scorecardresearch
 

-15 डिग्री तापमान, बर्फ का पहाड़ और 5 जवानों की जिंदगी के लिए जंग जारी

KINNAUR AVALANCHE किन्नौर जिले में हिम्स्खलन आने के बाद फंसे जवानों को निकालने के लिए मशक्कत आज भी जारी है. बुधवार रात को सर्च ऑपरेशन रोका गया था, लेकिन बुधवार सुबह एक बार फिर ऑपरेशन शुरू होगा.

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में हिमस्खलन होने के कारण सेना के कई जवान फंस गए हैं. बुधवार को हुए इस हादसे में कुल फंसे 6 जवानों में से एक जवान शहीद हो गया. जबकि बाकी फंसे 5 जवान अभी भी मौत से जंग लड़ रहे हैं जिन्हें निकालने के लिए गुरुवार को एक बार फिर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाएगा. ये सभी जवान भारत-चीन सीमा पर तैनात थे.

गुरुवार को एक बार फिर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाएगा. हालांकि, ये इतना आसान भी नहीं है क्योंकि इस समय किन्नौर जिले का तापमान -15 डिग्री पहुंच गया है. जबकि, लगातार हो रही बर्फबारी से वहां कई इंच तक बर्फ जमा हो गई है.

जिसकी वजह से रेस्क्यू ऑपरेशन में मशक्कत करनी पड़ रही है. रेस्क्यू ऑपरेशन में सेना, ITBP और BRO की मशीनें लगी हुई हैं, कुल 250 जवान इन जवानों को निकालने में मदद कर रहे हैं.

जवान रमेश कुमार हुए शहीद

बुधवार को हादसे के बाद किन्नौर के उपायुक्त गोपालचंद ने बताया कि एक जवान का शव बरामद हुआ है जबकि पांच अन्य का अब तक पता नहीं चला है. जिस जवान का शव मिला है, उसकी पहचान हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के घुमारपुर गांव के रमेश कुमार (41) के रूप में हुई है. वह सेना की जम्मू कश्मीर राइफल्स में थे.

कुल 16 जवान थे मौजूद

यहां ग्लेशियर गिरने के कारण शिपकाला में देर रात हिमस्खलन आया, जिस वजह से जवान फंस गए. सेना के अधिकारी के मुताबिक, भारत तिब्बत सीमा पुलिस के कई जवान भी हिमस्खलन में फंस गये थे. उन्हें सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया.

सेना के सूत्रों के अनुसार, 16 जवान एक क्षतिग्रस्त जलापूर्ति लाईन की मरम्मत के लिए नामागया से शिपकाला सीमा चौकी की ओर गए थे, उसी बीच हिमस्खलन हुआ एवं उनमें से छह उसमें दब गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें