scorecardresearch
 

झारखंड: तस्वीर वायरल, जेल में 'दरबार' लगाते दिखे RJD प्रमुख लालू यादव

आरोप ये लगाए जा रहे हैं कि लालू यादव सजायाफ्ता हैं लेकिन जेल में उन्हें हर प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं. विपक्ष का आरोप है कि लालू यादव रिम्स के प्राइवेट वार्ड से ही अपनी राजनीति चला रहे हैं.

लालू यादव की वायरल तस्वीर लालू यादव की वायरल तस्वीर

  • वार्ड में मोबाइल पर बात करते दिखते लालू यादव
  • साथ में झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस नेता

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता और कांग्रेस प्रवक्ता शमशेर आलम के साथ राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) अध्यक्ष लालू यादव की एक तस्वीर सामने आई है. इस तस्वीर ने एक नए विवाद को जन्म दे दिया है जिसमें जेल नियमावली की धज्जियां उड़ाने के आरोप लगाए जा रहे हैं. सवाल उठ रहे हैं कि लालू यादव जब जेल में बंद हैं तो फिर इस प्रकार के राजनीतिक जमावड़े कैसे लगाए जा सकते हैं.

जो तस्वीर वायरल हो रही है उसमें लालू यादव मोबाइल पर कुछ बात करते दिख रहे हैं जबकि उनके बगल में झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस प्रवक्ता बैठे हैं. सभी लोग हल्के मूड में दिख रहे हैं और आपस में बात कर रहे हैं. आरोप ये लगाए जा रहे हैं कि लालू यादव सजायाफ्ता हैं लेकिन जेल में उन्हें हर प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं. विपक्ष का आरोप है कि लालू यादव रिम्स के प्राइवेट वार्ड से ही अपनी राजनीति चला रहे हैं. वार्ड में ही वे आरजेडी, कांग्रेस नेताओं और समर्थकों से मिलते जुलते हैं. लालू यादव 2017 से रिम्स में दाखिल हैं.

इस तस्वीर के सामने आने के बाद बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल सहदेव ने कहा कि लालू यादव की ओर से जेल नियमावली का घोर उल्लंघन किया जा रहा है. सहदेव ने कहा कि लालू यादव रिम्स में लगातार दरबार लगाते हैं. यहां तक कि झारखंड की प्रदेश सरकार भी जेल से ही चल रही है. सहदेव ने केंद्र सरकार से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. उन्होंने कहा कि हम प्रदेश सरकार से किसी कार्रवाई की उम्मीद नहीं कर सकते क्योंकि वह आरजेडी और कांग्रेस के रहमोकरम पर चल रही है.

वायरल तस्वीर को लेकर प्रदेश के गृह सचिव, मुख्य सचिव और जेल आईजी से संपर्क साधने की कोशिश की गई लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया. यह पहली बार नहीं है जब लालू यादव की ओर से जेल नियमावली के उल्लंघन की घटना सामने आई है. जानकार बताते हैं कि बीजेपी के राज में जेल नियमावली का सख्त पालन होता था और शनिवार को सिर्फ तीन लोगों को ही लालू यादव से मिलने की इजाजत थी. लेकिन अब ऐसा नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें