scorecardresearch
 

'आप उनकी गोद में बैठे हैं, जिन्होंने मेरे बेटे को खत्म करने की कोशिश की', शिंदे गुट के MLAs पर उद्धव का निशाना

Maharashtra: उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव कराए जाने की बात पर जोर देते हुए कहा कि ये प्यार सच्चा है या झूठा, ये तो जनता समझेगी. यह छत्रपति शिवाजी महाराज का महाराष्ट्र है. यह अंधे, दृष्टिहीन धृतराष्ट्र का महाराष्ट्र नहीं है. चुनाव में लोग तय करेंगे कि क्या सही है और क्या गलत.

X
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. -फाइल फोटो
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. -फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुप्रीम कोर्ट का आदेश लोकतंत्र का भविष्य तय करेगा: ठाकरे
  • उद्धव बोले- यह अंधे, दृष्टिहीन धृतराष्ट्र का महाराष्ट्र नहीं है

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के बागी विधायकों से कहा है कि वे उन लोगों की गोद में बैठे हैं जिन्होंने उन्हें और उनके परिवार को गाली दी थी. यहां तक ​​कि आदित्य ठाकरे को खत्म करने की कोशिश की थी.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि वे अभी भी बागी विधायकों को अपना मानते हैं. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अगर बागी विधायक बीजेपी से खुश हैं तो उन्हें वहीं रहना चाहिए, लेकिन मेरे लिए मेरी पार्टी के लोगों के आंसू ज्यादा अहम हैं.

ठाकरे ने कहा, "मैं वास्तव में अपने 14 विधायकों को धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्हें कई धमकियां मिलीं, लेकिन उन्होंने मेरा साथ नहीं छोड़ा. जिस तरफ इस प्रकार के साहसी लोग होंगे, उनकी जीत होगी, सच्चाई की जीत होगी."

सुप्रीम कोर्ट का आदेश लोकतंत्र का भविष्य तय करेगा: ठाकरे

सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई का जिक्र करते हुए ठाकरे ने कहा, 'मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है. 11 जुलाई को जो कुछ भी होगा, उससे पार्टी का भविष्य तय नहीं होगा. शिवसेना का क्या होगा यह पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा तय किया जाएगा. 

ठाकरे ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश लोकतंत्र का भविष्य तय करेगा. बाबा साहेब अम्बेडकर द्वारा लिखित संविधान प्रबल होगा या कुछ और... सुप्रीम कोर्ट का आदेश बताएगा. उन्होंने कहा कि सबसे बड़े लोकतंत्र की परीक्षा होते हुए पूरी दुनिया देख रही है. लोकतंत्र का भविष्य और शक्ति सुप्रीम कोर्ट के इसी आदेश से तय होगी. यदि लोकतंत्र के चारों स्तंभ मजबूत हों और बिना प्रभावित हुए अपने कर्तव्यों का पालन करें तो लोकतंत्र की जीत होगी.

ठाकरे ने बागी विधायकों का जिक्र करते हुए कहा कि जो इतने दिनों से खामोश थे, वे दूसरी तरफ चले गए हैं और बोल रहे हैं कि अगर मातोश्री उन्हें सम्मान से बुलाती है और उद्धव भाजपा के साथ गठबंधन करते हैं तो वे वापस पार्टी में आ जाएंगे. ठाकरे ने कहा कि मैं इस मुद्दे पर मीडिया के जरिए पहले ही अपनी बातें कह चुका हूं.

ठाकरे ने कहा कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ बागी विधायकों को सूरत जाने के बजाय मुझसे बात करनी चाहिए थी. अगर उन्होंने ऐसा किया होता तो उन्हें देशभर में घूमने नहीं जाना पड़ता. ठाकरे ने कहा कि बागी विधायक कहते हैं कि वे मातोश्री से प्यार करते हैं, वे उद्धव ठाकरे से प्यार करते हैं, वे आदित्य ठाकरे से प्यार करते हैं और इसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देना चाहता हूं. दूसरी तरफ जाने के बाद भी आप हमें इतना प्यार करते हैं, मैं इसके लिए आभारी हूं.

ठाकरे ने भाजपा पर साधा निशाना

ठाकरे ने कहा कि ढाई साल पहले वही लोग और पार्टी जो मुझे और मेरे परिवार को गाली दे रहे थे, उस समय इन लोगों (बागी विधायकों) में से किसी के पास भी उनके खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत नहीं थी. उस समय एक भी व्यक्ति ने उनके खिलाफ कुछ नहीं कहा.

2019 को याद करते हुए ठाकरे ने कहा कि जो लोग हमें गाली दे रहे थे, तुम जाकर उनकी गोद में बैठ गए, तुम उनसे मिल रहे हो, उन्हें गले लगा रहे हो. जिन लोगों ने ठाकरे परिवार का अपमान किया, हमारे लिए नीच शब्दों का इस्तेमाल किया, जिन लोगों ने मेरे बेटे को खत्म करने की कोशिश की और आपने ऐसे लोगों के साथ बैठने का फैसला किया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें