scorecardresearch
 

J-K: सोपोर में युवक की मौत के बाद बवाल, महिलाओं का प्रदर्शन, इंटरनेट बंद

एक स्थानीय युवक की मौत के बाद लोगों का गुस्सा भड़क उठा है. परिवार का आरोप है कि युवक की मौत पुलिस हिरासत में हुई, जबकि पुलिस का दावा है कि युवक, आतंकियों का मददगार था और कस्टडी से भाग गया था.

इसी युवक की मौत के बाद बवाल हो रहा है इसी युवक की मौत के बाद बवाल हो रहा है

जम्मू-कश्मीर के सोपोर में हालात तनावपूर्ण है. दरअसल, यहां पर एक स्थानीय युवक की मौत के बाद लोगों का गुस्सा भड़क उठा है. परिवार का आरोप है कि युवक की मौत पुलिस हिरासत में हुई, जबकि पुलिस का दावा है कि युवक, आतंकियों का मददगार था और कस्टडी से भाग गया था.

पुलिस का कहना है कि युवक, आतंकियों का मददगार यानी ओजीडब्लू (ओवर ग्राउंड वर्कर) था. आतंकियों के खिलाफ चलाए गए एक ऑपरेशन के दौरान उसे कस्टडी में लिया गया था, लेकिन वह भाग गया था. हालांकि, स्थानीय लोग पुलिस की दलील को नहीं मान रहे हैं और बड़ी संख्या में महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं. बवाल को देखते हुए इंटरनेट बंद कर दिया गया है.


पुलिस का कहना है कि 15 सितंबर को करीब 12.45 पर ओजीडब्लू इरफान अहमद डार को दो चीनी हैंड ग्रेनेड के साथ पकड़ा गया था. इस मामले में सोपोर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी. इरफान अहमद डार को चिरादाजी क्षेत्र के तुज्जर-शरीफ ले जाया गया, ताकि और भी हथियारों को बरामद किया जा सके.

पुलिस की माने को अंधेरे का फायदा उठाकर इरफान अहमद डार फरार हो गया. उसकी फरारी का मुकदमा भी दर्ज किया गया. तलाशी के दौरान स्टोन खदान से ओजीडब्ल्यू का शव मिला. शव को पास के पीएचसी में ले जाया गया, जहां मेडिकल और अन्य कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद लाश का अंतिम संस्कार कर दिया गया. मामले की जांच की जा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें