scorecardresearch
 

PoK में लॉन्च पैड पर आतंकियों का जमावड़ा, LoC पर सेना मुस्तैद

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक सरहद के उस पार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और पाकिस्तानी सेना अब भी कई लॉन्चपैड पर बड़ी तादाद में आतंकियों का जमावड़ा करने में जुटे हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जम्मू कश्मीर में होने हैं डीडीसी चुनाव
  • चुनाव से पहले आतंकी घुसपैठ की कोशिश
  • सीमा पार लॉन्च पैड पर आतंकियों का जमावड़ा

जम्मू कश्मीर में एक दिन पहले ही सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में पाकिस्तान के चार आतंकियों को मार गिराया था. आतंकियों की एक बड़ी साजिश को सुरक्षाबलों ने नाकाम कर दिया, लेकिन खुफिया सूत्रों के मुताबिक जम्मू कश्मीर में खतरा अभी टला नहीं है. सूत्रों की मानें तो और भी आतंकी डीडीसी और पंचायत उपचुनाव से पहले वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं.

खुफिया इनपुट के बाद लाइन ऑफ कंट्रोल पर सुरक्षाबलों को अधिक मुस्तैद रहने के निर्देश दे दिए गए हैं. खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक सरहद के उस पार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और पाकिस्तानी सेना अब भी कई लॉन्चपैड पर बड़ी तादाद में आतंकियों का जमावड़ा करने में जुटे हैं. सूत्रों के मुताबिक कठुआ, साम्बा, आरएस पुरा, अरनिया और अब्दुलिया सेक्टर के सामने पाकिस्तान की सीमा के उस पार लॉंन्चिंग पैड 'मसरूर बड़ा भाई' है. इसके अलावा 'सुकमल', 'चपराल' और लूनी में मौजूद लॉन्चिंग पैड के आस-पास भी आतंकियों का मूवमेंट नोटिस किया गया है.

देखें: आजतक LIVE TV

सूत्रों की मानें तो ये सभी लॉन्चिंग पैड इंटरनेशनल बॉर्डर के काफी करीब हैं. आतंकी इस इलाके से घुसपैठ करने की कोशिश इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि यहां से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद नेशनल हाइवे का इस्तेमाल वे भागने के लिए कर सकते हैं. खुफिया सूत्रों ने यह जानकारी भी दी है कि इस चुनाव को पाकिस्तान हजम नहीं कर पा रहा है. इस वजह से पाकिस्तान ने LOC के उस पार लॉन्च पैड पर 300 से 350 आतंकियों का जमावड़ा कर रखा है, जिन्हें घाटी में बर्फबारी से पहले दाखिल कराने की मन्शा है.

आजतक के पास ऐसी एक्सक्लूसिव रिपोर्ट है कि पाकिस्तान अपने हैंडलर के जरिए कश्मीर घाटी में मौजूद हिजबुल के आतंकियों को यह निर्देश दे रहा है कि नेताओं को निशाना बनाया जाए. पाकिस्तानी आर्मी इतनी बौखलाई हुई है कि सीमा पार से 2020 में ही 15 नवंबर तक 4052 बार सीजफायर का उल्लंघन कर चुकी है. अकेले नवंबर के महीने में ही अब तक 130 से अधिक बार पाकिस्तानी सेना ने सीजफायर तोड़े हैं. हालांकि, भारतीय सेना ने पाकिस्तान की इस हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया था और पिन प्वाइंटेड टारगेट किया था, जिससे पाक आर्मी और आईएसाई में खलबली मची है.

लॉन्च पैड पर लाए जा रहे आतंकी

ख़ुफ़िया सूत्रों ने बताया कि गुरेज, मचल, तंगधार, केरन और उरी सेक्टर के सामने 20 ऐसे लॉन्च पैड हैं जहां से घुसपैठ की कोशिश की जा रही है. केल तेजियन, सरदारी, सोनार, लोसार, शेरखान टॉप, दूधनियाल ठमुगम जूरा जैसे महत्वपूर्ण लॉन्च पैड हैं, जहां पर अब भी आतंकी लाए जा रहे हैं. गुरेज सेक्टर के ठीक सामने सोनार, लोसार और शेर खान टॉप लॉन्च पैड पर जैश और लश्कर के 61 आतंकी मौजूद हैं.

सेना के सुरक्षा घेरे में हैं आतंकी

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान की सेना ने इस साल नौशेरा, राजौरी और पुंछ इलाके में सबसे अधिक सीजफायर तोड़े हैं. इसके पीछे जम्मू से सटे इलाके से घुसपैठ कराने की मन्शा को प्रमुख वजह बताया जा रहा है. खुफिया सूत्रों की मानें तो पाकिस्तानी सेना और आईएसआई भारतीय सुरक्षा बलों की ओर से किए गए पिन प्वाइंटेड टार्गेट से डरे हुए हैं. आतंकियों को लॉन्च पैड्स पर सुरक्षा के लिहाज से पाकिस्तानी सेना के सुरक्षा घेरे में रखा जा रहा है. पाकिस्तानी सेना अपनी फॉरवर्ड पोस्ट पर कंक्रीट बंकर्स का भी निर्माण करा रही है. अंडरग्राउंड बंकर्स भी बनवाए जा रहे हैं, जिससे आतंकियों को किसी की नजर में आए बगैर छिपा कर रखा जा  सके.

सरहद पार स्थित जुरा, खोई, छेजुआ लॉंन्च पैड पर भी बड़ी तादाद में आतंकी लाए गए हैं. गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में डीडीसी और पंचायत उपचुनाव के लिए आठ चरणों में चुनाव होने हैं. 28 नवंबर से लेकर 19 दिसंबर तक आठ फेज में चुनाव होगा. चुनाव के नतीजे 22 दिसंबर को आने हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें