scorecardresearch
 

फडणवीस पर बरसा विपक्ष, कहा- शिवाजी महाराज के किलों में नहीं होने देंगे शादियां

महाराष्ट्र सरकार ने फैसला किया है कि वो शिवाजी महाराज के किलों को किराए पर देगी. महाराष्ट्र में शिवाजी महाराज के करीब साढ़े तीन सौ किले हैं. सरकार मानती है कि किलों को किराए पर देने से स्थानीय लोगों का फायदा होगा, निजी निवेश होगा और इकॉनोमी मजबूत होगी.

महाराष्ट्र में शिवाजी महाराज के करीब साढ़े तीन सौ किले महाराष्ट्र में शिवाजी महाराज के करीब साढ़े तीन सौ किले

  • शिवाजी महाराज के किलों को किराए पर देगी महाराष्ट्र सरकार
  • महाराष्ट्र में भी शुरू हो सकती है डेस्टिनेशन वेडिंग

अभी तक राजस्थान के किलों में रईसों की शादियां के बारे में सुना था, लेकिन हो सकता है कि महाराष्ट्र में भी अब ऐसी डेस्टिनेशन वेडिंग शुरू हो जाएं. दरअसल, महाराष्ट्र सरकार ने फैसला किया है कि वो शिवाजी महाराज के किलों को किराए पर देगी. महाराष्ट्र में शिवाजी महाराज के करीब साढ़े तीन सौ किले हैं. सरकार मानती है कि किलों को किराए पर देने से स्थानीय लोगों का फायदा होगा, निजी निवेश होगा और इकॉनोमी मजबूत होगी.

बता दें कि महाराष्ट्र की राजनीति छत्रपति शिवाजी महाराज के आसपास घूमती है. शिवाजी को इतिहास उनके साहस और मराठा साम्राज्य की स्थापना के लिए जानता है. उनका नाम सुनकर आज भी लोगों में जोश भर जाता है और भावनाओं में उबाल जाता है. शिवाजी की कहानियां उनकी वीरता के किस्से उनके किलों में समाए हुए हैं. शिवाजी महाराज के किलों को किराए पर दिए जाने की बात पर विपक्ष गुस्से में है.

विपक्ष का कहना है कि मोदी सरकार ने लाल किला लीज पर दिया तो फडणवीस सरकार उसी के रास्ते पर चल रही है. लेकिन सरकार के मुताबिक वो भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के तहत संरक्षित किले को किराए पर नहीं दे रही है. सिर्फ ऐसे किले इस लिस्ट में हैं जो संरक्षित नहीं हैं, जहां पर्यटक पिकनिक मनाने आते हैं.

बताया जा रहा है कि करीब 25 किले इस लिस्ट में हैं, हालांकि उनके नाम का खुलासा नहीं किया गया और उन्हें हेरीटेज होटल में बदला जाएगा. हेरिटेज होटल्स को चलाने के लिए बड़े-बड़े होटल्स, उद्योगपतियों और रिजॉर्ट को कॉन्ट्रेक्ट दिया जाएगा. विपक्ष को सरकार का हेरीटज टूरिज्म बिल्कुल नगावार लग रहा है.

एनसीपी नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि मैं इस पूंजीवादी सरकार को चेतावनी देता हूं कि उन किलों को नहीं छुएं. यह किले पुराने जरूर हो गए हैं, लेकिन उनमें इतिहास जिंदा है. अगर आप शिवाजी महाराज की विरासत को नहीं बचा सकते तो उनके लाखों अनुयायी इस काम को करेंगे. शिवभक्तों की भावनाओं से सरकार खिलवाड़ ना करे. वहीं एमएनएस नेता अनिल शिडोर ने कहा कि सरकार महाराष्ट्र के गर्व और इतिहास को कमर्शियल ना करे.

गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में पुराने किले होटल में तब्दील किए गए हैं. राजस्थान इसमें सबसे आगे है. विपक्ष के तेवर देखकर निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि महाराष्ट्र सरकार के लिए ये फैसला अमल में लाना आसान नहीं है. विपक्ष के अलावा इतिहासकार भी किलों को होटल में बदले जाने के खिलाफ हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें