scorecardresearch
 

बालासाहेब ठाकरे के करीबियों से मिल रहे एकनाथ शिंदे, शिवसेना पर पकड़ और मजबूत करने में जुटे

महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) अब बालासाहेब ठाकरे (Balasaheb Thackeray) के करीबियों से मिल रहे हैं. माना जा रहा है कि उनकी नजर अब शिवसेना के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के शीर्ष नेताओं पर है. इस तरह से शिवसेना पर शिंदे गुट का दावा और पक्का हो जाएगा.

X
शिवसेना के संस्थापक सदस्य लीलाधर डाके से मिले एकनाथ शिंदे
शिवसेना के संस्थापक सदस्य लीलाधर डाके से मिले एकनाथ शिंदे
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी और लीलाधर डाके से मिले शिंदे
  • दोनों नेता शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के करीबी थे

विधायकों और सांसदों के बाद अब एकनाथ शिंदे की नजर शिवसेना के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के शीर्ष नेताओं पर है. सीएम एकनाथ शिंदे अब बालासाहेब ठाकरे के सहयोगी और पार्टी के संस्थापक नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं.

महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने आज गुरुवार को शिवसेना के दो वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की. पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी और शिवसेना के संस्थापक सदस्य लीलाधर डाके से उनके घर जाकर मुलाकात की. यह दोनों नेता शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के करीबी माने जाते थे.

पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी के साथ सीएम शिंदे

आज सुबह सीएम एकनाथ शिंदे लीलाधर डाके के घर चुनाभट्टी और शाम को मनोहर जोशी के दादर स्थित ऑफिस कोहिनूर पहुंचे. इन दिनों दोनों नेताओं की तबीयत ठीक नहीं है. ऐसे में शिंदे ने उनसे मीटिंग करके उनका हाल जाना.

कुछ दिन पहले दूसरे वरिष्ठ नेताओं से मिले थे

बता दें कि कुछ ही दिनों पहले सीएम ने पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद गजानन कीर्तिकर समेत पूर्व मंत्री रामदास कदम से भी मुलाकात की थी. रामदास कदम के बेटे और विधायक योगेश कदम ने शिंदे गुट को पहले ही समर्थन दे दिया था. इसके कुछ दिनों बाद रामदास कदम ने भी शिवसेना के नेता पद से इस्तीफा दिया था. हालांकि उद्धव ठाकरे ने तुरंत रामदास कदम को पार्टी से निष्कासित करने का पत्र जारी किया था. 

शिवसेना को लेकर शिंदे-उद्धव में जंग तेज

जहां एक तरफ शिंदे गुट शिवसेना के ऊपर दावा ठोकने की कोशिश में है. ऐसे में उद्धव ठाकरे भी शिंदे गुट की हर एक कोशिश को मात देने की तैयारी कर रहा है. सुप्रीम कोर्ट में विधायकों के निलंबन को लेकर और एंटी-डिफेक्शन कानून के तहत मर्जर के मुद्दे पर 1 अगस्त को सुनवाई होनी है. वहीं दूसरी ओर चुनाव आयोग ने भी दोनों गुटों को 8 अगस्त तक पार्टी से जुड़े दस्तावेज सौंपने को कहा है. जिसके खिलाफ उद्धव ठाकरे ने फिर एक बार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. 

युवा सेना प्रमुख आदित्य ठाकरे भी संगठन को बचाने के लिए राज्य में शिवसंवाद यात्रा कर रहे हैं. वो पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं का विश्वास जुटाने की कोशिश में जुटे हैं. तो दूसरी ओर एकनाथ शिंदे शिवसेना के प्रमुख पदों पर नई नियुक्तियों का ऐलान कर रहे हैं. 

हाल ही में एकनाथ शिंदे ने कार्यकारिणी की बैठक कर शिवसेना पार्टी में नेता, उप नेता, सचिव और प्रवक्ताओं की नियुक्तियां की है. साथ ही शिंदे को मुख्य नेता के पद पर चुना गया. इसके अलावा ठाणे, पालघर, नई मुंबई, नाशिक, रायगढ़ इलाकों से एकनाथ शिंदे को समर्थन बढ़ता जा रहा है.

साथ ही एकनाथ शिंदे 30 जुलाई से नाशिक, औरंगाबाद और पुणे के दौरे पर निकल रहे हैं. इससे साफ हो रहा है कि दोनों गुटों में शिवसेना पार्टी पर दावा ठोकने की होड़ लगी हुई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें