scorecardresearch
 

BJP-शिवसेना के रिश्ते पर बोली JDU, मोदी-शाह चर्चा के लिए बनाएं मंच

शिवसेना के एनडीए से अलग होने को लेकर बीजेपी के दूसरे घटक दल जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) ने सवाल उठाया है. जेडीयू ने को-आर्डिनेशन कमेटी बनाए जाने की मांग की है. पार्टी का कहना है कि अटल-आडवाणी की तरह पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह भी समन्वय समिति बनाएं ताकि आपसी मतभेदों को सुलझाया जा सके.

JDU प्रमुख नीतीश कुमार के साथ केसी त्यागी (फाइल फोटो-IANS) JDU प्रमुख नीतीश कुमार के साथ केसी त्यागी (फाइल फोटो-IANS)

  • एनडीए से शिवसेना का अलग होना दुर्भाग्यपूर्ण- केसी त्यागी
  • बातचीत के अभाव के चलते BJP और शिवसेना के रिश्ते बिगड़े

शिवसेना के एनडीए से अलग होने को लेकर बीजेपी के दूसरे घटक दल जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) ने सवाल उठाया है. जेडीयू ने को-आर्डिनेशन कमेटी बनाए जाने की मांग की है. पार्टी का कहना है कि अटल-आडवाणी की तरह पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह भी समन्वय समिति बनाएं ताकि आपसी मतभेदों को सुलझाया जा सके.

शिवसेना और बीजेपी के रिश्ते टूटने पर जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा, 'इतने पुराने रिश्ते टूटते हैं तो विश्वास भी टूटते हैं और पीड़ा भी होती है.' उन्होंने कहा है कि समन्वय और संवाद की कमी की वजह से यह मनमुटाव सामने आया है. एनडीए के घटक दलों को समय दिए जाने की जरूरत है. इसके लिए एक प्लेटफार्म बनना चाहिए. अटल जी के समय में एनडीए की को-आर्डिनेशन कमेटी थी. वैसी ही कमेटी फिर से बनाए जाने की जरूरत है.   

केसी त्यागी ने कहा कि प्लेटफॉर्म के अभाव में घटक दल मीडिया के जरिये अपनी बात कहते हैं. आजतक से बातचीत में जेडीयू नेता ने कहा कि अगर घटक दलों के साथ अधिक समन्वय होगा तो बेहतर होगा.

केसी त्यागी ने कहा कि छोटे दल हों चाहे बड़े दल, उन्हें उदार होने की आवश्यकता है. बड़े भाई का हिस्सा ज्यादा होता है और उदारता हमेशा बड़े भाई को दिखाना चाहिए. शिवसेना और बीजेपी के रिश्ते पर केसी त्यागी ने कहा कि बाल ठाकरे जॉर्ज फर्नांडिस और राम जेठमलानी मुंबई की राजनीति के तीन ऐसे नेता थे जिनका जन्म कांग्रेस विरोध के नाम पर हुआ था.

जेडीयू नेता ने कहा कि शिवसेना का कांग्रेस के साथ मिलना एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना मानी जाएगी, जो बाल ठाकरे की नीतियों से मेल नहीं खाती है. केसी त्यागी ने यह भी कहा कि पहले इस तरह के जो घटनाक्रम होते थे वह कोआर्डिनेशन कमेटी का हिस्सा हुआ करते थे. जब पंचायत में कोई चीज तय होती थी तो सभी को मान्य होता था. अब शिवसेना-बीजेपी में के बीच क्या घटित हुआ, वह अन्य घटक दलों की जानकारी में नहीं है.

केसी त्यागी ने कहा कि वैचारिक सवालों पर मतभेद उजागर नहीं होने चाहिए. इस बात को मैं जरूर जिम्मेदारी के साथ कहना चाहता हूं कि एनडीए का कोई एक घोषित एजेंडा था और कभी भी एनडीए के घटक दलों में कोई वैचारिक मतभेद उजागर नहीं हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें