scorecardresearch
 

पार्टी अध्यक्ष नहीं 'पूर्व सीएम' को जन्मदिन की बधाई, उद्धव-शिंदे के बीच बढ़ती तकरार

महाराष्ट्र की राजनीति में उद्धव ठाकरे के जन्मदिन पर भी सियासत देखने को मिल गई है. एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे को जन्मदिन की बधाई देते वक्त 'पूर्व सीएम' कहकर संबोधित किया. उनका इतना कहना ही स्पष्ट कर गया कि वे उद्धव ठाकरे को शिवसेना का अध्यक्ष नहीं मानते हैं.

X
सीएम एकनाथ शिंदे और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे सीएम एकनाथ शिंदे और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे
स्टोरी हाइलाइट्स
  • शिंदे गुट के विधायकों ने उद्धव को पार्टी अध्यक्ष बताया
  • एकनाथ शिंदे ने अपनी नई टीम का भी ऐलान किया

महाराष्ट्र की राजनीति में इस समय हर घटना राजनीतिक चश्मे से देखी जा रही है. फिर चाहे वो किसी को जन्मदिन की बधाई देने तक सीमित ही क्यों ना हो. बुधवार को उद्धव ठाकरे ने अपना 62वां जन्मदिन मनाया है. सत्ता हाथ से जा चुकी है, इसलिए बड़े स्तर पर तो कोई जश्न नहीं देखने को मिला, सिर्फ मातोक्षी पर पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात हुई. लेकिन इस मौके पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी उद्धव को जन्मिदन की बधाई दी. ऐसी बधाई जिसमें बड़ा सियासी संदेश छिपा है.

एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे को जन्मदिन की बधाई देते वक्त 'पूर्व सीएम' कहकर संबोधित किया. उनका इतना कहना ही स्पष्ट कर गया कि वे उद्धव ठाकरे को शिवसेना का अध्यक्ष नहीं मानते हैं. उनकी नजरों में उद्धव अब सिर्फ पूर्व सीएम कहकर ही संबोधित किए जा सकते हैं. लेकिन यहां बड़ी बात ये है कि एकनाथ शिंदे ने जरूर उद्धव को पूर्व सीएम कहकर संबोधित किया, लेकिन उन्हीं के बेटे श्रीकांत शिंदे ने उद्धव को पार्टी अध्यक्ष कहकर भी संबोधित कर दिया.

इसी तरह शिंदे गुट के ही कई विधायक और सांसदों ने कहने को अब पाला बदल लिया है, लेकिन वे भी उद्धव को पार्टी अध्यक्ष मानते हैं. इस लिस्ट में सांसद धैर्यशील माने, हेमंत गोडसे के नाम भी शामिल रहे. इसके अलावा पूर्व मंत्री गुलाब राउ पाटिल, विधायक बालाजी किनकर, प्रकाश सुर्वे, यामिनी पाटिल, योगेश कदम ने भी उद्धव को पार्टी अध्यक्ष कहकर संबोधित किया. अब इस तरह का ट्रेंड ये बताने के लिए काफी है कि अभी के लिए सत्ता परिवर्तन जरूर हो गया है, लेकिन पार्टी को लेकर कोई स्पष्टता नहीं है. कौन अध्यक्ष है, किसके पास सिंबल रहेगा, अभी कई सवालों के जवाब मिलने बाकी हैं.

वैसे इस पूरे कन्फ्यूजन के बीच उद्धव ठाकरे के जन्मदिन के दिन सीएम एकनाथ शिंदे ने अपनी नई टीम का भी ऐलान कर दिया. उनकी तरफ से किरण पावस्कर, संजय मोरे को शिवसेना सचिव के रूप में नियुक्त किया गया. इसी तरह दीपक केसरकर मुख्य प्रवक्ता और गुलाबराव पाटिल, उदय सामंत, किरण पावस्कर और शीतल म्हात्रे को प्रवक्ता बनाया गया. कोषाध्यक्ष के रूप में बालाजी किनिकर की नियुक्ति की गई. दरसअल चुनाव आयोग ने 8 अगस्त को शिंदे गुट और उद्धव गुट इन दोनों को पार्टी पर दावे को लेकर दस्तावेज देने को कहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें