scorecardresearch
 

शिवसेना के ठाणे जिलाध्यक्ष के खिलाफ रेप का मामला दर्ज, उद्धव ठाकरे ने सौंपी थी जिम्मेदारी

शिवसेना के ठाणे जिला प्रमुख केदार दिघे और एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ मुंबई के एक पुलिस थाने में रेप और धमकी देने के लिए एक मामला दर्ज किया गया है. केदार दिघे को उद्धव ठाकरे ने कुछ दिन पहले ही ठाणे की जिम्मेदारी सौंपी थी. केदार दिघे, शिवसेना के सीनियर लीडर रहे आनंद दिघे के भतीजे हैं, जो कि एकनाथ शिंदे के राजनीतिक गुरु भी थे.

X
उद्धव ठाकरे के साथ केदार दिघे उद्धव ठाकरे के साथ केदार दिघे

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में शिवसेना प्रमुख केदार दिघे के खिलाफ दुष्कर्म और धमकी का मामला दर्ज हुआ है.  केदार को उद्धव ठाकरे ने हाल ही में ठाणे जिला प्रमुख नियुक्त किया था. केदार दिघे के साथ एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ पुलिस ने धारा 376 और 506 के तहत मामला दर्ज किया है. 

शिवसेना में एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद उद्धव ठाकरे ने केदार दिघे को ठाणे का जिलाध्यक्ष नियुक्त किया था. केदार दिघे शिवेसेना के बड़े नेता आनंद दिघे के भतीजे हैं, जो कि वर्तमान मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के राजनीतिक गुरु भी थे. आनंद दिघे ठाणे के शिवसेना प्रमुख भी थे. 

मुंबई के एनएम जोशी थाने में दर्ज हुई FIR

केदार दिघे के खिलाफ ये मामला मुंबई के लोअर परेल के एनएम जोशी मार्ग पुलिस थाने में दर्ज हुआ है. इस मामले में केदार के साथ एक अन्य शख्स रोहित कपूर का नाम भी शामिल है. यह घटना कुछ दिन पहले की ही बताई जा रही है. हालांकि इस घटना के बारे में पुलिस ने अधिक जानकारी नहीं दी है. 

उद्धव ने बनाया है जिलाध्यक्ष 

बता दें कि केदार दिघे अपने आक्रामक तेवरों के लिए जाने जाते हैं. एकनाथ शिंदे के गृह जिले ठाणे में उन्हें टक्कर देने के लिए ही उद्धव ठाकरे ने उन्हें अपना जिलाध्यक्ष बनाया था. उन्होंने संजय राउत की गिरफ्तारी के विरोध में ट्वीट किया था. इसके साथ ही उन्होंने मंगलवार को ट्वीट किया, "ठाणे #शिवसेना, #दिघेसाहेब का गढ़ है. जिले में सामान्य शिवसैनिकों की शक्ति का इस्तेमाल स्वार्थ के लिए, गलत कार्रवाई करने, दबाव बनाने में करेंगे तो ठाणे में शिवसैनिकों को साथ लेकर घर-घर मार्च करना होगा." 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें