scorecardresearch
 

CAA के समर्थन में उतरे राज ठाकरे, बोले- PAK और बांग्लादेश के घुसपैठियों को फेंको बाहर

महा नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे कई बार पीएम मोदी की आलोचना भी कर चुके हैं. इसपर उन्होंने कहा कि मुझे जब लगता है कि उन्होंने जो कहा वो सही नहीं है, तो मैं उनकी आलोचना करता हूं, लेकिन जब वो अच्छा काम किए तो मैंने तारीफ भी की.

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा- मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता (फाइल फोटो) मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा- मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता (फाइल फोटो)

  • 9 फरवरी को घुसपैठियों के खिलाफ रैली
  • भगवा रंग में मनसे के नए झंडे का अनावरण

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे अपने पुराने रंग में लौट आए हैं. अपने बेबाक बोल के लिए जाने जाने वाले राज ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि भगवा मेरे डीएनए में है. साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का समर्थन किया और कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को बाहर फेंक देना चाहिए.

बाला साहेब ठाकरे की जयंती पर पार्टी के झंडे के रंग को भगवा में बदलने वाले राज ठाकरे ने मुंबई में कहा कि भगवा झंडा साल 2006 से मेरे दिल में था. हमारे डीएनए में भगवा है. मैं मराठी हूं और एक हिंदू हूं. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मुसलमान भी अपने हैं. उन्होंने इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया. मनसे प्रमुख ने कहा कि मैं हमेशा कहता रहा हूं कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को देश से बाहर फेंक देना चाहिए.

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र की सियासत में ठाकरे परिवार की नई पीढ़ी, अब आदित्य बनाम अमित ठाकरे

रंग बदलने वाली सरकार के साथ नहीं

राज ठाकरे कई बार पीएम मोदी की आलोचना भी कर चुके हैं. इसपर उन्होंने कहा कि मुझे जब लगता है कि जो उन्होंने कहा वो सही नहीं है, तो मैं उनकी आलोचना करता हूं. लेकिन जब उन्होंने अच्छे काम किए तो मैंने तारीफ भी की. वहीं महाराष्ट्र सरकार पर उन्होंने कहा कि मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता. राज ठाकरे का निशाना शिवसेना की तरफ था जिसने कुछ माह पहले कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाई है.

बाहरी लोगों को शरण क्यों

राज ठाकरे ने यह भी कहा कि जिन दलों ने सीएए के खिलाफ मोर्चा खोला है, उनकी पार्टी मनसे उनके खिलाफ मोर्चा खोलेगी. सीएए के बारे में उन्होंने कहा कि जो लोग बाहर से अवैध ढंग से आए हैं, उन्हें क्यों शरण दी जानी चाहिए? राज ठाकरे ने कहा कि अगले कुछ दिनों में वे महाराष्ट्र के गृह मंत्री या मुख्यमंत्री से मिलेंगे और उनके समक्ष कुछ मुद्दे उठाएंगे. मुस्लिम धर्मगुरुओं के बारे में उन्होंने कहा कि वे विदेश जाते हैं लेकिन कोई नहीं जानता कि किस काम से जाते हैं. जबकि पुलिस भी वहां तक नहीं जा सकती.

ये भी पढ़ें: सत्ता में 100 दिन पूरे, अयोध्या में भगवान राम के दर्शन करेंगे उद्धव ठाकरे  

मनसे की नई शुरुआत

घुसपैठियों पर निशाना साधते हुए राज ठाकरे ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लदेशी घुसपैठियों के खिलाफ 9 फरवरी को एक बड़ी रैली निकाली जाएगी. बता दें, राजनीति में 13 सालों के अतीत के बाद मनसे ने गुरुवार को मुंबई में नए झंडे, चिन्ह और नई विचारधारा के साथ नई शुरुआत की. मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने पार्टी के नए झंडे का अनावरण किया, जो गहरे भगवा रंग का है. इसके साथ छत्रपति शिवाजी महाराज के शासन की मुद्रा (रॉयल सील) को चिन्ह के तौर पर जारी किया गया. पार्टी का भव्य सम्मेलन गोरेगांव में एनएसई ग्राउंड में अयोजित किया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें