scorecardresearch
 

मुंबई पहुंचने पर करेंगे मंत्रिमंडल का विस्तार, दिल्ली में शाह और नड्डा से मुलाकात के बाद बोले एकनाथ शिंदे

एकनाथ शिंदे ने कहा कि हमारी सरकार के पास बहुमत है. हमारे पक्ष में 164 विधायक हैं, जबकि विपक्ष के पास 99 विधायक हैं. महाराष्ट्र की नई सरकार जनता के लिए काम करेगी.

X
एकनाथ शिंदे ने दिल्ली में की प्रेस कॉन्फ्रेंस (फोटो- एएनआई)
एकनाथ शिंदे ने दिल्ली में की प्रेस कॉन्फ्रेंस (फोटो- एएनआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महाराष्ट्र में 30 जून को बनी थी नई सरकार
  • 4 जुलाई को विधानसभा में हुआ था फ्लोर टेस्ट

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिल्ली में साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम शिंदे ने बताया कि मुंबई लौटने के बाद मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि महाराष्ट्र की नई सरकार जनता के लिए है. 

इस दौरान एकनाथ शिंदे ने कहा कि हमारी सरकार के पास बहुमत है. हमारे पक्ष में 164 विधायक हैं, जबकि विपक्ष के पास 99 विधायक हैं. महाराष्ट्र की नई सरकार जनता के लिए काम करेगी. मैंने शिवसेना-बीजेपी की सरकार इसलिए बनाई क्योंकि महाराष्ट्र की जनता ऐसा चाहती थी. यह जनता की इच्छा की सरकार है. इस सरकार को केंद्र सरकार से मदद मिलेगी. 

शिंदे ने अपने दिल्ली दौरे के दौरान सॉलिसिटर जनरल से भी मुलाकात की है. सीएम ने बताया कि इस दौरान मराठा आरक्षण को लेकर चर्चा की. शिंदे ने देवेंद्र फडणवीस सरकार का जिक्र करते हुए कहा कि जब वो सीएम थे तो कई प्रोजेक्ट थे, जिन पर काम चल रहा था, उन सभी का काम जारी रखेंगे. इस दौरान शिंदे ने बताया कि उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास महाराष्ट्र के लिए एक विजन है. हम उनका भी आशीर्वाद लेंगे. 

'बाला साहब ने अन्याय के खिलाफ बोलना सिखाया'

एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि बालासाहेब अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के खिलाफ थे, लेकिन उद्धव ठाकरे दाऊद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर पाए, यहां तक कि उनके दो मंत्रियों के दाऊद के साथ संबंध भी थे. बालासाहेब हमेशा हमसे कहते थे कि अगर कोई है जो अन्याय कर रहा है, तो आपको आवाज उठानी चाहिए. 

इसके अलावा एकनाथ शिंदे ने शिवसेना पर दावा करते हुए कहा कि हम ही असली शिवसेना हैं. शिवसेना के चुनाव चिन्ह के लिए चुनाव आयोग में जाएंगे या नहीं, ये तो समय बताएगा. हमने उद्धव ठाकरे को समझाने की बहुत कोशिश की. हमने उन्हें बताया कि शिवसेना के विधायक अपनी अहमियत खो रहे हैं, लेकिन उद्धव नहीं माने. 

इस दौरान डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार दिल्ली आए हैं. उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने मुझे सीएम बनाया. पार्टी जो दायित्व देगी, उसे निभाऊंगा. 

बता दें कि 30 जून को महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस ने डिप्टी सीएम की शपथ ली. उसके बाद 4 जुलाई को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट किया गया, जिसमें नई सरकार ने विश्वास मत हासिल किया. 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें