scorecardresearch
 

नागपुर: बाढ़ में पांच दिन तक घिरे थे 7 लंगूर, 200 मीटर लंबा पुल बनाकर निकाले गए

नागपुर में हुई भारी बारिश के बाद एक बिजली के टावर पर 7 लंगूरों का एक ग्रुप फंस गया. करीब पांच दिन तक ये लंगूर टावर के ऊपर ही बैठे रहे, जिसके बाद वन विभाग की एक टीम ने उन्हें वहां से निकालने के लिए काफी प्रयास किए. बाद में 200 मीटर लंबा एक अस्थायी पुल बनाया, जिस पर चढ़कर लंगूर निकल गए.

X
सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नागपुर में बाढ़ में फंस गए 7 लंगूर
  • वन विभाग की टीम ने पुल बनाकर निकाला

महाराष्ट्र के नागपुर में हुई भारी बारिश के बाद तालाब के बीच एक बिजली के टावर के ऊपर 7 लंगूरों का एक ग्रुप फंस गया था. वन विभाग ने गुरुवार को एक अस्थायी पुल बनाकर उन्हें सुरक्षित उतार लिया है. हालांकि एक लंगूर अभी भी ऊपर ही है, वो नीचे नहीं उतरा है. 

वन विभाग, नागपुर नगर निगम और ट्रांजिट ट्रीटमेंट सेंटर, सेमिनरी हिल्स की टीमों ने माहुरजरी इलाके में जानवरों को बचाने के लिए एक संयुक्त अभियान शुरू किया था. इस टीम को स्थानीय लोगों ने बताया कि छोटे टीले के आसपास के तालाब में हाई-टेंशन बिजली का टावर है. वहां आमतौर पर पानी नहीं होता है. लेकिन पांच दिन पहले हुई भारी बारिश के कारण अचानक जलस्तर बढ़ने से वहां लंगूर फंस गए थे.  

इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों और इस टीम ने टावर तक पहुंचने के लिए नावें लगाईं, लेकिन बंदर नीचे उतरने के मूड में नहीं थे. इस टीम ने बुधवार को बांस, सूखे पेड़ की शाखाओं और छोड़े गए ड्रमों का 200 मीटर का एक अस्थायी पुल बनाया. अधिकारियों को उम्मीद थी कि लंगूर इसका इस्तेमाल करेंगे.

सहायक वन संरक्षक सुरेंद्र काले ने बताया कि हमारी टीम का यह प्रयास गुरुवार को सफल हुआ, जब छह लंगूर पुल का उपयोग करके तालाब को पार कर चले गए. हालांकि अभी भी एक लंगूर टॉवर पर बचा हुआ है. वन अधिकारियों को उम्मीद थी कि ये सभी लंगूर एक-दूसरे की नकल करते हुए नीचे उतर जाएंगे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें