scorecardresearch
 

जबरन उड़ान विवाद में घिरे BJP सांसद निशिकांत दुबे, जवाब में देवघर DC के खिलाफ दर्ज कराई देशद्रोह की धारा में FIR

मामला एक सितंबर का है. इससे पहले झारखंड के कुंडा थाने में गोड्डा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे, मनोज तिवारी समेत 9 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज हुई थी. ये केस देवघर एयरपोर्ट के सुरक्षा प्रभारी सुमन आनंद की शिकायत पर दर्ज किया गया था. आरोप है कि देवघर में निशिकांत और मनोज तिवारी बिना अनुमति के हवाई यातायात नियंत्रण (ATC) रूम में घुस गए.

X
निशिकांत दुबे और देवघर के डीसी (फाइल फोटो)
निशिकांत दुबे और देवघर के डीसी (फाइल फोटो)

झारखंड के देवघर एयरपोर्ट के ATC रूम में घुसने का विवाद बढ़ता जा रहा है. अब भाजपा सांसद निशिकांत दुबे की शिकायत पर दिल्ली में एक एफआईआर दर्ज की गई है और इसमें देवघर के जिला आयुक्त (DC) के खिलाफ देशद्रोह के आरोप लगाए गए हैं. दिल्ली की नॉर्थ एवेंन्यू पुलिस ने जीरो एफआईआर दर्ज कर ली है. आगे की जांच के लिए इस प्राथमिकी को झारखंड के कुंडा थाने में भेजा जाएगा.

मामला एक सितंबर का है. इससे पहले झारखंड के कुंडा थाने में गोड्डा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे, मनोज तिवारी समेत 9 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज हुई थी. ये केस देवघर एयरपोर्ट के सुरक्षा प्रभारी सुमन आनंद की शिकायत पर दर्ज किया गया था. आरोप है कि देवघर में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे और मनोज तिवारी बिना अनुमति के हवाई यातायात नियंत्रण (ATC) रूम में घुस गए और कथित तौर पर एयरपोर्ट के अधिकारियों को चार्टर्ड प्लेन के टेक-ऑफ की मंजूरी के लिए दबाव डाला.

दुमका के पीड़ित परिवार से मिलने गए थे बीजेपी नेता

बता दें कि बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे, मनोज तिवारी और कपिल मिश्रा एक सितंबर को चार्टर्ड प्लेन से देवघर पहुंचे थे. बीजेपी का ये प्रतिनिधिमंडल दुमका में जिंदा जलाई गई छात्रा अंकिता के परिजन से मुलाकात करने गया था. दुमका से लौटने के बाद बीजेपी नेता देवघर एयरपोर्ट पहुंचे. यहां शाम 6 बजे तक ही उड़ान की इजाजत थी, लेकिन सांसद पर जबरन शाम 5.30 बजे क्लीयरेंस लेने का आरोप लगाया गया और मामला थाने तक पहुंच गया. प्राथमिकी में देवघर एयरपोर्ट के निदेशक संदीप ढींगरा का भी नाम है.

इन धाराओं में डीसी समेत पुलिस वालों पर केस

इस घटना के बाद सियासत गरमा गई थी. विपक्ष ने बीजेपी पर सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया तो जवाब में बीजेपी ने भी शनिवार को मोर्चा संभाला. सांसद निशिकांत दुबे ने दिल्ली के नॉर्थ एवेन्यू पुलिस स्टेशन में देवघर के जिला आयुक्त मंजूनाथ भजंत्री पर देशद्रोह समेत अन्य आरोप में एक जीरो प्राथमिकी दर्ज कराई. इस मामले में धारा 124A/353/448/201/506/120B IPC और Official secret Act के तहत केस दर्ज किया गया है. मामले में देवघर के डीसी मंजूनाथ और अन्य पुलिसवाले आरोपी बनाए गए हैं.

मनोज तिवारी बोले- हमें अंदर जाने का अधिकार है

आजतक से बातचीत में बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि डीसी के खिलाफ जीरो एफआईआर दर्ज की गई है क्योंकि वे बिना किसी अधिकार के ATC में घुस गए थे. तिवारी ने कहा कि 'हमने सीसीटीवी फुटेज को अवैध रूप से एक्सेस करने पर देवघर डीसी के खिलाफ जीरो प्राथमिकी दर्ज करवाई है. इस तरह के फुटेज को पुनः प्राप्त करने की एक प्रक्रिया है, जिसका पालन नहीं किया गया था. हमने कुछ भी गलत नहीं किया. निशिकांत दुबे देवघर एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी के अध्यक्ष हैं. वे स्वतंत्र रूप से एयरपोर्ट में प्रवेश कर सकते हैं. मैं स्थायी समिति का सदस्य हूं. मुझे भी एयरपोर्ट में प्रवेश करने का अधिकार है.

उन्होंने कहा- 'देवघर एयरपोर्ट CISF के नहीं, बल्कि स्थानीय प्रशासन के अंतर्गत आता है. हम इससे इनकार नहीं कर रहे हैं. हम उन क्षेत्रों में प्रवेश कर चुके हैं लेकिन हमारे पास ऐसा करने का अधिकार है.

निशिकांत दुबे ने शिकायती पत्र में ये लिखा है...

'भारत सरकार के नियमों के अंतर्गत मैं देवघर एयरपोर्ट के एडवाइजरी कमेटी का चेयरमैन हूं. इस महीने की 31 तारीख को मैं शाम के 5:15 बजे देवघर एयरपोर्ट झारखंड से दिल्ली का विमान पकड़ने के लिए पहुंचा. मेरे साथ भाजपा के सांसद मनोज तिवारी भी थे, जो भारत सरकार के नागरिक विमानन विभाग के समिति के सदस्य हैं. विमान के अंदर हम लोग लगभग 5:25 बजे अपनी सुरक्षा जांच कर पहुंच गए. आपकी जानकारी के लिए पिछले कुछ दिनों से देवघर एयरपोर्ट पर विमान का आवागमन नाइट लैंडिंग सुविधा नहीं रहने के कारण बाधित हो रही है, जिसका केस झारखंड हाईकोर्ट में लंबित है, उस केस की सुनवाई इसी महीने होगी. इस सिलसिले में एयरपोर्ट डायरेक्टर से मैंने जानकारी लेने के लिए उनके कार्यालय जाने का निर्णय उनसे बात कर लिया. चूंकि समय कम था, इसलिए मैंने नंगे पांव ही जल्दबाजी में जाने का फैसला किया. इस दौरान झारखंड पुलिस के अधिकारी और कर्मचारियों ने मुझे जाने से रोका और मेरे दोनों बेटों जो मेरे चप्पल लेकर आ रहे थे उनके साथ गाली-गलौच की. मुझे जान से मारने की धमकी दी. मेरे कार्य में बाधा पहुंचाने का काम देवघर के जिला उपायुक्त मंजूनाथ के कहने पर किया गया, इसका खुलासा दूसरे दिन हुआ, जब वो बिना इजाजत के देवघर के एयरपोर्ट के सुरक्षा क्षेत्र में डीआरडीओ के रिस्ट्रिक्टेड क्षेत्र में गये, जहां जाने की अनुमति सिर्फ प्रधानमंत्री कार्यालय देता है. वहां एयरपोर्ट डायरेक्टर ने उनको समझाने का प्रयास किया. इस पर उन्होंने अपने रसूख का धौंस दिखाया. मेरे कार्य में बाधा पहुंचाने, बिना इजाजत डीआरडीओ क्षेत्र में जाने और एयरपोर्ट डायरेक्टर को धौंस दिखाकर जिला उपायुक्त देवघर ने देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया. मेरे कार्य में बाधा डाली, क्रिमिनल ट्रेस पास किया और मुझे जान से मारने की साजिश के लिये झारखंड पुलिस को उकसाया. इस मामले में उचित धाराओं में झारखंड पुलिस के ऊपर भी केस दर्ज किया जाये.'
- निशिकांत दुबे, सांसद, गोड्डा
चेयरमैन देवघर एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें