scorecardresearch
 

सोनीपत-कुंडली बॉर्डर पर आंदोलनकारी किसान की हार्ट अटैक से मौत, पुलिस कर रही जांच

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन को लंबा वक्त हो गया है. बुधवार को सोनीपत-कुंडली बॉर्डर पर इस आंदोलन के दौरान एक किसान की मौत हो गई. किसान की मौत हार्ट अटैक आने से हुई है.

लंबे वक्त से चल रहा है किसानों का आंदोलन (फाइल फोटो: PTI) लंबे वक्त से चल रहा है किसानों का आंदोलन (फाइल फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सोनीपत-कुंडली बॉर्डर पर किसान की मौत
  • लंबे वक्त से आंदोलन में शामिल था किसान

राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन (Farmer Protest) अभी तक जारी है. पिछले एक साल में आंदोलन में हिस्सा लेने वाले कई किसानों की मौत हो गई है, बुधवार को इसमें एक और नाम जुड़ गया. सोनीपत-कुंडली बॉर्डर पर लंबे वक्त से धरना दे रहे किसान मनोज शर्मा की हार्ट अटैक से मौत हो गई है. अब पुलिस ने इस मामले को अपने हाथ में लिया है और जांच की जा रही है. 

किसान का पोस्टमॉर्टम किया जाना है, जिसके लिए शव को सिविल अस्पताल में भेजा गया है. जानकारी के मुताबिक, मृतक किसान सोनीपत (Sonipat) के गांव खानपुर कला का ही रहने वाला था. 35 वर्षीय मनोज शर्मा लंबे वक्त से कुंडली बॉर्डर पर धरना दे रहा था, वह भारतीय किसान पंचायत संगठन के बैनर तले यहां पर रुका हुआ था. 

बीती रात को जब खाना खाकर मनोज शर्मा KFC मॉल के पास बने अपने टेंट में सोया, तो सुबह उठ नहीं पाया. सुबह फिर डॉक्टरों की टीम ने उसे चेक किया और बाद में मृत घोषित कर दिया. इसके बाद पुलिस (Police) भी मौके पर पहुंची और मृतक किसान के पार्थिव शरीर को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया.  

किसान मनोज शर्मा की हुई है मौत (सबसे बाएं) (फाइल फोटो)


पोस्टमॉर्टम के बाद सौंपा जाएगा शव

इस मामले की जांच कर रहे पुलिस थाना में तैनात हेड कॉन्स्टेबल भूपेंद्र सिंह ने बताया कि हमें सूचना मिली थी कि केएफसी मॉल के सामने चल रहे आंदोलन में एक किसान की हृदय गति रुकने से मौत हो गई है. पुलिस के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम के बाद शव को परिजनों को दे दिया जाएगा. 

गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसानों का आंदोलन चल रहा है. इस आंदोलन को एक साल से अधिक हो गया है, इस दौरान कई किसानों की मौत भी हुई है. किसान संगठनों और भारत सरकार के बीच कई बार बातचीत भी हुई, लेकिन कोई हल नहीं निकल सका. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें