scorecardresearch
 

जम्मू कश्मीर में 'ऑपरेशन ऑल आउट', इस साल मारे गए सौ आतंकी, 30 थे पाकिस्तानी

जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों के ऑपरेशन ऑल आउट ने तेजी पकड़ ली है. सुरक्षाबलों ने इस साल अब तक सौ आतंकियों को मार गिराया है. मारे गए सौ में से 30 आतंकी पाकिस्तान के नागरिक बताए जा रहे हैं.

X
जम्मू कश्मीर में सेना ने तेज किया आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन (फाइल फोटोः पीटीआई)
जम्मू कश्मीर में सेना ने तेज किया आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन (फाइल फोटोः पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जम्मू कश्मीर में अब भी 158 आतंकी मौजूद
  • सीमा पार घुसपैठ की फिराक में दर्जनों आतंकी

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षा बलों ने लश्कर के तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है. इसके साथ ही जम्मू कश्मीर में इस साल मारे गए आतंकियों की तादाद बढ़कर सौ पहुंच गई है. जम्मू कश्मीर में अलग-अलग घटनाओं में सुरक्षा बलों ने इस साल अब तक सौ आतंकियों को मार गिराया है. मारे गए सौ में से 30 आतंकी पाकिस्तान के नागरिक बताए जा रहे हैं.

सुरक्षा बलों के सूत्रों ने बताया कि इस समय आतंकियों के खिलाफ अग्रेसिव ऑपरेशन चलाया जा रहा है. ऑपरेशन ऑल आउट के तहत चलाये जा रहे इस ऑपरेशन में सुरक्षा बलों का इस समय अपर हैंड है लेकिन आतंकी संगठन अभी भी घुसपैठ की फिराक में हैं. आतंकी संगठन भोले-भाले युवाओं को रेडिक्लाइज कर भर्ती करने की फिराक में हैं. सूत्रों की मानें तो कश्मीर घाटी में अब भी अलग-अलग संगठनों से जुड़े लगभग 158 आतंकी मौजूद हैं.

सूत्रों के मुताबिक इसमें सबसे ज्यादा आतंकी लश्कर-ए-तैयबा के हैं जिनकी संख्या 83 बताई जा रही है. वहीं जैश के 30 और हिजबुल मुजाहिदीन के 38 आतंकी कश्मीर घाटी में मौजूद हैं. पिछले कुछ दिनों की अगर बात करे तो सुरक्षा बलों ने आतंकियों के खिलाफ ताबड़तोड़ ऑपरेशन चलाया है. खुफिया एजेंसियां के मुताबिक पाकिस्तानी सेना ने एक दर्जन से ज्यादा आतंकी कैंप फिर से एक्टिव किए हैं.

घुसपैठ की कोशिश में लॉन्चिंग पैड पर आतंकी

आजतक के हाथ लगी खुफिया जानकारी के मुताबिक लश्कर, जैश और अफगानी आतंकी संगठनों के आतंकी उरी के सामने सीमा पार के लॉन्चिंग पैड पर एकत्रित हैं. इन आतंकियों की तादाद दर्जनों में है. पाकिस्तानी सेना और ISI की योजना अमरनाथ यात्रा में खलल डालने के लिए इन आतंकियों की कश्मीर में घुसपैठ कराने की है.

अमरनाथ यात्रा को लेकर जारी है अलर्ट

सुरक्षाबलों ने अमरनाथ यात्रा को लेकर छह अलर्ट जारी किए हैं. पहले अलर्ट में ये है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI आतंकियों के जरिये स्टिकी बम का सहारा लेकर अमरनाथ यात्रा रूट पर सुरक्षाबलों को निशाना बना सकती है. सूत्रों ने बताया कि इसके लिए आईएसआई नए रिक्रूट किए गए हाईब्रिड आतंकियों का इस्तेमाल करने की फिराक में है.

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक अमरनाथ यात्रा के दौरान लश्कर के आतंकी NH-44 पर हमला करने की फिराक में हैं. सुरक्षाबलों ने आतंकियों के इस प्लान को ध्वस्त करने के लिए जगह-जगह अर्धसैनिक बलों की 400 से ज्यादा कंपनियों को तैनात किया गया है. सुरक्षा बलों को ये इनपुट मिला है कि लश्कर के आतंकी बालटाल रूट पर कंगन के पास सुरक्षाबलों पर हमले की फिराक में हैं. सूत्रों की मानें तो इस रूट पर सुरक्षाबलों ने हाईटेक तैयारी कर ली है. हर जगह ड्रोन से निगरानी की जा रही है.

हाईब्रिड आतंकी कर सकते हैं हमला

सुरक्षा बलों ने अलर्ट जारी किया है कि हाईब्रिड आतंकी पंथा चौक के करीब गैर कश्मीरियों को अमरनाथ यात्रा के समय निशाना बनाने की फिराक में हैं. सुरक्षा एजेंसियों ने एक अलर्ट ये भी दिया है कि जैश के आतंकी सुमल हाजिन वाले रास्ते पर अमरनाथ यात्रा को लेकर तैनात सुरक्षाबलों और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों पर हमला करने की फिराक में हैं. इन सभी जगह सुरक्षाबलों ने चौकसी बढ़ा दी है.

ग्रेनेड हमले की फिराक में लश्कर के आतंकी

सुरक्षाबलों के सूत्रों की मानें तो लश्कर के आतंकियों का एक ग्रुप बालटाल अमरनाथ यात्रा रूट पर ग्रेनेड हमले की फिराक में है. सूत्रों के मुताबिक लश्कर के लोकल और हाईब्रिड आतंकी लतीफ उर्फ अहमद राथर को ये टास्क दिया गया है. सुरक्षाबलों ने इस रूट पर सुरक्षा के तगड़े इंतजाम कर रखे हैं. सुरक्षाबल आतंकियों की नापाक कोशिशों को नाकाम करने के लिए अतिरिक्त चौकसी बरत रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें