scorecardresearch
 

पुणेः 'मंत्रालय महिला रिसर्चर की बेहतरी के लिए क्या कर रहा', PhD की छात्रा ने केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से पूछा

पुणे में केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद की बिल्डिंग का उद्घाटन किया. इस दौरान एक छात्रा ने उनसे पूछा कि ऐसे कई CSIR संस्थान हैं, जिनके पास उचित सैनिटरी पैड के निस्तारण के लिए मशीनें तक नहीं हैं. तो फिर विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय महिला शोधकर्ताओं की बेहतरी के लिए क्या कर रहा है. इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने एक पुराना अनुभव भी साझा किया.

X
केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह (फाइल फोटो)
केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने पुणे स्थित वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) की नई बिल्डिंग का उद्घाटन किया. इसके साथ ही स्टार्टअप्स को लेकर स्टूडेंट्स से बातचीत की. इस दौरान पीएचडी की एक स्टूडेंट ने केंद्रीय मंत्री से महिला शोधकर्ताओं को लेकर मंत्रालय की ओर से उठाए जाने वाले कदमों को लेकर पूछा.

उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान पीएचडी की छात्रा ने केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से सवाल पूछते हुए कहा कि मैं नहीं जानती कि यह मुद्दा उठाने के लिए यह सही मंच है या नहीं, लेकिन हाल ही में देखने में आया है कि ऐसे कई CSIR संस्थान हैं, जिनके पास उचित सैनिटरी पैड के निस्तारण के लिए मशीनें तक नहीं हैं. ऐसे में हम ये जानना चाहते हैं कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय महिला शोधकर्ताओं की बेहतरी के लिए क्या कर रहा है.

वहीं विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि बेशक यह एक मुद्दा है. और मुझे लगता है कि अतीत में कम महिला शोधकर्ता थीं, इसका भी असर पड़ता है. जैसे-जैसे महिला शोधकर्ताओं की संख्या बढ़ रही है, उस पर भी ध्यान दिया जाएगा.

मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि उन्होंने कुछ साल पहले एक बड़े चिकित्सा संस्थान का दौरा किया था और पाया कि वहां महिलाओं के लिए टॉयलेट्स तक नहीं थे. इसके बाद मैंने कहा कि कम से कम एक टॉयलेट की व्यवस्था करें, क्योंकि जो डॉक्टर नाइट शिफ्ट में ड्यूटी पर आती हैं, उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता होगा. लेकिन अब जागरूकता बढ़ रही है और इसका ध्यान रखा गया है.

जब केंद्रीय मंत्री ने NCL के निदेशक डॉ. आशीष लेले को PhD की स्टूडेंट द्वारा उठाए गए मामले पर विस्तार से जानकारी देने के लिए कहा तो लेले ने कहा कि NCL इस समस्या को देख रहा है और इसके जल्द समाधान के लिए तैयारी की जा रही है. लेले ने कहा कि हमारा प्रयास है कि हॉस्टल और लेबोरेट्री में भी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं. इसमें थोड़ा समय लग रहा है, लेकिन बहुत जल्द इसका समाधान हो जाएगा. 

वहीं विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने सीएसआईआर-यूआरडीआईपी के नए भवन का उद्घाटन करने के लिए एनसीएल का दौरा भी किया. इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री ने एनसीएल में एक पायलट प्लांट बिस्फेनॉल का भी उद्घाटन किया.

ये भी देखें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें