scorecardresearch
 

अयोध्या में मूंछों वाले भगवान राम की लगे मूर्ति, महाराष्ट्र के नेता की अजीब मांग

महाराष्ट्र के हिंदुत्वादी नेता संभाजी भिडे ने सोमवार को कहा कि बिना मूंछों के राम चित्रकारों और मूर्तिकारी की ऐतिहासिक गलती है जिसमें सुधार किए जाने की जरूरत है.

संभाजी भिडे ने मंदिर ट्रस्ट से अपील की है कि भगवान राम की मूर्ति मूंछ वाली लगनी चाहिए (PTI) संभाजी भिडे ने मंदिर ट्रस्ट से अपील की है कि भगवान राम की मूर्ति मूंछ वाली लगनी चाहिए (PTI)

  • बिना मूंछों वाले राम को बताया चित्रकारों, मूर्तिकारों की गलती
  • भगवान राम पुरुष देवता हैं, मंदिर ट्रस्ट मूंछों वाली मूर्ति लगाए

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर बढ़ी गतिविधियों के बीच हिंदुत्वादी और विवादास्पद नेता संभाजी (मनोहर) भिडे उर्फ भिडे गुरुजी ने अजीबो-गरीब मांग की है. संभाजी भिडे ने श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट से अपील की है कि भगवान राम की मूर्ति मूंछ वाली लगनी चाहिए.

संभाजी भिडे ने कहा कि बिना मूंछों के राम चित्रकारों और मूर्तिकारी की ऐतिहासिक गलती है, जिसमें सुधार किए जाने की जरूरत है.

महाराष्ट्र के सांगली में पत्रकारों से बातचीत में भिडे ने कहा, 'अयोध्या में राम मंदिर जल्द बनकर तैयार हो जाएगा और वहां भगवान राम की मूर्ति स्थापित की जाएगी. लेकिन मेरा अनुरोध है...राम एक प्रेरणादायक देवता हैं. भगवान राम, लक्ष्मण या हनुमान "पुरुष 'देवता हैं. मूंछों के बिना उन्हें दिखाना चित्रकारों और मूर्तिकारों की एक ऐतिहासिक गलती है. इस गलती को सुधारे जाने की जरूरत है. इन मूर्तियों को मूंछों वाला होना चाहिए. अन्यथा मेरे जैसे अनुयायियों को लगेगा कि मंदिर होने का कोई फायदा नहीं है. हमें इस सदियों पुरानी गलती को सुधारना चाहिए. मैंने इस सिलसिले में ट्रस्ट के प्रमुख से अनुरोध किया है.'

भिडे ने यह भी अपील की कि कोरोना महामारी की परवाह किए बिना 5 अगस्त को भव्य तरीके से जश्न मनाया जाना चाहिए. भिडे ने कहा, 'कोरोना कमजोर हिंदू मानसिकता की निशानी है...लॉकडाउन का कोई मतलब नहीं है. दवाएं, उपचार दिया जाना चाहिए. लेकिन आज जो पूरे देश की हालत है, वह ठीक नहीं है. यह हमारे शासकों द्वारा लिया गया एक गलत फैसला (कोरोना लॉकडाउन) है. इसलिए हमें जश्न मनाने के लिए 'राष्ट्रीय क्षण' को गंवाना नहीं चाहिए.'

राम मंदिर निर्माण पर VHP के आलोक कुमार बोले- 492 साल से थी प्रतीक्षा

भिडे ने आगे दलील दी कि, "हम 15 अगस्त मनाते हैं? मैं कहता हूं कि कोरोना की स्थिति कितनी भी खराब क्यों न हो , हमें झंडा फहराने के लिए एक साथ आना चाहिए. भले ही सरकार स्वतंत्रता दिवस मनाते समय सोशल डिस्टेंसिंग के मापदंडों का पालन करने का आदेश दे, और इसका पालन करते हुए स्वतंत्रता दिवस मनाना चाहिए. लेकिन बताइए क्या चीन सीमा पर जवान सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लड़ रहे हैं? यह बकवास है. इसलिए हमें 5 अगस्त को जश्न मनाना चाहिए. उस दिन भगवान राम हमें कोरोना से लड़ने की प्रेरणा देने जा रहे हैं."

अयोध्या में मेहमानों को कार्ड बंटने शुरू, निमंत्रण पत्र पर सिक्योरिटी कोड: चंपत राय

बता दें कि पश्चिमी महाराष्ट्र के सांगली के कट्टर हिंदुत्ववादी नेता संभाजी भिड़ को पहले मनोहर भिडे के नाम से जाना जाता था. भिडे शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान नामक एक संगठन के प्रमुख हैं. भिडे के चाहने वालों की लिस्ट बड़ी है जिनमें पीएम नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें