scorecardresearch
 

झारखंड: नक्सली हमले में मारे गए 64 लोगों के परिजनों को दी सरकारी नौकरी

सरकार ने प्रावधान के मुताबिक नक्सली वारदात में मारे गए 64 सामान्य नागरिकों के आश्रितों को नियुक्ति पत्र दिया है. इसमें से सिर्फ खूंटी जिला के 41 आश्रित परिवार हैं.

सामान्य नागरिकों के आश्रितों के नियुक्ति पत्र सामान्य नागरिकों के आश्रितों के नियुक्ति पत्र

  • झारखंड में नक्सली हमले में मारे गए थे लोग
  • प्रावधान के मुताबिक सामान्य नागरिकों को मिली नौकरी

झारखंड में राज्य गठन के बाद से ही नक्सलियों ने तांडव मचाया है. नक्सली वारदात में पुलिसकर्मी तो शहीद हुए ही हैं. कई सामान्य नागरिकों ने भी अपने प्रियजनों को खोया है. झारखंड सरकार ने दिवाली के तोहफे के तौर पर नक्सली वारदात में मारे गए  64 सामान्य नागरिकों के परिवार को सरकारी नौकरी का नियुक्ति पत्र दिया.

जानकारी के मुताबिक नक्सली वारदात में मारे गए सामान्य नागरिकों के परिवार हक के लिए गुहार लगाते रहे. देर से ही सही सरकार ने दिवाली के खास मौके को देखते हुए दीवाली के तोहफे के रूप में नक्सली वारदात में मारे लोगों के परिवार वालों को सरकारी नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंपा है.

बताया जा रहा है कि सरकार ने प्रावधान के मुताबिक नक्सली वारदात में मारे गए 64 सामान्य नागरिकों के आश्रितों के नियुक्ति पत्र दिया है. इसमें से सिर्फ खूंटी जिला के 41 आश्रित परिवार हैं.

क्या कहता है सरकार का प्रावधान

दरअसल सरकार का प्रावधान है कि नक्सली वारदात में अगर कोई सामान्य नागरिक भी मारा जाता है तो उसके परिवार के किसी सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी. साथ ही मुआवजा भी दिया जाएगा. इस अवसर पे मुख्यमंत्री रघुवर दास और डीजीपी कमल नयन चौबे ने कहा कि अक्सर ये शिकायत आती थी कि नक्सली हमले में मारे गए लोग अपने ही वाजिब हक के लिए दौड़ रहे हैं. मगर उन्हें मुआवजा और नौकरी नहीं मिल पा रहा है.

आगे उन्होंने कहा कि लिहाजा इस बार तमाम अड़चनों को दूर कर 64 लोगों को नौकरी दी जा रही है. ये नौकरी मारे गए इंसान को तो वापस नहीं ला सकता, लेकिन उनके परिवार के लिए रोजी-रोटी और सम्मान से जीने का जरिया जरूर बन सकता है.

वहीं नौकरी पाने वाले परिवार खुश तो हैं लेकिन इस हक को पाने के लिए किसी को 10 साल लग गए तो किसी को 6 साल से भी ज्यादा. हालांकि दीवाली के पहले सरकार का ये सरकारी तोहफा तोहफे से अपनो को खोने वालों के जख्मों पर मरहम तो लगाने का काम कर रही है. जाहिर है सरकार इस कदम से सरकार जनता को संदेश भी देना चाहती है कि वो जनता के साथ है और चुनाव में जनता भी अब उसका साथ दे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें