scorecardresearch
 

J-K: मां-बाप गुहार लगाते रहे, आतंकियों ने कर दिया 10 साल के बच्चे का कत्ल

घाटी में जारी एनकाउंटर के बीच सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें 10 साल के आतिफ मीर के परिजनों और स्थानीय लोग आतंकियों से उसे छोड़ने की गुहार लगा रहे हैं. वीडियो में दिख रहा है कि लोग आतंकियों से 10 साल के बच्चे आतिफ मीर को छोड़ने को कह रहे हैं, लेकिन इसका उन पर कोई असर नहीं पड़ा

10 साल के बच्चे को छोड़ने की गुहार लगाता उसका दादा (फोटो-वीडियोग्रैब) 10 साल के बच्चे को छोड़ने की गुहार लगाता उसका दादा (फोटो-वीडियोग्रैब)

जम्मू-कश्मीर में पिछले 24 घंटे में 4 अलग-अलग जगहों पर हुए एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने 7 आतंकियों को मार गिराया है. शुक्रवार को बांदीपोरा जिले में सुरक्षा बलों ने लश्कर के 2 आतंकियों को मार गिराया. इस बीच बांदीपोरा एनकाउंटर में 2 आतंकी भी मारे गए. बांदीपोरा के हाजीन क्षेत्र में हुए एनकाउंटर के दौरान आतंकियों ने 10 साल के एक बच्चे को अपने कब्जे में ले लिया था, जिसे बाद में उन लोगों ने मार डाला.

इस बीच सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें 10 साल के आतिफ मीर के परिजनों और स्थानीय लोग आतंकियों से उसे छोड़ने की गुहार लगा रहे हैं. वीडियो में दिख रहा है कि लोग आतंकियों से 10 साल के बच्चे आतिफ मीर को छोड़ने को कह रहे हैं, लेकिन इसका उन पर कोई असर नहीं पड़ा और आतंकियों ने उस बच्चे का निर्दयता से कत्ल कर दिया. 24 घंटे तक एनकाउंटर के बाद आज सुरक्षा बलों की ओर से घटनास्थल पर की गई तलाशी के बाद 2 आतंकियों के साथ इस बच्चे का शव भी मिला.

लश्कर के दोनों आतंकी अली भाई और हुजैफ जो पिछले 5-6 सालों से घाटी में आतंकी गतिविधियों में सक्रिय थे, इस एनकाउंटर में मारे गए हैं. अली भाई के बारे में कहा जा रहा है कि वह पाकिस्तान से आया था. इन आतंकियों ने इसी परिवार में शरण ले रखी थी. कल शाम को यहां पर एनकाउंटर शुरू हुआ जिसमें 2 लोग फंस गए थे, लेकिन रात में एक बुजुर्ग को वहां से निकाल लिया गया. हालांकि 10 साल का बच्चा नहीं निकल सका और आतंकियों की गिरफ्त में आ गया. इसके बाद बच्चे के दादा-दादी के अलावा माता-पिता और अन्य परिजनों की ओर से लगातार गुहार लगाते रहे, लेकिन आतंकियों ने बच्चे को भी मार गिराया.

एनकाउंटर के दौरान यह बच्चा आतंकियों की गिरफ्त में था और उसके परिजन उन आतंकियों से उसकी जिंदगी के लिए दुहाई मांग रहे थे. मासूम आतिफ मीर के पिता आतंकियों से यह कह रहा था, 'यह कोई जिहाद नहीं है यह जहलत है. अगर तुम मेहरबानी करके इन को छोड़ दोगे फिर तुम जिहाद करो वो दूसरी बात है. मगर इनको नबी के सदके छोड़ दो यह ठीक नहीं है. तुम हम को भी मुसीबत में डाल रहे हो और खुद को भी. मेहरबानी करके नबी के सदके इनको छोड़ दो.

वहीं उसकी मां भी आतंकियों से अपने बच्चे के लिए ऊपरवाले की दुहाई देते हुए छोड़ने की बात कह रही है. मां आतंकियों से कहती है 'मैं गुज़ारिश करती हूं कि इसको छोड़ दो. नबी के सदके खुदा का वास्ता है, मेहरबानी करो हम पर. इनको छोड़ दो. तुम खाते-पीते थे हमारे पास. मेहरबानी करके मेरे पति और बेटे को छोड़ दो. नबी के सदके इनको छोड़ दो. हम पर मेहरबानी करो. हमने इतनी क्या गलती की है.

घाटी में सुरक्षा बलों के साथ एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने भारी मात्रा में हथियार बरामद किया जिसे बाद में दिखाया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें