scorecardresearch
 

BJP विधायक राहुल नार्वेकर ने महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर के लिए भरा पर्चा, 3 जुलाई को चुनाव

बीजेपी विधायक राहुल नार्वेकर ने महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया है. शनिवार को एकनाथ श‍िंदे ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली.

X
महाराष्ट्र विधानसभा महाराष्ट्र विधानसभा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 3 जुलाई को चुनाव
  • 4 जुलाई को बहुमत साबित करना होगा

बीजेपी विधायक राहुल नार्वेकर ने विधानसभा अध्यक्ष चुनाव के लिए विधान भवन में नामांकन दाखिल किया है. 3 जुलाई को चुनाव है. गुरुवार को श‍िवसेना के बागी व‍िधायक एकनाथ श‍िंदे ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली. वहीं बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने राज्य के उप मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली.

3 जुलाई को स्पीकर का चुनाव
बता दें कि महाराष्ट्र में स्पीकर का पद दो साल से खाली है. विधानसभा के दो दिवसीय विशेष सत्र के पहले दिन 3 जुलाई को स्पीकर का चुनाव होगा. नाना पटोले के स्पीकर पद छोड़ने के बाद से स्पीकर का पद खाली है. शिंदे सरकार को 4 जुलाई को बहुमत साबित करना होगा. इसके लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है. 

गौरतलब है कि एकनाथ श‍िंदे के पहले उद्धव ठाकरे राज्य के सीएम थे. कभी श‍िव सेना के सबसे खास रहे शिंदे ने उद्धव को सीएम की कुर्सी से उतारने में जरूरी भूमिका निभाई.
 

सुप्रीम कोर्ट से शिंदे गुट को राहत
उधर, सुप्रीम कोर्ट से शिंदे शिविर के बागी विधायकों को बड़ी राहत मिल गई है. सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस जेबी पारदीवाला की पीठ ने कहा कि 11 जुलाई को तय सुनवाई में ही सुनील प्रभु की याचिका पर भी विचार करेंगे. सुनील प्रभु को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है. 11 जुलाई को ही उनकी पिछली याचिका के साथ ही कोर्ट इस मामले की भी सुनवाई करेगा.

प्रभु की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कोई आदेश देने से फिलहाल इंकार किया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 11जुलाई को सुनेंगे. हम पहले ही कह चुके हैं. कोर्ट ने सुनील प्रभु को हालफनामा दाखिल करने को कहा है.

सिब्बल ने कहा-डेमोक्रेसी का डांस नही हो रहा
उद्धव ठाकरे गुट की तरफ से कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की. नई सरकार के गठन और बहुमत परीक्षण की तैयारी के खिलाफ सुनवाई की मांग हुई. सिब्बल ने कहा कि एकनाथ शिंदे को नया मुख्यमंत्री बना दिया. लेकिन शिव सेना का विलय बीजेपी में नहीं हुआ है. न ही एकनाथ शिंदे का गुट शिवसेना से अलग हुआ है.

ऐसे में ये भी तय नहीं है कि वो किसके व्हिप का पालन करेंगे. उन्होंने कहा कि जल्द सुनवाई होनी चाहिए. ये कोई डेमोक्रेसी का डांस नही हो रहा. सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल कोई दखल देने से इंकार किया. कहा हमे सारी जानकारी है. कोर्ट ने कहा की 11 जुलाई को सुनवाई होंगी .

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें