scorecardresearch
 

मुंबई में 117 साल पुरानी इमारत ढही, 19 की मौत, 34 घायल, खाली करने का दिया था नोटिस

इमारत ढहने के वक्त कई लोग निचली मंजिल पर सो रहे थे. इस हादसे में 19 लोगों की मौत हो गई, जबकि 34 लोग घायल हो गए. अभी कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है. वहीं, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने घटनास्थल का दौरा किया.

जारी है बचाव कार्य जारी है बचाव कार्य

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में एक और जर्जर इमारत हादसे का कारण बन गई. मुंबई के डोंगरी इलाके में 117 साल पुरानी बहुमंजिला इमारत गुरुवार सुबह ढह गई. मुंबई में बारिश और जलभराव की समस्याओं के बीच ये हादसा हुआ. हादसा करीब सुबह 8.30 बजे दक्षिण मुंबई के डोंगरी इलाके के भिंडी बाजार में हुआ.

हादसे के वक्त कई लोग निचली मंजिल पर सो रहे थे. इस हादसे में 19 लोगों की मौत हो गई, जबकि 34 लोग घायल हो गए. अभी कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है. वहीं, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने घटनास्थल का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये देने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि मामले में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

वहीं, घायलों को मुंबई के जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अब तक मलबे में दबकर घायल हुए 34 लोगों को अस्पताल ले जाया जा चुका है. इनमें से कई की हालत गंभीर है. फिलहाल घायलों का इलाज किया जा रहा है.

चौथी मंजिल पर मौजूद थे लोग

मुंबई बिल्डिंग हादसे में बड़ा खुलासा हुआ है. कहा जा रहा है कि पुननिर्माण स्कीम के तहत इस बिल्डिंग का चयन हो गया था. जिसके बाद बिल्डिंग को खाली कराया जा रहा था, लेकिन चौथी मंजिल पर अभी भी 4 परिवार रह रहे थे. इसके अलावा ग्राउंड फ्लोर पर भी कैटरिंग यूनिट के कुछ लोग रह रहे थे. जिस वक्त बिल्डिंग गिरी तो ये ग्राउंड फ्लोर पर ही सो रहे थे.

अपडेट्स

-शिवसेना नेता नीलम गोरे ने कहा है कि इस इमारत को खतरनाक घोषित किया गया था.

- हादसे में 12 की मौत हो गई है जबकि 22 लोग जख्मी हैं.

-एनडीआरएफ टीम घटना स्थल पर पहुंची.

- मलबे में 35 लोगों के फंसे होने की आशंका.

-राहत और बचाव कार्य जारी है.

-सुबह 8.30 बजे हुआ हादसा.

-बताया जा रहा है कि इस जर्जर इमारत में दो-तीन परिवार रह रहे थे.

-फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर हैं. स्थानीय लोग भी राहत एवं बचाव के काम में एजेंसियों की मदद कर रहे हैं.

मंगलवार को भी गिरा था मकान मकान ढहने से 3 की मौत

इससे पहले मुंबई में मंगलवार को 298 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी. मूसलाधार बारिश की वजह से मुंबई के उपनगर विक्रोली में दो घरों के ढहने से दो बच्चों सहित तीन लोगों की मंगलवार को मौत हो गई थी.

12 साल बाद मुंबई में ऐसी बारिश

इस हफ्ते बारिश की वजह से 12 साल बाद मुंबई महानगरपालिका ने आपात अलर्ट जारी किया है. इससे पहले 26 जुलाई, 2005 को ऐसा किया गया था. मंगलवार के हालत देखकर मुंबई के लोगों को साल 2005 का वो दिन याद आ गया, जब 26 जुलाई को दोपहर दो बजे शुरू हुई बारिश अगले दिन 27 जुलाई को सुबह साढ़े आठ बजे तक हुई थी. तब मुंबई में 18 घंटे की बरसात में 944 मिलीमीटर पानी बरसा था और बारिश ने 409 लोगों की जान ले ली थी.

पिछले कई दिनों से मुंबई में भारी बारिश जारी है. हालांकि, बुधवार रात से बारिश रुकने के बाद कई इलाकों में हालात सुधरे हैं. लेकिन अभी भी कई इलाकों में जलजमाव स्थानीय लोगों के लिए बड़ी समस्या बनी हुई है. बता दें कि मुबंई में लगातार भारी बारिश से पूरा शहर पानी-पानी हो गया था, शहर में हर जगह पानी भरा था. जो जहां था वहीं ठहर गया था, लेकिन गुरुवार सुबह होते-होते हालात सामान्य होने लगे थे. गुरुवार को सेंट्रल रेलवे लाइन की सभी लोकल ट्रेन की स्थिति सुचारू रूप से चल रही हैं.

बता दें कि रिकॉर्डतोड़ बारिश होने के कारण मुंबई में बारिश के कारण 5 लोगों की मौत हुई है. वहीं 11 लोग घायल हो गए. हालांकि, अभी भी मुंबई में बारिश का अनुमान लगातार बना हुआ है.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें