scorecardresearch
 

MP उपचुनाव: आचार्य प्रमोद कृष्णन ने सीएम शिवराज को बताया मारीच, कंस और शकुनि का निचोड़

ताजा मामला शिवपुरी का है. जहां करैरा विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी त्यागी लाल जाटव के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचे आचार्य प्रमोद कृष्णम पहुंचे थे.

एमपी की 28 सीटों पर होने हैं विधानसभा उपचुनाव एमपी की 28 सीटों पर होने हैं विधानसभा उपचुनाव
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मध्य प्रदेश में होने हैं विधानसभा उपचुनाव
  • 'सीएम शिवराज मारीच, कंस और शकुनि का निचोड़'
  • आचार्य प्रमोद ने दिया बयान

मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाला विधानसभा उपचुनाव नेताओं के बिगड़े बोल के लिए सुर्खियों में है. अपने बयानों की वजह से नेताओं को चुनाव आयोग का नोटिस मिल चुका है लेकिन इसके बावजूद नेताओं की जुबान पर लगाम नहीं लग रही है. अब आचार्य प्रमोद कृष्णम ने मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान पर ही हमला बोल दिया है.

ताजा मामला शिवपुरी का है. जहां करैरा विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी त्यागी लाल जाटव के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित करने आचार्य प्रमोद कृष्णम पहुंचे थे. इस दौरान आचार्य ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तुलना मारीच, कंस और शकुनि से कर दी. सभा को संबोधित करने के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला करते हुए आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि मारीच राक्षस, कंस और शकुनि मामा को इकट्ठा कर दिया जाए तो एक मामा शिवराज बनता है. 

देखें: आजतक LIVE TV

सभा के दौरान अपने भाषण की शुरुआत में ही आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा, 'धार्मिक पौराणिक इतिहास में 3 तरह के मामाओं का जिक्र है. त्रेतायुग में पहला मामा हुआ मारीच, जिसने सीता माता के हरण के लिए प्रपंच रचा था. द्वापर के प्रारंभ में हुआ कंस मामा, जिसने देवकी के बच्चों का वध किया और तीसरा मामा महाभारत के दौर में शकुनि हुआ, पांडवों को छलने का षड्यंत्र रचा. लेकिन इन तीनों को मिला दो तब जाकर इनके निचोड़ से मामा शिवराज बना है'

ज्योतिरादित्य सिंधिया और समर्थक नेताओं पर जमकर बरसे
आचार्य प्रमोद कृष्णम यहीं नहीं रुके, उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थक उन नेताओं को भी जमकर खरी-खोटी सुनाई जिन्होंने कांग्रेस छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है. उन्होंने कहा, 'उपचुनाव तब होते हैं जब नेता मर जाता है लेकिन इंसान तो तभी मर जाता है जब उसका जमीर मर जाता है, यहां तो एक साथ 23 लोगों का जमीर मरा. धंधा, सौदा और खरीद फरोख्त करने वालो को मध्य प्रदेश की जनता ने चुना. इसमे जनता का दोष नहीं बल्कि उनका है जिन्होंने वोट का सौदा किया.

उन्होंने कहा, 'ये चुनाव कमलनाथ, दिग्विजय, सचिन पायलट का नहीं बल्कि जनता और गद्दारों का है. आप सब ने कमलनाथ को समर्थन दिया था. 15 साल और 15 माह की तुलना कर दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा'. इसी दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया को आचार्य प्रमोद कृष्णम ने बेहूदा और गद्दार आदमी कह डाला. प्रमोद कृष्णम ने कहा, 'सचिन पायलट की तुलना अभी किसी बेहूदे गद्दार आदमी से कर रहे थे, लेकिन उनकी कोई तुलना है. सचिन पायलट चाहते तो सीएम बन सकते थे लेकिन उन्होंने पार्टी में अपनी बात रखी और आज वो बड़ा नेता हैं'.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें