scorecardresearch
 

अजित पवार हुए 'कमजोर'...तो क्या NCP में सुलझ गया उत्तराधिकार का मुद्दा?

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे के बाद महाराष्ट्र में राजनीतिक उथल-पुथल फिलहाल थमता दिख रहा है और गुरुवार को नई सरकार शपथ ले रही है, लेकिन पूरे राजनीतिक घटनाक्रम के केंद्र में रही एनसीपी. एक महीने के सियासी उतार-चढ़ाव में सबसे ज्यादा फायदा एनसीपी को ही मिलता दिख रहा है.

अजित पवार के बागी होने से क्या वह NCP में कमजोर पड़ गए (फाइल-GettyImages) अजित पवार के बागी होने से क्या वह NCP में कमजोर पड़ गए (फाइल-GettyImages)

  • सियासी उतार-चढ़ाव में एनसीपी को मिली बड़ी बढ़त
  • NCP उत्तराधिकार विवाद में सुप्रिया को मिला फायदा
  • बागी तेवर दिखाने से अजित पवार को हो गया नुकसान

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे के बाद महाराष्ट्र में राजनीतिक उथल-पुथल फिलहाल के लिए थमता दिख रहा है और गुरुवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं. लेकिन पूरे राजनीतिक घटनाक्रम के केंद्र में रही राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को पिछले एक महीने के सियासी उतार-चढ़ाव में सबसे ज्यादा फायदा मिलता दिख रहा है.

वैसे तो सत्ता की बागडोर शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे के हाथों में होगी, लेकिन इस सरकार के गठन में निर्णायक भूमिका निभाने वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को कम से कम 3 मायनों में जोरदार फायदा हुआ. खासकर उत्तराधिकार के मामले में क्योंकि इस पूरे प्रकरण में बिना कुछ किए उत्तराधिकार का मामला भी सुलझ गया.

इसके अलावा महाराष्ट्र की सियासत में पवार का कद और बढ़ गया है. 79 साल की उम्र में भी उन्होंने दिखा दिया कि वो बेहद सक्रिय हैं. साथ ही नई सरकार में उनकी ठोस हिस्सेदारी भी रहेगी. चुनाव परिणाम आने के बाद लंबे समय तक एनसीपी और शरद पवार कहते रहे कि पार्टी विपक्ष में बैठेगी लेकिन अब वह सत्ता में साझीदार होने जा रही है.

अब माना जा सकता है कि शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले को पार्टी की बागडोर भी मिल सकती है. पार्टी की बागडोर के लिए शरद की बेटी सुप्रिया और अजित पवार के बीच लंबे समय से संघर्ष चल रहा है. लेकिन इस बागी तेवर से अजित की स्थिति कमजोर ही हुई है.

23 नवंबर की सुबह से बदली सियासत

23 नवंबर की सुबह बड़ा सियासी हलचल हुआ और अप्रत्याशित तरीके से देवेंद्र फडणवीस ने एनसीपी के बागी अजित पवार के साथ मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. अजित पवार ने चाचा शरद पवार और पार्टी के खिलाफ जाते हुए फडणवीस के साथ उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली.

जैसी की उम्मीद थी कि इस शपथ के बाद राज्य में सियासी सरगर्मी ने तेजी पकड़ी और हर ओर अपने-अपने विधायकों को बचाने का सिलसिला शुरू हो गया. शाम होते-होते एनसीपी ने विधायकों की बैठक बुलाकर अजित पावर को पार्टी के विधायक दल के नेता पद से हटा दिया और उनकी जगह जयंत पाटिल को यह जिम्मेदारी सौंप दी गई.

एनसीपी के मुखिया और 79 साल के बुजुर्ग शरद पवार ने पूरे मामले का नेतृत्व किया और अजित को मनाने का सिलसिला शुरू कर दिया. उन्होंने अजित को लेकर लगातार नरम बयान दिए और पार्टी के नेताओं को मनाने के लिए भेजते रहे. साथ ही अपने विधायकों को एक-एक कर जोड़ते भी रहे.

अजित पवार को मनाने की कोशिश

शरद पवार एक ओर अजित को मनाने के लिए अपने खास लोगों को भेजते रहे तो दूसरी ओर शिवसेना और कांग्रेस के साथ मिलकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया कि यह शपथ ग्रहण गलत है और नई सरकार से तुरंत फ्लोर टेस्ट कराने को कहा जाए. रविवार छुट्टी के दिन सुप्रीम कोर्ट की बेंच बैठी और इसने 3 दिन चली सुनवाई के बाद मंगलवार को आदेश जारी करते हुए कहा कि बुधवार शाम 5 बजे तक बीजेपी सरकार फ्लोर टेस्ट के जरिए बहुमत साबित करे.

gettyimages-1056108216_112719035557.jpgचाचा शरद पवार के साथ अजित पवार (GettyImages)

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देवेंद्र फडणवीस सरकार संकट में आ गई. शरद पवार ने जिस तेजी से अजित पवार पर पद से इस्तीफा देने और पार्टी से जुड़ने का नैतिक दबाव बनाया उससे लग रहा था कि वह ज्यादा समय तक दूर नहीं रह सकेंगे.

फ्लोर टेस्ट कराए जाने को लेकर कोर्ट का फैसला मंगलवार को करीब 11 बजे आया और इस फैसले के बाद दोपहर ढाई बजे के आसपास अजित पवार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. इस इस्तीफे के करीब एक घंटे बाद साढ़े 3 बजे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भी इस्तीफा देना पड़ गया. इस्तीफा देने के बाद अजित पवार फिर एनसीपी के साथ जुड़ गए. हालांकि उपमुख्यमंत्री पद का शपथ लेने के बाद भी वह लगातार यही कहते रहे कि शरद पवार ही हमारे नेता हैं और मैं एनसीपी में ही हूं.

क्या अजित ने खो दिया अपना रुतबा

हालांकि दोनों नेताओं के इस्तीफे के बाद विवाद तो खत्म हो गया, लेकिन अजित पवार की अपने चाचा की पार्टी एनसीपी में जो हैसियत थी, वो शायद नहीं रही. माना जा सकता है कि पूरे घटनाक्रम में सबसे ज्यादा नुकसान अजित पवार को ही हुआ है. अब यह सवाल सभी के जेहन में है कि पार्टी में उनका क्या कद रहेगा.

उद्धव ठाकरे की संभावित नई सरकार में अजित पवार को किसी तरह की जिम्मेदारी मिलती है या नहीं, या फिर उन्हें पार्टी के संगठनात्मक भूमिका में रखा जा सकता है.

अजित पहले भी शरद पवार को चुनौती दे चुके हैं. इस साल के मध्य में हुए चुनाव के दौरान शरद पवार ने ऐलान किया कि वह मावल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे, लेकिन इसी सीट से अजित पवार के बेटे पार्थ पवार ने भी चुनाव लड़ने का दावा ठोक दिया. अजित ने खासा दबाव डालकर शरद पवार को अगली पीढ़ी के नाम पर पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिया. हालांकि इस चुनाव अजित पवार के बेटे को हार का सामना करना पड़ा. फिर इसके बाद शरद पवार ने अपने एक दूसरे भतीजे को तरजीह देना शुरू कर दिया.

भाई के बागी होने पर सुप्रिया का दर्द

सुप्रिया सुले अपने पिता के संसदीय क्षेत्र बारामती से सांसद हैं और अजित पवार बारामती विधानसभा सीट से विधायक हैं. अजित पवार ने इस साल अक्‍टूबर में जब विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया तो सियासी हलकों में यह चर्चा होने लगी कि सुप्रिया और अजित के बीच अनबन है.

gettyimages-1056108198_112719035050.jpgबारामती से सांसद सुप्रिया सुले (फाइल-GettyImages)

चचेरे भाई के बागी तेवर के दिन सुप्रिया सुले ने निराशा जाहिर करते हुए कहा था कि जिंदगी में अब किसका भरोसा करें, इस तरह उन्हें कभी धोखा नहीं मिला था. हालांकि आज बुधवार को जब महाराष्ट्र विधानसभा में विधायकों को शपथ दिलाया जा रहा था तो प्रवेश द्वार पर दोनों नेता आपस में गले मिले. लेकिन हावभाव बता रहे थे कि अजित पवार अभी भी सामान्य नहीं हुए हैं.

पार्टी लाइन के उलट जाने से अजित पवार की वैल्यू में गिरावट तो आई ही है. पूरे घटनाक्रम को शांतिपूर्वक निपटाने में शरद पवार की बड़ी भूमिका रही. अजित पवार के बागी तेवर से शरद को थोड़ा फायदा भी हुआ होगा क्योंकि इस विवाद के बाद पार्टी में उनका कद और बढ़ गया. साथ ही बेटी सुप्रिया या फिर अजित में से किसे पार्टी की कमान सौंपी जाए इस दुविधा से वह बाहर निकल भी आए और अब वह निर्विवाद रूप से बेटी को पार्टी की बागडोर सौंप सकते हैं. अजित को पद नहीं सौंपने का सबसे बड़ा जवाब तो यही होगा कि वह पार्टी की दोफाड़ कराने की कोशिश कर चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें