंकी मॉड्यूल का खुलासा, रिटायर्ड दरोगा सहित दो गिरफ्तार, PFI और SDPI के लिए देते थे ट्रेनिंग

पटना के फुलवारी शरीफ इलाके में पुलिस ने संभावित आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार भी किया है. गिरफ्तार किए गए दोनों कथित आतंकवादियों में से एक झारखंड पुलिस का रिटायर्ड दरोगा मोहम्मद जलालुद्दीन और दूसरा अतहर परवेज है. अतहर परवेज पटना के गांधी मैदान में हुए बम धमाके का आरोपी मंजर का सगा भाई है. पुलिस ने बताया है कि दोनों संदिग्ध आतंकवादियों के तार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) से जुड़े हैं. पुलिस ने इन दोनों के पास से पीएफआई का झंडा, बुकलेट, पंपलेट और कई संदिग्ध दस्तावेज बरामद किए हैं. जिसमें भारत को 2047 तक इस्लामिक मुल्क बनाने का जिक्र किया गया है.

Sri Lanka Crisis: 'चीन ने श्रीलंका की मदद नहीं की, भारत का आभारी हूं', बोले राष्ट्रपति की रेस में आगे चल रहे साजिथ प्रेमदासा

श्रीलंका में चल रहे सरकार विरोधी प्रदर्शन के बीच विपक्ष के नेता साजिथ प्रेमदासा ने कहा कि संवैधानिक रूप से जब प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति दोनों इस्तीफा देते हैं तो स्पीकर, कार्यवाहक राष्ट्रपति बनता है, लेकिन यहां ऐसा नहीं हुआ. प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को कार्यवाहक राष्ट्रपति नियुक्त कर दिया गया. प्रेमदासा ने गोटाबाया राजपक्षे पर आरोप लगाया कि इस्तीफा देने की बजाय वो विदेश भाग गए. उन्होंने कहा, देश के राष्ट्रपति कहते हैं कि वह इस्तीफा दे रहे हैं, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और वे विदेश चले गए. स्पीकर द्वारा दिए गए एक बयान के आधार पर पीएम कार्यवाहक राष्ट्रपति होने का दावा कर रहे हैं. देश में इस समय अराजकता राज कर रही है. इस विशेष स्थिति में संवैधानिकता का मजबूत होना महत्वपूर्ण है. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें